ताज़ा खबर
 

जीवित पत्नियों का श्राद्ध-पिंडदान! वाराणसी में जुटे 150 से भी ज्यादा तलाकशुदा पति

उत्तर प्रदेश के वाराणसी में असफल हो चुकी शादी से जुड़ी यादों से छुटकारा पाने के लिए गंगा किनारे करीब 160 लोगों ने पूर्व पत्नी का पिंड दान और श्राद्ध किया। साथ ही तांत्रिक अनुष्ठान 'पिशाचनी मुक्ति' पूजा भी की गई।

Pitru Paksh, Pitru Paksh 2018, Pitru Paksh vidhi, Pitru Paksh puja, Pitru Paksh puja vidhi, Pitru Paksh worship, Pitru Paksh worship methods, shradh 2018, shradh, shradh vidhi, religion newsतस्वीर का प्रयोग प्रतीकात्मक तौर पर किया गया है। (Photo: ANI)

उत्तर प्रदेश के वाराणसी, जिसे लोग मोक्ष की नगरी भी मानते हैं, यहां काफी संख्या में पत्नी से विक्षुब्ध पति आ रहे हैं। बताया जाता है कि वाराणसी के मणिकर्णा घाट पर 150 से ज्यादा तलाकशुदा पतियों ने जीवित पूर्व पत्नियों का श्राद्ध व पिंडदान किया। टाईम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के अनुसार, कुछ ही दिनों पहले करीब 160 लोग यहां आये थे और बनारस के घाटों पर तलाक दे चुके पत्नी का अंतिम संस्कार किया था। इसके साथ ही ‘नारीवाद की बुराईयों’ का सामना करने के लिए तांत्रिक अनुष्ठान भी करवाया। हैरानी की बात ये है कि इन लोगों ने जिनका अंतिम संस्कार किया, वे अभी जीवित हैं, लेकिन इनसे अलग हो चुकी हैं। बनारस के घाटों पर अंतिम संस्कार करवाने आए पुरूष देश के अलग-अलग हिस्सों से थे और सेव इंडिया फैमिली फाउंडेशन (एसआईएफएफ) एनजीओ से जुड़े हुए थे। इन्होंने अपनी असफल हो चुकी शादी से जुड़ी यादों से छुटकारा पाने के लिए गंगा किनारे पूर्व पत्नी का पिंड दान और श्राद्ध किया। साथ ही ‘पिशाचिनी मुक्ति’ पूजा भी की गई।

रिपोर्ट के अनुसार, एसआईएफएफ और वास्तव फाउंडेशन के अध्यक्ष मुंबई निवासी अमित देशपांडे ने कहा कि, “मणिकर्णा घाट पर यह पूजा बुरी यादों को भूलने के लिए किया गया था।” एसआईएफएफ के संस्थापक राजेश वखरिया ने बताया कि, “कहा जाता है कि भारत में पितृसत्तात्मक समाज है, लेकिन यहां पति की सुरक्षा के लिए किसी तरह का अधिकार नहीं है। नेशनल क्राइम रिकॉर्ड्स के अनुसार भारत में हर 6.5 मिनट पर एक पति को पत्नी द्वारा मानसिक प्रताड़ना की वजह से आत्महत्या के लिए मजबूर किया जाता है।” हालांकि, एनसीआरबी द्वारा ‘पत्नी द्वारा मानसिक उत्पीड़न की वजह से आत्महत्या’ की कोई जानकारी नहीं दी है। एनसीआरबी डाटा मुख्य रूप से पुरूष और स्त्रियों द्वारा आत्महत्या के बाद उनके वैवाहिक स्थिति के आधार पर वर्गीकृत करता है।

बता दें कि बीते 3 अगस्त को भाजपा सांसद हरिनारायण राजभर ने संसद में प्रताडि़त पतियों के लिए पुरूष आयोग बनाने की मांग की थी। उस समय उनकी मांग पर लोगों ने चुटकी ली थी। लेकिन उनके इस मांग का अमित देशपांडे ने भी समर्थन किया। उन्होंने कहा कि, “हमने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पुरूष आयोग का गठन करने की मांग को लेकर एक ज्ञापन भेजा है।”

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 यूपी: कानपुर के SP ने की आत्‍महत्‍या की कोशिश, अस्‍पताल में भर्ती, हालत गंभीर
2 जम्‍मू-कश्‍मीर: सौतेले भाई ने दोस्‍तों संग 9 साल की बहन से किया गैंगरेप, फिर कर दी हत्‍या
3 “लव जिहाद” का शिकार बनाने वाले पति को हिंदू बनाएं- VHP ने दिया नुस्खा