Each household of this Arunachal Pradesh village become crorepati - अरुणाचल प्रदेश: करोड़पति बन गया इस गांव का हर एक परिवार - Jansatta
ताज़ा खबर
 

अरुणाचल प्रदेश: करोड़पति बन गया इस गांव का हर एक परिवार

रक्षा मंत्रालय ने जमीन अधिग्रहण के बदले तवांग जिले के बोमजा गांव के लिए 40.80 करोड़ रुपये का मुआवजा मंजूर किया था। गांव में सिर्फ 31 घर ही हैं, ऐसे में हर परिवार को एक करोड़ रुपये से ज्यादा का मुआवजा मिला।

Author नई दिल्ली | February 9, 2018 9:40 AM
अरुणाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री पेमा खांडू ने तवांग जिले के मुक्तो गांव में आयोजित विकास बैठक में हिस्सा लिया। (फोटो सोर्स: पेमा खांडू के टि्वटर अकाउंट से)

पूर्वोत्तर राज्य अरुणाचल प्रदेश के एक गांव के सभी परिवार करोड़पति हो गए हैं। जी हां! बोमजा गांव चीन और भूटान की सीमा से लगते तवांग जिले में स्थित है। भारतीय सेना ने यहां बेस विकसित करने के लिए गांव की 200 एकड़ जमीन का अधिग्रहण किया था। रक्षा मंत्रालय ने इसके एवज में ग्रामीणों के लिए 40.80 करोड़ रुपये से भी ज्यादा का मुआवजा जारी किया। दिलचस्प है कि इस गांव में महज 31 परिवार ही रहते हैं, ऐसे में हर परिवार को एक करोड़ रुपये से ज्यादा का मुआवजा मिला। एक परिवार को तो सबसे ज्यादा 6.73 करोड़ रुपये का मुआवजा मिला है। मुख्यमंत्री पेमा खांडू ने ग्रामीणों को मुआवजा वितरित किया। इसके साथ ही बोमजा एशिया के सबसे धनी गांवों की सूची में शामिल हो गया है। वैसे गुजरात के कच्छ जिले के माढ़ापुर गांव को भारत का सबसे धनी गांव माना जाता है। सीमाई इलाकों में चीन की बढ़ती गतिविधियों को देखते हुए भारत ने भी क्षेत्र में विकास की परियोजनाएं शुरू कर दी हैं।

बोमजा गांव 31 परिवारों में 29 को 1.09 करोड़ रुपये का मुआवजा दिया गया। एक परिवार को 2.45 करोड़ रुपया प्रदान किया गया, जबकि एक परिवार को सबसे ज्यादा 6.73 कारोड़ रुपये का भुगतान किया गया। सीएम पेमा खांडू ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में अरुणाचल प्रदेश सही दिशा की ओर अग्रसर है। उन्होंने बताया कि केंद्र सरकार की मदद से प्रदेश में विकास की रफ्तार बेहद तेज हो गई है। खासकर रेल, एयर और सड़क मार्ग विकसित करने पर ज्यादा ध्यान दिया जा रहा है। इसके अलावा डिजिटल क्षेत्र में राज्य प्रगति कर रहा है। मुख्यमंत्री ने बताया कि जमीन अधिग्रहण के बदले इस तरह के और मुआवजे वितरित किए जाएंगे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App