ताज़ा खबर
 

महाराष्ट्र चुनाव में आयोग ने BJP आईटी सेल मेंबर को सौंपा सोशल मीडिया अकाउंट; आरोप पर ECI बोला- मांगी है रिपोर्ट

चुनाव आयोग की प्रवक्ता शेफाली शरण ने ट्वीट किया है कि मामले में पूरा विवरण और रिपोर्ट महाराष्ट्र के मुख्य निर्वाचन अधिकारी से मांगी गई है। शरण ने RTI कार्यकर्ता साकेत गोखले के एक ट्वीट के जवाब में ये बातें कही हैं। साकेत गोखले ने ही चुनाव आयोग पर ये आरोप लगाए हैं।

election commission, cec, sunil aroraचुनाव आयोग। (फाइल फोटो)

देशभर में निष्पक्ष चुनाव की जिम्मेदारी वाले चुनाव आयोग पर आरोप लगा है कि महाराष्ट्र विधान सभा चुनाव के दौरान सोशल मीडिया अकाउंट संभालने के लिए ऐसे लोगों की सेवा ली जो बीजेपी के आईटी सेल से जुड़े थे। इस आरोप पर चुनाव आयोग ने महाराष्ट्र के मुख्य निर्वाचन अधिकारी से रिपोर्ट मांगी है।

चुनाव आयोग की प्रवक्ता शेफाली शरण ने ट्वीट किया है कि मामले में पूरा विवरण और रिपोर्ट महाराष्ट्र के मुख्य निर्वाचन अधिकारी से मांगी गई है। शरण ने RTI कार्यकर्ता साकेत गोखले के एक ट्वीट के जवाब में ये बातें कही हैं। साकेत गोखले ने ही चुनाव आयोग पर ये आरोप लगाए हैं। साकेत गोखले ने अपने ट्वीट में कहा कि 2019 के महाराष्ट्र विधानसभा चुनावों में अपने सोशल मीडिया अकाउंट्स को संभालने के लिए चुनाव आयोग ने जिस फर्म को काम पर रखा था, वह वही फर्म थी जिसे भाजपा ने काम पर रखा था। यह फर्म भाजपा नेता के पास भी है।

गोखले ने बताया कि महाराष्ट्र के मुख्य चुनाव अधिकारी द्वारा पोस्ट किए गए सोशल मीडिया विज्ञापनों पर पता ‘202 प्रेसमैन हाउस, विले पार्ले, मुंबई’ था। उन्होंने दावा किया कि यह महाराष्ट्र के पूर्व सीएम देवेंद्र फडणवीस के करीबी रिश्ते वाली साइनपोस्ट इंडिया का भी पता था।

गोखले का आरोप है कि “202 प्रेसमैन हाउस पता का उपयोग सोशल सेंट्रल नामक एक डिजिटल एजेंसी द्वारा भी किया गया था। यह एजेंसी देवांग दवे के स्वामित्व में है, जो बीजेपी के युवा विंग भारतीय जनता युवा मोर्चा (BJYM) के लिए आईटी और सोशल मीडिया के राष्ट्रीय संयोजक हैं।”

गोखले ने ट्वीट, ‘यह बहुत आश्चर्यजनक है कि बीजेपी की आईटी सेल से सम्बन्ध रखने वाले व्यक्ति को चुनाव आयोग ने अपने सोशल मीडिया का काम दिया। एक ऐसे शख्स को जो उस समय महाराष्ट्र चुनाव में भारतीय जनता पार्टी का मीडिया संभाल रहा था।’ उन्होंने ट्वीट कर पूछा, “आखिर क्यों एक व्यक्ति को महाराष्ट्र के मुख्य निर्वाचन अधिकारी के कार्यालय का सोशल मीडिया अकाउंट हैंडल करने दिया गया जो बीजेपी आईटी सेल का सदस्य था?”

सोशल सेंट्रल ने भी अपनी वेबसाइट पर अपने क्लाइन्ट्स की लिस्ट में महाराष्ट्र चुनाव आयोग और महाराष्ट्र शासन लिखा है। दवे फीयरलेस इंडियन नाम से एक वेबसाइट भी चलाते हैं। इसके अलावा दवे ने फेसबुक पर “I Support Narendra Modi” पेज भी बना रखा है।

इस बीच, जब इंडिया टुडे टीवी ने देवांग दवे से संपर्क किया तो उन्होंने आरोपों को सिरे से खारिज कर दिया और कहा कि वे “पूरी तरह से आधारहीन” हैं। उन्होंने कहा कि इसका उद्देश्य उनकी प्रतिष्ठा को खराब करना है। देवांग दवे ने कहा,” हमारी कानूनी टीम डिटेल्स देख रही है और जल्द ही आगे की कार्रवाई के साथ आधिकारिक उत्तर देगी।”

गोखले ने कहा है कि इस खबर के मीडिया में आने के बाद शुक्रवार (24 जुलाई) को दोपहर तीन बजे तक बीजेपी और आरएसएस से जुड़े 138 लोगों के फोनकॉल आ चुके हैं। उन्होंने आश्चर्य जताया कि उनका नंबर सार्वजनिक कैसे हुआ?

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 राजस्थान: लोकसभा चुनाव में करारी हार के बाद से ही शुरू हो गई थी अंतर्कलह, कृषि मंत्री ने सादे कागज पर दे दिया था इस्तीफा
2 कानपुर: दोस्त ही निकले लैब टेक्निशियल के अपहरणकर्ता, किडनैपिंग के चार दिन बाद कर दी थी हत्या, इसके बाद ली 30 लाख की फिरौती
3 मेरे सामने आते तो मैं ही गोली मार देती, विकास दुबे के एनकाउंटर पर बोली पत्नी ऋचा दुबे
ये पढ़ा क्या?
X