ताज़ा खबर
 

ABVP की रैली में शामिल होने के लिए पहुंचे स्वामी ओम, बाद में बिना कुछ कहे वापस लौटे, जानिए क्यों?

दिल्ली विश्वविद्यालय के रामजस कॉलेज में 22 फरवरी को हुई हिंसा का बवाल थमता दिखाई नहीं दे रहा है। स्वामी ओम को देखकर एबीवीपी कार्यर्ताओं ने उनकी वापसी की मांग को लेकर नारेबाजी शुरू कर दी।

Author March 3, 2017 1:03 AM
ABVP की रैली जैसे ही छात्र मार्ग से शुरू हुई बिग बॉस-10 के प्रतिभागी रहे विवादित स्वामी ओम भी शामिल होने पहुंच गए। (file Pic)

दिल्ली विश्वविद्यालय के रामजस कॉलेज में 22 फरवरी को हुई हिंसा का बवाल थमता दिखाई नहीं दे रहा है। संघ का छात्र संगठन अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (एबीवीपी) के गुरुवार के ‘सेव डीयू’ मार्च में बड़ी संख्या में छात्रों ने हिस्सा लिया। रैली की अगुआई डूसू के पदाधिकारियों के अलावा, विद्यार्थी परिषद के नेताओं ने की। चौंकाने वाली बात रही कि रैली जैसे ही छात्र मार्ग से शुरू हुई बिग बॉस-10 के प्रतिभागी रहे विवादित स्वामी ओम भी शामिल होने पहुंच गए। हालांकि एबीवीपी कार्यकर्ताओं ने उन्हें मार्च से वापस लौटा दिया। यह तब हुआ जब स्वामी ओम को देखकर एबीवीपी कार्यर्ताओं ने उनकी वापसी की मांग को लेकर नारेबाजी शुरू कर दी।

मामला को बढ़ता देख स्वामी ओम बिना कुछ कहे वहां से लौट गए। रैली छात्र मार्ग से शुरू होकर मेट्रो स्टेशन होते हुए खालसा कॉलेज, रामजस कॉलेज के सामने सड़कों से गुजरी और फिर कला संकाय में खत्म हुई। इसे देखते हुए दिल्ली पुलिस ने अतिरिक्त सतकर्ता बरती। सुरक्षा के पुख्ता प्रबंधक किए। रैली वाले रूट को कदम कदम पर पुलिस के जवानों ने घेर रखा था। गुरुवार सुबह से ही दिल्ली विश्वविद्यालय के नार्थ कैंपस में भारी संख्या में दिल्ली पुलिस के जवानों के अलावा पैरामिलिट्री तैनात की गई थी।

एबीवीपी नेता साकेत बहुगुणा ने कहा कि मार्च एबीवीपी का नहीं, बल्कि छात्रों का है। इसमें बड़ी संख्या में शिक्षक भी शामिल हुए। प्रदर्शनकारियों ने वाम के ‘आजादी-आजादी ’ वाले नारे पर तंज कसा और कहा कि देश से ऊपर कोई नहीं है। हमें आजादी और उन्माद में फर्क करना होगा। बोलने की आजादी का मतलब किसी को गाली देने का अधिकार नहीं होना चाहिए। डीयू छात्र संघ अध्यक्ष अमित तंवर ने कहा कि हम डीयू को जेएनयू नहीं बनने देंगे। देशविरोधी नारे लगाने वालों को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।

अपराध शाखा ने दो छात्रों के बयान दर्ज किए
रामजस कॉलेज में हुए संघर्ष की जांच करने वाली दिल्ली पुलिस ने दिल्ली विश्वविद्यालय के दो छात्रों का बयान दर्ज किया है जिन्हें कथित तौर पर अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (एबीवीपी) समर्थकों ने पीटा। पुलिस से मिली जानकारी के मुताबिक, सेंट स्फीफंस के दो छात्र एक लड़का और एक लड़की ने आरोप लगाया कि रामजस कालेज कैंटीन के बाहर एबीवीपी के छात्रों ने उनकी पिटाई कर दी। लड़की ने आरोप लगाया कि एबीवीपी समर्थकों ने पत्थर से उसे मारा। अपराध शाखा के दल को दोनों पक्षों से अब तक दो दर्जन शिकायतें प्राप्त हुई हैं, जिनमें ज्यादातर ईमेल पर बेमन टिप्पणी से है। कुछ शिकायतें मुख्य रूप से धक्कामुक्की या छेड़छाड़ की कोशिश से जुड़ी भी हैं। पुलिस बयान दर्ज करने के लिए छात्रों से संपर्क कर रही है। आइएसा कार्यकर्ताओं ने कहा है कि वे बयान दर्ज कराने आएंगे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App