ताज़ा खबर
 

बंगालः ममता के करीबी रहे दिनेश त्रिवेदी बने भाजपाई, नड्डा बोले- अब सही आदमी सही दल में आया

टीएमसी के कद्दावर नेता रहे दिनेश त्रिवेदी के भाजपा में शामिल होने पर जेपी नड्डा बोले- अब सही आदमी सही पार्टी में शामिल हुआ है।

Author Edited By कीर्तिवर्धन मिश्र कोलकाता | Updated: March 6, 2021 1:18 PM
Dinesh Trivedi, JP Naddaभाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा की मौजूदगी में पार्टी की सदस्यता ग्रहण करते दिनेश त्रिवेदी।

पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव से पहले तृणमूल कांग्रेस को झटके लगना जारी है। पार्टी के कद्दावर नेता और ममता बनर्जी के करीबी माने जाने वाले दिनेश त्रिवेदी शनिवार को भाजपा में शामिल हो गए। उन्होंने भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा और केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल की मौजूदगी में पार्टी की सदस्यता ग्रहण की। इस दौरान नड्डा ने फूल भेंटकर उनका स्वागत किया। नड्डा ने कहा कि त्रिवेदी एक सही आदमी हैं, जो कि गलत पार्टी के साथ थे।

त्रिवेदी ने भाजपा सदस्यता लेने के बाद टीएमसी और ममता का बिना नाम लिए कहा- “आज मेरे लिए स्वर्ण पल है। मुझे इसका इंतजार था। हम सार्वजनिक जीवन में इसलिए, क्योंकि जनता सर्वोपरि। कॉलेज के बाद नौकरी-धंधे में खास दिलचस्पी नहीं रही। एक पार्टी ऐसी होती है, जो परिवार सर्वोपिर होती है। वह ‘पॉलिटिकल फैमिली’ होती है, जबकि दूसरा होता है ‘जनता फैमिली’। मैं नाम लेना नहीं चाहता पर वहां परिवार की सेवा होती है।

भाजपा में शामिल हुए त्रिवेदी आगे बोले- “हम तंग आ चुके थे। हर जान-पहचान वाला, रिश्तेदार कहता था कि हमें हर काम में चंदा देना पड़ता है। यहां तक स्कूल निर्माण में भी चंदा लगता है। इतनी हिंसा, इतना भ्रष्टाचार। इससे जनता परेशान थी। आज बंगाल के लोग खुश हैं कि असली परिवर्तन होने जा रहा है। मैं जैसा हूं, जो भी हूं आदेश दीजिएगा। हम बंगाल की जनता के लिए काम करेंगे।

त्रिवेदी ने कहा कि बंगाल की जनता ने तृणमूल कांग्रेस को नकार दिया है। बंगाल की जनता तरक्की चाहती है वो हिंसा और भ्रष्टाचार नहीं चाहती। राजनीति कोई ‘खेला’ नहीं होता, ये एक गंभीर चीज है। खेलते-खेलते वो (ममता बनर्जी) आदर्श भूल गई हैं।

वहीं, भाजपा अध्यक्ष नड्डा ने कहा, “दिनेश त्रिवेदी जी ने सत्ता को दरकिनार करते हुए, विचार की लड़ाई लड़ते हुए उन्होंने अपना जीवन गुजारा है। तृणमूल कांग्रेस में भ्रष्टाचार, अवसरवादिता, लोकतंत्र की हत्या, संस्थाओं का गला घोंटना, ये सब कुछ विराजमान है। इसीलिए संवेदनशील और विवेकशील व्यक्तित्व के धनी दिनेश त्रिवेदी ने तृणमूल को छोड़कर आज भाजपा को जॉइन किया है।”

राज्यसभा से किया था TMC छोड़ने का ऐलान: बता दें कि राज्यसभा सांसद दिनेश त्रिवेदी ने पिछले महीने ही राज्यसभा से ऐलान किया था कि वे टीएमसी से इस्तीफा दे रहे हैं। इस दौरान उन्होंने कहा था, “मुझे जब बेस्ट सांसद का अवॉर्ड मिला तब भी कहा कि मेरे मां बाप ने हमें उस लायक बनाया। आज हम देखते हैं कि पूरी दुनिया हिंदुस्तान की तरफ देख रही थी। बहुत अच्छी तरह सबने मिलकर काम किया। प्रधानमंत्री ने सबको क्रेडिट दिया लेकिन नेतृत्व उनका था। हमारे प्रांत में जिस तरह से हिंसा हो रही है। मुझे बैठे-बैठे बड़ा अजीब लग रहा है। हम उस प्रदेश से आते हैं जहां रविंद्र नाथ टैगोर, खुदी राम बोस जैसे लोग हुए।

कौन हैं दिनेश त्रिवेदी?: दिनेश त्रिवेदी 2009 से 2019 तक बंगाल की बैरकपुर सीट से लोकसभा सांसद रहे हैं। इसके बाद उन्हें 2020 में राज्यसभा भेजा गया। त्रिवेदी पहले दो बार 1990-96 और 2002-2008 तक राज्यसभा सदस्य रह चुके थे। उन्हें केंद्र की मनमोहन सिंह सरकार में 2010 से 2011 तक स्वास्थ्य राज्यमंत्री और इसके बाद 2011 से 2012 तक रेल मंत्री की जिम्मेदारी सौंपी गई थी। उन्हें 2016-17 सत्र के लिए बेस्ट सांसद का अवॉर्ड दिया गया था।

Next Stories
1 टीवी डिबेट में गर्माया माहौल तो खड़े हो चीखने लगे पैनलिस्ट, भाजपा नेता से बोलीं SP की नेता- कवि सम्मेलन है क्या?
2 ‘वृंदावन कुंभ’: यमुना में स्नान तो क्या, प्रवेश भी संभव न हो पा रहा, कराएं शुद्ध जल का बंदोबस्त- साधु-संतों की PM मोदी से मांग
3 सेहत और पढ़ाई पर रहेगा सरकार का जोर, दिल्ली वालों के लिए होगा 65 हजार करोड़ रुपए से ज्यादा का बजट
ये पढ़ा क्या?
X