ताज़ा खबर
 
  • राजस्थान

    Cong+ 99
    BJP+ 81
    RLM+ 0
    OTH+ 19
  • मध्य प्रदेश

    Cong+ 114
    BJP+ 102
    BSP+ 3
    OTH+ 6
  • छत्तीसगढ़

    Cong+ 53
    BJP+ 26
    JCC+ 9
    OTH+ 1
  • तेलांगना

    TRS-AIMIM+ 82
    TDP-Cong+ 25
    BJP+ 6
    OTH+ 6
  • मिजोरम

    MNF+ 25
    Cong+ 10
    BJP+ 1
    OTH+ 4

* Total Tally Reflects Leads + Wins

‘तितली’ तूफान से भागलपुर में हंगामा, ट्रेन रुकने पर भीड़ ने स्टेशन में की तोड़फोड़

यह ट्रेन उड़ीसा होकर यशवंतलूर जाती है। मुसाफिरों ने हावड़ा में टिकट के पैसे मांगे। तो बबाल को टालने के लिए उन्हें भरोसा दिलाया कि पैसे भागलपुर स्टेशन पर मिल जाएंगे।

टिकट काउंटर और स्टेशन प्रबंधक ओंकार प्रसाद को घेर कर खड़े अंग एक्सप्रेस के गुस्से से भरे मुसाफिर।

अंग एक्सप्रेस ट्रेन को हावड़ा से वापस भागलपुर रवाना कर दिए जाने की वजह से गुस्से से भरे मुसाफिरों ने गुरुवार शाम यहां जमकर हंगामा किया और अपनी टिकट का किराया मांगा। उनका गुस्सा इस वजह से भी फूटा कि उन्हें सही-सही जबाव देने वाले रेलवे का कोई जिम्मेवार अधिकारी नहीं मिला। बल्कि मुसाफिरों की भीड़ देख आरक्षण और सामान्य टिकट काउंटर बंद कर कर्मचारी अंदर बंद हो बैठ गए।

दरअसल 12254 अंग एक्सप्रेस भागलपुर से यशवंतपुर (बंगलुरू) के लिए हफ्ते में एक रोज बुधवार को यहां से खुलती है। और इस ट्रेन में टिकटों की मारामारी रहती है। समय सारणी के मुताबिक यह ट्रेन मुसाफिरों को ले 10 अक्तूबर को दिन के 1 बजकर 20 मिनट पर रवाना हुई।

मगर बंगाल की खाड़ी से उठे चक्रवाती तूफान ” तितली ” की मौसम महकमा की चेतावनी की वजह से ट्रेन को हावड़ा में ही रोक दिया गया। यह ट्रेन उड़ीसा होकर यशवंतलूर जाती है। मुसाफिरों ने हावड़ा में टिकट के पैसे मांगे। तो बबाल को टालने के लिए उन्हें भरोसा दिलाया कि पैसे भागलपुर स्टेशन पर मिल जाएंगे। और ट्रेन को वापस भागलपुर के लिए रवाना कर दी। इसमें सफर कर रहे दिलीप कुमार , सीताराम मुरारका समेत कई यात्रियों ने इस संबाददाता को यहां आने पर बताया।

गुरुवार शाम करीब छह बजे ट्रेन जैसे ही भागलपुर स्टेशन पहुंची तो मुसाफिरों का हुजूम पहले तो टिकट काउंटर पर गया। फिर स्टेशन प्रबंधक के चेंबर में। मगर प्रबंधक ओंकार प्रसाद नहीं मिले। इधर से उधर भटकते मुसाफिर पहले से ही परेशान थे। बस आव देखा न ताव जोरदार हंगामा करना शुरू कर दिया। तोड़फोड़ की। भगदड़ की नौबत आ गई। स्टेशन पर दूसरी ट्रेन के इंतजार में खड़े दूसरे मुसाफिर इधर उधर भागने लगें।

रेलवे पुलिस जीआरपी और आरपीएफ के अधिकारी व जवान लाठी डंडों के साथ पहुंच गए। जीआरपी के प्रभारी सुधीर कुमार सिंह के मुताबिक यात्रियों की जायज मांग थी। इस वजह से समझाया गया। तब थोड़ा नरम पड़े। फिर बाद में स्टेशन प्रबंधक अपने दफ्तर में पहुंचे। और इनसे बात की। इनकी टिकट वापसी की बात मालदा डिवीजन की डीआरएम और मुख्य वाणिज्य प्रबंधक तक पहुंचाई। वहां से वापसी का आदेश मिलने की बात स्टेशन प्रबंधक ने कही है। तब मुसाफिरों का गुस्सा शांत हुआ।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App