ताज़ा खबर
 

उत्तराखंड: निवेशक सम्मेलन से विकास की उम्मीदों को लगे नए पंख

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उम्मीद जताई कि जब 2025 में उत्तराखंड राज्य जब अपनी रजत जयंती मना रहा होगा, तब लोगों का समृद्ध उत्तराखंड का सपना पूरी तरह साकार हो जाएगा।

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत को यह सम्मेलन राजनीतिक ऊर्जा भी प्रदान कर गया। प्रधानमंत्री से लेकर गृहमंत्री तक ने मुख्यमंत्री रावत की इस पहल पर उन्हें बधाई दी।

उत्तराखंड के 18 सालों के इतिहास में पहली बार हुए दो दिवसीय निवेशक सम्मेलन ने राज्य के विकास की उम्मीदों को नए पंख लगाए हैं। राज्य में अब उड्डयन, परिवहन, आवासीय, सडक, पुल, सौर ऊर्जा, जैविक खेती, पर्यटन, साहसिक पर्यटन, आयुष तथा अन्य क्षेत्रों में विकास की अपार संभावनाएं बनी हैं। जहां पहला निवेशक सम्मेलन देश के जाने-माने उद्योगपतियों को अपनी ओर खींचने में सफल रहा, वहीं उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत को यह सम्मेलन राजनीतिक ऊर्जा भी प्रदान कर गया। प्रधानमंत्री से लेकर गृहमंत्री तक ने मुख्यमंत्री रावत की इस पहल पर उन्हें बधाई दी। यह सम्मेलन इस मायने में बेहद ऐतिहासिक और सफल रहा कि इसमें 1500 से ज्यादा उद्योगपतियों ने भाग लिया। साथ ही छह सौ एक निवेशकों ने एक लाख 20 हजार करोड़ रुपए के एमओयू किए। जो राज्य निर्माण के बाद अब तक किए गए आर्थिक क्षेत्र में सबसे ज्यादा एमओयू हैं।

निवेशक सम्मेलन में अडाणी ग्रुप के निदेशक प्रणव अडाणी, जेएसडब्ल्यू के अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक सज्जन जिंदल, महेन्द्रा ग्रुप के प्रबंध निदेशक पवन कुमार गोयनका, आइटीसी ग्रुप के अध्यक्ष संजीव पुरी, अमूल डेयरी के प्रबंध निदेशक आरएस सोढ़ी, पतंजलि योगपीठ के महामंत्री आचार्य बालकृष्ण, जापान के राजदूत कैंजी हिरमात्सु, चैक गणराज्य के राजदूत मिलन होवोरका, फिल्म सेंसर बोर्ड के अध्यक्ष प्रसून जोशी ने भाग लिया।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उम्मीद जताई कि जब 2025 में उत्तराखंड राज्य जब अपनी रजत जयंती मना रहा होगा, तब लोगों का समृद्ध उत्तराखंड का सपना पूरी तरह साकार हो जाएगा। उन्होंने मुख्यमंत्री के कई फैसलों को जिक्र करते हुए उत्तराखंड की जनता को स्प्रिचुअल इको जोन को विकसित कर विकास की एक नई सोच प्रदान की। प्रधानमंत्री ने मुख्यमंत्री को सलाह दी कि उत्तराखंड की आस्था और प्रकृति का लाभ पूरी दुनिया को मिलना चाहिए।

मुख्यमंत्री ने केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह के सामने ऐलान किया कि प्रधानमंत्री के बताए हुए मार्ग पर चलकर राज्य में स्प्रिचुअल ईको जोन की परिभाषा को नए रूप में परिभाषित किया जाएगा और उत्तराखंड धर्म तथा अध्यात्म से आर्थिर्की को जोड़ेगा। उन्होंने बताया कि निवेशक सम्मेलन की सबसे बडी सफलता यह रही कि अब तक एक लाख बीस हजार एक सौ पचास करोड़ रुपए के 601 एमओयू पर दस्तखत किए गए हैं। इन एमओयू के धरातल पर उतरने पर राज्य के साढ़े तीन लाख से ज्यादा लोगों को सीधे-सीधे रोजगार मिलेगा। साथ ही कृषि उत्पादों का मूल्य संवर्धन होने से किसानों की आय भी बढ़ेगी। वहीं राजनाथ सिंह ने राज्य की महिला अधिकारियों की तारीफ करते हुए कहा कि जिस कार्य में महिलाएं जुट जाएं वह कार्य स्वत: सफल हो जाता है। उत्तराखंड सरकार का सालाना बजट 45,585 करोड़ रुपए है और निवेशक सम्मेलन में एक लाख बीस हजार करोड़ रुपए के निवेशकों के प्रस्ताव आने से निश्चित ही राज्य की आर्थिर्की को पंख लगेंगे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App