scorecardresearch

दिल्ली वाले खुद कर रहे संक्रमण की जांच, दवा की कई दुकानों पर आरटी-पीसीआर किट की खरीद सौ फीसद तक बढ़ी

दिल्ली में लोग सरकारी प्रक्रिया से बचने के लिए इसका प्रयोग कर रहे हैं। सरकारी जांच केंद्रों पर अधिक भीड़ भी होती है, ऐसे में संक्रमण का खतरा अधिक रहता है।

coronavirus
दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में स्क्रीनिंग (सोर्स- इंडियन एक्सप्रेस- प्रवीण खन्ना)

कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर में दिल्ली का जो हाल हुआ वह नए बहुरूप ओमीक्रान में नहीं दिख रहा है। लोग अस्पताल कम पहुंच रहे हैं और जांच की संख्या भी कम हो गई है। इस बीच पता चला है कि ओमीक्रान बहुरूप को मामूली समझ कर घर में इलाज कराने वालों की संख्या बढ़ गई है। दवा की दुकानों से लोग संक्रमण जांच की किट बहुतायत में खरीद रहे हैं। यह बात दिल्ली में दवा दुकानों पर हो रही आरटी-पीसीआर किट की खरीद से सामने आई है। इसमें करीब 100 फीसद की बढ़ोतरी देखी गई है।

गौरतलब है कि दिल्ली में यह किट आसानी से करीब 250 रुपए में उपलब्ध है। किट के माध्यम से आसानी से संक्रमण होने या नहीं होने का पता लगाया जा सकता है। इसकी बिक्री के मामले में पूर्वी दिल्ली के अशोक नगर के दवा विक्रेता शशिकांत तिवारी ने बताया कि उनके इलाके में प्रतिदिन किट की मांग सामने आ रही है और केवल उनकी ही दुकान पर प्रतिदिन ऐसे डेढ़ दर्जन से अधिक खरीदार आ रहे हैं।

वे खुद मानते हैं कि दिल्ली में लोग सरकारी प्रक्रिया से बचने के लिए इसका प्रयोग कर रहे हैं। सरकारी जांच केंद्रों पर अधिक भीड़ भी होती है, ऐसे में संक्रमण का खतरा अधिक रहता है।

रिटेलर एंड डिस्ट्रिब्यूटर कैमिस्ट एलायंस (आरडीसीए) के महासचिव बसंत गोयल बताते हैं कि कोरोना संक्रमण जांच किट की मांग में बाजार में 100 फीसद तक का इजाफा हुआ है। जब मामलों की संख्या बढ़ी थी तो उनकी दवा की दुकान से प्रतिदिन 100 से 150 किट की बिक्री हो रही थी। उन्होंने बताया कि संक्रमण के हल्के लक्षण को लेकर केंद्र सरकार के दिशा-निर्देश के बाद यह असर देखा गया है।

इससे आम जनता घर पर ही अपनी जांच करने के बाद अपने चिकित्सक की निगरानी में इलाज करवा रहे हैं। केंद्र सरकार के आइसीएमआर द्वारा प्रतिदिन तैयार होने वाली रिपोर्ट में यह आंकड़ा शामिल नहीं हो पाता। सरकारी रिपोर्ट में केवल वे ही मरीज शामिल हो रहे हैं जो सरकारी एजंसियों के माध्यम से कोरोना संक्रमण की जांच करा रहे हैं।

स्वास्थ्य मंत्री क्या बोले-
स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने पिछले दिनों कहा था कि दिल्ली में कोरोना संक्रमण के मामले घटे हैं लेकिन इसका खतरा बरकरार है। अस्पतालों और डिस्पेंसरी में जांच के लिए पहुंचने वाले हर व्यक्ति की जांच की जा रही है। दिल्ली में कोरोना का चरम जा चुका है।

एकांतवास के मरीज ले रहे जानकारी
मरीजों की सुविधा के लिए दिल्ली सरकार द्वारा तैयार किए गए काल सेंटर पर भी बीते दिनों संक्रमण से बचाव की जानकारियां लेने वाले मरीजों की संख्या में बढ़ोतरी देखी गई है। विभाग के मुताबिक ऐसे 1500 से अधिक काल इन सेंटर पर आ रही हैं और सेंटर से जुड़े प्रतिनिधि व विशेषज्ञ लोगों को संक्रमण से बचाव की जानकारियां दे रहे हैं। संक्रमण से संबंधित जानकारी के लिए कोई भी व्यक्ति केंद्रीय कक्ष 1031 और 1800111031 पर जानकारी ले सकता है।

पढें राज्य (Rajya News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.