ताज़ा खबर
 

डूसू : संगठनों ने किए छात्रों को रिझाने के वादे

प्रदेश मंत्री भरत खटाना ने कहा कि एबीवीपी ने छात्रों की दृष्टि से एक बेहतर घोषणा पत्र तैयार किया है। घोषणा पत्र में जो मुद्दे शामिल हैं, उन्हें पूरा करने का प्रयास किया जाएगा। एबीवीपी की राष्ट्रीय मीडिया संयोजक ने कहा कि चुनाव से पहले खेल छात्रों के लिए अलग से खेल घोषणा पत्र भी जारी किया जाएगा।

डूसू चुनाव में चार सीटों पर जीत का दावा कर रही अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (एबीवीपी) का कहना है कि यदि उसे जीत मिलती है पर वह डूसू का आधा बजट छात्राओं से जुड़े मुद्दों पर खर्च करेगी

10 रुपए में भर पेट भोजन की व्यवस्था करेंगे : एनएसयूआइ

भारतीय राष्ट्रीय छात्र संगठन (एनएसयूआइ) ने दिल्ली विश्वविद्यालय छात्र संघ (डूसू) चुनाव के लिए अपने उम्मीदवारों से गुरुवार को मिलवाया। इस बार चुनाव में एनएसयूआइ नए मुद्दे और नए उद्देश्य के साथ उतर रही है। छात्र संगठन के चार कर्मठ उम्मीदवार मैदान में उतारे हैं। अध्यक्ष पद के लिए सन्नी छिल्लर, उपाध्यक्ष पद के लिए लीना, सचिव पद के लिए लीना और सह सचिव पद के लिए सौरभ यादव मैदान में हैं। छिल्लर शिवाजी कॉलेज से बीए संस्कृत के छात्र हैं और बॉस्केटबॉल के राष्ट्रीय स्तर के खिलाड़ी हैं। उन्होंने कहा कि अगर वह चुनाव जीतते हैं तो विश्वविद्यालय में एक ऐसी कैंटीन खुलवाएंगे जिसमें छात्रों को 10 रुपए में भरपूर भोजन मिले। उन्होंने कहा कि ‘हम हैं बेहतर भारत की आवाज, हम हैं एनएसयूआइ’ नारे के साथ एनएसयूआइ डीयू में छात्र हितों के लिए काम करेगी। लीना ने अपनी रसायन विज्ञान की पढ़ाई मिरांडा हाउस कॉलेज से पूरी की है और अब वह एमए बुद्धिस्ट में पढ़ रही हैं।

लीना बाबा साहेब आंबेडकर को अपना आदर्श मानते हुए महिला सुरक्षा, सामाजिक एकता, सामाजिक शिक्षा, दलित व पिछड़े वर्गों के संरक्षण और उनके कल्याण के लिए कार्य करने को अपनी प्राथमिकता मानती हैं। आकाश चौधरी अरबिंदो कॉलेज के छात्रसंघ अध्यक्ष रह चुके हैं। चौधरी अभी अपनी वकालत की पढ़ाई डीयू के कैंपस लॉ सेंटर से कर रहे हैं। सौरभ यादव मोती लाल नेहरू कॉलेज से बीकॉम पास के छात्र हैं। सौरभ राज्यस्तरीय शॉटपुट के खिलाड़ी हैं। उनका लक्ष्य खिलाड़ी छात्रों के लिए आहार दर में बढ़ोतरी की जाए और उसके लिए वे निरंतर संघर्ष करेंगे। एनएसयूआइ के राष्ट्रीय अध्यक्ष फिरोज खान ने कहा है कि इस बार एनएसयूआइ डीयू के छात्रों के लिए दस ,रुपए की थाली, महिला सुरक्षा, डीयू को उत्कृष्ट संस्थान का टैग जैसे बड़े मुद्दे लेकर छात्र संघ चुनाव में उतर रही है।

आधा बजट छात्राओं के लिए करेंगे खर्च : एबीवीपी

डूसू चुनाव में चार सीटों पर जीत का दावा कर रही अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (एबीवीपी) का कहना है कि यदि उसे जीत मिलती है पर वह डूसू का आधा बजट छात्राओं से जुड़े मुद्दों पर खर्च करेगी। इसके अलावा स्नातकोत्तर पाठ्यक्रमों में ‘एक पाठ्यक्रम, एक फीस’ की व्यवस्था लागू कराने के लिए संघर्ष करेगी। एबीवीपी ने डूसू चुनाव के लिए गुरुवार को प्रेस क्लब में अपना घोषणा पत्र जारी कर दिया।एबीवीपी के राष्ट्रीय महामंत्री आशीष चौहान, राष्ट्रीय मीडिया संयोजक मोनिका चौधरी, प्रदेश मंत्री भरत खटाना, अध्यक्ष पद के प्रत्याशी अंकिव बैसोया और सहसचिव पद की उम्मीदवार ज्योति चौधरी ने घोषणा पत्र जारी किया। इस मौके पर आशीष चौहाान ने कहा कि अभाविप शब्द में ही डूसू का घोषणा पत्र अंतर्निहित है। उन्होंने अभाविप का अर्थ अ-अकादिमक, खेल और सहपाठ्यचर्या में सुधार, भा-भारत प्रथम तथा भेदभाव रहित समाज, वि-विजन फॉर वर्ल्ड क्लास इंफ्रास्ट्रक्चर, प-प्रतिज्ञा महिला सुरक्षा तथा संवेदनायुक्त और भयमुक्त परिसर बताया।

अध्यक्ष पद के प्रत्याशी अंकिव ने बताया कि जीतने पर डूसू का आधा बजट छात्राओं व सामाजिक न्याय के लिए खर्च किया जाएगा। इसके साथ ही एससी/एसटी और आर्थिक रूप से कमजोर छात्रों के लिए उपचारात्मक कक्षाओं की व्यवस्था, केंद्रीय पुस्तकालय का समय चौबीस घंटे किए जाने की व्यवस्था की जाएंगी। उन्होंने कहा कि अब तक स्नातकोत्तर पाठ्यक्रमों के लिए कॉलेजों में अलग-अलग फीस की व्यवस्था है। चुनाव जीतने पर ‘एक पाठ्यक्रम, एक फीस’ की मांग को उठाया जाएगा। एबीवीपी सह-सचिव पद की प्रत्याशी ज्योति चौधरी ने परिसर में महिला सुरक्षा और सेनेटरी नैपकिन वेंडिंग मशीन सभी कॉलेजों व छात्रावासों में लगाने की बात रखी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App