ताज़ा खबर
 

दिल्ली दंगा: CAA प्रदर्शनाकरियों ने हिंसा के लिए उकसाया, दिल्ली पुलिस का चार्जशीट में दावा, पर बीजेपी नेता पर साध ली चुप्पी

आईबी के कर्मचारी अंकित शर्मा के मर्डर पुलिस ने मुस्लिम प्रदर्शनकारियों पर दंगा भड़काने के लिए उकसाने का आरोप लगाया है। इन दंगों में कुल 53 लोगों की जान चली गई। इनमें से 38 मुस्लिम समुदाय से हैं।

दिल्ली पुलिस का चार्जशीट में दावा CAA प्रदर्शनाकरियों ने भड़काई थी हिंसा। (indian express file)

25 फरवरी से 28 फरवरी के बीच उत्तर-पूर्व दिल्ली के दंगा हिंसा मामले में दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच ने एक चार्जशीट 700 पन्नों में दाखिल की है। आईबी के कर्मचारी अंकित शर्मा के मर्डर पुलिस ने मुस्लिम प्रदर्शनकारियों पर दंगा भड़काने के लिए उकसाने का आरोप लगाया है। इन दंगों में कुल 53 लोगों की जान चली गई। इनमें से 38 मुस्लिम समुदाय से हैं। कड़कड़डूमा कोर्ट को दिल्ली पुलिस ने बताया है कि दंगों से जुड़ी 751 मामले दर्ज किए गए हैं। पिछले दो सप्ताह से पुलिस इन मुकदमों में चार्जशीट दाखिल कर रही है।

अंकित शर्मा के मर्डर से जुड़े केस में दाखिल की गई चार्जशीट में पुलिस ने बताया है कि शर्मा को तब निशाना बनाया गया, जब वो पत्थरबाजी कर रहे दोनों पक्षों को शांत कराने की कोशिश कर रहे थे। शर्मा की हत्या 25 फरवरी को चांदबाग पुलिया के पास हुई थी और उनकी लाश बगल के नाले से बरामद हुई थी। इस मामले की चार्जशीट में पुलिस ने नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ विरोध-प्रदर्शन कर रहे हाई-प्रोफाइल लोगों का भी नाम शामिल किया है। चार्जशीट में मानवाधिकार कार्यकर्ता हर्ष मांदर पर भी हिंसा भड़काने के आरोप लगाए गए हैं। मांदर पर जामिया मिलिया में एक भाषण के जरिए लोगों को उकसाने के आरोप हैं।

जेएनयू के पूर्व छात्र और एक्टिविस्ट उमर खालिद पर आरोप है कि उसने जनवरी में अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भारत को शर्मसार करने के लिए दिल्ली में “बड़े विस्फोट” की योजना बनाई थी। गालांकि, उसी दौरान 23 फरवरी को जाफराबाद में भड़काऊ भाषण देने वाले बीजेपी नेता कपिल मिश्रा पर दिल्ली पुलिस ने चुप्पी साध रखी है। चार्जशीट में उनका कोई उल्लेख नहीं है। उस समय मिश्रा का एक वीडियो वायरल हुआ था, जिसमें उन्हें दिल्ली पुलिस को अल्टीमेटम देते हुए सुना जा सकता था कि जाफराबाद खाली कराओ वर्ना वे लोग खुद कार्रवाई करेंगे।

दिल्ली पुलिस ने इस मामले में आप के निगम पार्षद ताहिर हुसैन को प्रमुख आरोपी और साजिशकर्ता बताया है। मामले में नाम आमे के बाद आप ने ताहिर को पार्टी से निलंबित कर दिया था। मामले में ताहिर हुसैन, उसके भाई शाह आलम समेत कुल 15 आरोपी बनाए गए हैं। FSL रिपोर्ट में यह खुलासा हुआ है कि ताहिर हुसैन के घर-दफ्तर की जानबूझकर DVR खराब की गई थी ताकि CCTV फुटेज सामने न आ सके। चार्जशीट के मुताबिक हिंसा के पहले ताहिर हुसैन के घर और दफ्तर में रोजाना करीब 25 से 50 लोगों की मीटिंग होती थी।

एक अन्य चार्जशीट में दिल्ली पुलिस ने शाहरुख पठान नाम के उस युवक को भी आरोपी बनाया गै जिसनें दिल्ली पुलिस के कांस्टेबल पर पिस्तौल तानी थी। शाहरुख का ये वीडियो इंटरनेट पर वायरल हो गया था। पठान पर 24 फरवरी को दंगों के दौरान हेड कांस्टेबल दीपक दहिया पर बंदूक से हमला करने और हिंसा करने के लिए संबंधित धाराओं के तहत आरोप लगाए गए हैं।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 ‘कमलनाथ की सरकार गिराने का केंद्र से मिला था आदेश’, सीएम शिवराज सिंह चौहान का कथित ऑडियो हो रहा वायरल
2 पंजाब सरकार ने लंगर, कम्यूनिटी किचन की दी इजाजत, अनलॉक-1 पर जारी किया विशेष दिशा-निर्देश
3 अमित मित्रा ने अमित शाह को किया चैलेंज- आंकड़े देकर मोदी सरकार को बताया झूठा, नकलची
ये पढ़ा क्या?
X