ताज़ा खबर
 

मरीज की मौत पर हैलट अस्पताल में हुई तोड़फोड़

उत्तर प्रदेश के कानपुर में थाना स्वरूप नगर के हैलट अस्पताल में देर रात मरीज की मौत पर परिजनों ने जमकर हंगामा किया और अस्पताल के अंदर तोड़फोड़ की। इसकी सूचना मिलने पर पुलिस मौके पर पहुंची।

Author कानपुर | April 23, 2018 12:15 PM
उत्तर प्रदेश के कानपुर में थाना स्वरूप नगर के हैलट अस्पताल में देर रात मरीज की मौत पर परिजनों ने जमकर हंगामा किया और अस्पताल के अंदर तोड़फोड़ की। इसकी सूचना मिलने पर पुलिस मौके पर पहुंची।

उत्तर प्रदेश के कानपुर में थाना स्वरूप नगर के हैलट अस्पताल में देर रात मरीज की मौत पर परिजनों ने जमकर हंगामा किया और अस्पताल के अंदर तोड़फोड़ की। इसकी सूचना मिलने पर पुलिस मौके पर पहुंची। लेकिन अस्पताल के अंदर तोड़फोड़ करने वाले लोग मौका देख कर फरार हो गए। मिली जानकारी के अनुसार, कानपुर देहात के रसूलाबाद में रहने वाले कमलेश चंद्र एक हादसे में घायल हो गए थे। हादसे के दौरान कमलेश चंद्र के सिर पर गंभीर चोट आई थी। कमलेश चंद्र को कानपुर के हैलट अस्पताल में न्यूरो सर्जरी विभाग के आईसीयू में भर्ती कराया गया। देर रात कमलेश चंद्र की हालत बिगड़ गई, जिसकी जानकारी परिजनों ने डॉ.अनुराग राजौरिया को दी, लेकिन कुछ देर बाद मरीज की मौत हो गई। इसके बाद परिजनों ने डॉक्टर पर लापरवाही का आरोप लगाकर हंगामा करना शुरू कर दिया।

डॉ.अनुराग राजौरिया के मुताबिक, मरीज के दो रिश्तेदारों ने बहुत हंगामा किया और गाली-गलौच करते हुए इमरजेंसी विभाग का कांच तोड़ दिया। तोड़फोड़ की सूचना पर स्वरूप नगर के पुलिस इंस्पेक्टर मौके पर पहुंचे। उन्होंने युवकों की तलाश कराई, लेकिन वे नहीं मिले। पुलिस ने शव को कब्जे में लेते हुए पोस्टमॉर्टम के लिए रखवा दिया और तोड़फोड़ करने वालों की तलाश करने में जुट गई। इंस्पेक्टर राजीव सिंह ने बताया कि सूचना पर तुरंत वह मौके पर पहुंचे। वहां मृतक के कुछ रिश्तेदारों ने गाली-गलौच करते हुए तोड़फोड़ किया था और इसके तुरंत बाद अस्पताल से भाग गए थे।

अस्पताल द्वारा मिली जानकारी के अनुसार, मरीज कानपुर देहात के रसूलाबाद क्षेत्र के नारखुर्द गांव का रहने वाला था।इस जानकारी के आधार पर तोड़फोड़ करने वालों की तलाश की जा रही है। वहीं, प्रमुख चिकित्सा अधीक्षक डॉक्टर आर सी गुप्ता ने बताया कि अस्पताल के अंदर तोड़फोड़ करना गलत है, तोड़फोड़ करने वाले किसी भी व्यक्ति को बख्शा नहीं जाएगा। इसके लिए पुलिस को लिखित शिकायत देते हुए कार्रवाई की मांग की जाएगी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App