scorecardresearch

पाबंदियों के कारण लोग कर रहे तय से अधिक भुगतान

कोरोना के बढ़ते मामले और ओमीक्रान के मद्देनजर राजधानी में रात 10 बजे से सुबह पांच बजे तक रात्रि कर्फ्यू लगा दिया गया है।

निर्भय कुमार पांडेय

कोरोना के बढ़ते मामले और ओमीक्रान के मद्देनजर राजधानी में रात 10 बजे से सुबह पांच बजे तक रात्रि कर्फ्यू लगा दिया गया है। पहले 11 बजे रात्रि कर्फ्यू लगाया जाता था। तब लोगों को दिक्कतं कम हो रही थी, लेकिन इसका समय रात दस बजे से किए जाने के बाद कारखानों, रेस्तरां और अन्य संस्थानों में काम करने वाले लोगों को अब अपने घरों तक पहुंचने के लिए कड़ी मशक्कत करनी पड़ती है। इसके साथ ही किराया भी अधिक चुकाना पड़ता है। इनमें से अधिकतर लोग ऐसे हैं, जो अपने कमरे तक पहुंचने के लिए या तो ई-रिक्शा से जाते थे या फिर सफर करने के लिए आटो का सहारा लेते थे, लेकिन रात्रि कर्फ्यू लग जाने के बाद सड़कों पर इन वाहनों की संख्या कम हो गई है।

यही कारण है कि अब लोगों को अधिक किराया चुकाने को मजबूर होना पड़ रहा है। मजदूर अधिक किराया देने का मजबूर हैं। वहीं वाहन चालकों को हमेशा नियमों के उल्लंघन की कार्रवाई का डर बना रहता है। यही कारण है कि वे समय से पहले वाहन चलाना बंद कर देते हैं। ओखला फेज-दो स्थित एक एक्सपोर्ट कारखाने में काम करने वाले विनय साहू ने बताया कि वे गोविंदपुरी में रहते हैं। पहले रात को दस रुपए किराया देकर अपने कमरे पर पहुंच जाते थे।

पढें राज्य (Rajya News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट