ताज़ा खबर
 

ना-ना करते भी ठिठुरा गई दिल्ली की सर्दी

दिल्लीवासियों को अगले दो दिनों तक घने कोहरे और सर्द मौसम का सामना करना पड़ सकता है। मौसम विभाग के पूर्वानुमान के अनुसार 20 और 21 जनवरी को दिल्ली में कोहरा बना रहेगा

Author नई दिल्ली | January 20, 2016 02:39 am
इंडिया गेट पर कोहरे का नजारा। (फाइल फोटो)

दिल्लीवासियों को अगले दो दिनों तक घने कोहरे और सर्द मौसम का सामना करना पड़ सकता है। मौसम विभाग के पूर्वानुमान के अनुसार 20 और 21 जनवरी को दिल्ली में कोहरा बना रहेगा और कुछ जगहों पर अत्यंत घना कोहरा भी हो सकता है जिससे दृश्यता में काफी कमी आ सकती है। साथ ही न्यूनतम तापमान में भी एक से दो डिग्री सेल्सियस की गिरावट की संभावना है। हालांकि, इस बार राजधानी से ज्यादातर गायब रहने वाली यह सर्दी कुछ ही दिनों तक टिकेगी क्योंकि 22-23 जनवरी से दिन के तापमान में फिर से बढ़ोतरी शुरू होगी और न्यूनतम तापमान सामान्य के करीब बना रहेगा। लेकिन मौसम विभाग के अनुसार राजधानी में शीतलहर और सर्द दिनों की अनुपस्थिति कोई बहुत असामान्य स्थिति नहीं है।

भारत मौसम विभाग में उपमहानिदेशक आनंद शर्मा का कहना है कि बुधवार और गुरुवार को राजधानी में गहरा से अत्यंत गहरा कोहरा रहने का पूर्वानुमान है जिससे यातायात सेवा प्रभावित हो सकती है। आनंद शर्मा ने कहा कि पिछले 15 जनवरी से दिल्ली में सर्दी की वापसी पश्चिमी विछोभ के कारण है, लेकिन कोहरा और बादल से भरा यह सर्द मौसम अगले दो दिनों तक ही बना रहेगा। उन्होंने कहा, ‘इस बार राजधानी में न तो शीतलहर हुई, न ही सर्द दिन (दिन का तापमान 15 डिग्री सेल्सियस से कम) ही हुआ, साथ ही पूरा जनवरी शुष्क रहा, बारिश नहीं हुई क्योंकि इसके पहले जो पश्चिमी विछोभ आए वह काफी कमजोर थे’। अभी तक के रेकॉर्ड के मुताबिक, इस साल जनवरी के तापमान ज्यादातर सामान्य से अधिक रहे। एक जनवरी से चौदह जनवरी तक अधिकतम तापमान सामान्य से औसतन 4.3 डिग्री अधिक बना रहा जबकि न्यूनतम तापमान भी लगभग सामान्य से अधिक ही बना रहा। एक जनवरी और 18 जनवरी को छोड़कर अन्य दिनों में न्यूनतम तापमान सामान्य से  औसतन तीन डिग्री अधिक रहा।

शर्मा ने बताया कि शीतलहर के लिए न्यूनतम तापमान सामान्य से चार से पांच डिग्री कम होना चाहिए और सर्द दिन के लिए अधिकतम तापमान 15 डिग्री सेल्सियस से कम। इस बार दिल्ली का शुष्क मौसम भी काफी लंबा चला। मौसम विभाग ने पांच नवंबर से एकाध बूंदा-बांदी को छोड़ कोई बारिश नहीं दर्ज की और आने वाले पांच दिनों तक इस शुष्क मौसम के बने रहने का पूर्वानुमान है।

मौसम विभाग, राजधानी के इस मौसम को बहुत असामान्य नहीं मानता। आनंद शर्मा ने बताया कि साल दर साल मौसम में इस तरह का उतार-चढ़ाव आता रहता है, लेकिन इसे जलवायु परिवर्तन से जोड़ कर नहीं देखा जा सकता। दिल्ली के रिकॉर्ड्स के मुताबिक 28 जनवरी, 2004 अभी तक जनवरी का सबसे गर्म दिन रहा है जब तापमान 32.5 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच गया था। वहीं 16 जनवरी 1935 को अभी तक का जनवरी माह का सबसे कम तापमान दर्ज है जब न्यूनतम तापमान माइनस 0.6 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया था। मानसून पर असर के सवाल पर आनंद शर्मा ने कहा कि इसका आकलन अभी करना मुश्किल है।

मंगलवार को राजधानी का अधिकतम तापमान सामान्य से लगभग चार डिग्री कम 15.7 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया जबकि न्यूनतम तापमान सामान्य से दो डिग्री अधिक 8.9 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। सुबह घना कोहरा भी छाया रहा और दिन में बादल छाए रहे। कोहरे के कारण विमान सेवा प्रभावित नहीं हुई लेकिन खराब रोशनी के कारण सुबह 14 ट्रेनें तय समय से देरी से चलीं।

जलवायु संकट से ना जोड़ें: दिल्ली का यह हाल असामान्य नहीं है। साल दर साल मौसम में इस तरह का उतार-चढ़ाव आता रहता है, लेकिन इसे जलवायु संकट से जोड़ कर नहीं देखा जा सकता। दिल्ली के रेकॉर्ड के मुताबिक, 28 जनवरी, 2004 अभी तक जनवरी का सबसे गर्म दिन रहा है जब तापमान 32.5 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच गया था। वहीं 16 जनवरी 1935 को अभी तक का जनवरी का सबसे कम तापमान दर्ज है जब न्यूनतम तापमान माइनस 0.6 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया था। (आनंद शर्मा, भारत मौसम विभाग में उपमहानिदेशक)

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App