ताज़ा खबर
 

पटना मेडिकल कॉलेज के पूर्व मेडिकल सुपरिंटेंडेंट के प्लॉट, फ्लैट, गाड़ी, बैंक बेलेंस ईडी ने किए अटैच

अटैच संपत्तियों का कुल मूल्य 3.14 करोड़ रुपये है। जांच में पाया कि पटना मेडिकल कॉलेज और अस्पताल (पीएमसीएच) के अधिकारियों ने दवाइयां, रसायन, उपकरण और मशीनें खरीदने के लिए कमीशन एजेंटों का सहारा लिया था।

ED attaches plots, flats, Patna, Ghaziabad, Pune, Bangalore, vehicles, balances in bank accounts, total Rs 3.14 crore property, Om Prakash Choudhary, former medical superintendent, Patnaईडी ने आरोप लगाया कि आवश्यक मात्रा में सरकारी खजाने को नुकसान हुआ। (सांकेतिक फोटो)

जांच निदेशालय (ईडी) ने पटना मेडिकल कॉलेज और अस्पताल के पूर्व अधीक्षक ओ पी चौधरी के खिलाफ मनी लॉन्ड्रिंग जांच में 3 करोड़ रुपये से अधिक की संपत्ति अटैच की है। प्रॉपर्टी ऑफ प्रिवेंशन ऑफ मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट (PMLA) के तहत अटैच संपत्तियों में पटना, गाजियाबाद, पुणे और बेंगलुरु में प्लॉट, फ्लैट और तीन चार पहिया वाहन और बैंक खातों में कुछ बैलेंस शामिल हैं।

एजेंसी ने कहा कि अटैच संपत्तियों का कुल मूल्य 3.14 करोड़ रुपये है। केंद्रीय एजेंसी ने एक बयान में कहा, ” जांच में पाया गया कि दवाइयां, रसायन, उपकरण और मशीनें पटना मेडिकल कॉलेज और अस्पताल (पीएमसीएच) के अधिकारियों द्वारा 2008-09 और 2009-10 के दौरान स्थानीय विक्रेताओं और कमीशन एजेंटों से इन वस्तुओं की खरीद के लिए निर्धारित दिशानिर्देशों के विपरीत खरीदे गए थे।

“तत्कालीन सुपरिटेंडेंट (ओपी चौधरी), तत्कालीन डिप्टी सुपरिटेंडेंट और उस समय पीएमसीएच के संबंधित संकाय प्रमुख, आपूर्तिकर्ताओं के साथ अन्य लोगों ने दवाइयां, रासायनिक अभिकर्मकों, मशीनों और उपकरणों को उच्च दर पर खरीदा था। ईडी ने आरोप लगाया कि आवश्यक मात्रा में सरकारी खजाने को नुकसान हुआ।

एंटी-मनी लॉन्ड्रिंग एजेंसी ने चौधरी और अन्य के खिलाफ PMLA के तहत विशेष सतर्कता इकाई, बिहार द्वारा दर्ज एफआईआर के आधार पर आईपीसी की धारा 120B और 420 के तहत अपराध की कमीशनिंग के लिए भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम, 1988 की 13 (1) (डी) के साथ जांच शुरू की थी।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 Bihar Elections 2020: कोरोना से अधिक बिहार के इस गांव में कैंसर से हाहाकार! डॉक्टर हैरान, लोग बोले- सरकार सुनने वाली नहीं, सब इलेक्शन के लिए पागल हैं…
2 भक्ति के भरोसे BJP की बंगाल में शक्ति? 2015 में मां काली के दरबार गए थे मोदी, अब शाह ने लगाई हाजिरी; 5 साल में यूं बढ़ता गया पार्टी का कद
3 महाराष्ट्र सरकार को सुप्रीम कोर्ट से झटका, अर्नब गोस्वामी की गिरफ्तारी पर रोक, विस सचिव को नोटिस
यह पढ़ा क्या?
X