ताज़ा खबर
 

MCD Elections 2017: AAP और अरविंद केजरीवाल को पटखनी देने के लिए अमित शाह ने की बैठक, लिया बड़ा फैसला

जल्द ही दिल्ली में भी निगम चुनाव होंगे जिसमें बीजेपी के मजबूत होने की स्थिति नजर आ रही है और इसकी एक खास वजह है।

भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह। (Source: Agencies)

2017 के विधानसभा चुनाव में जहां बीजेपी को उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड में जीत मिली है वहीं उससे पहले ओडिशा में हुए जिला परिषद चुनाव में भी पार्टी मजबूत होकर उभरी है। वहीं अब जल्द ही दिल्ली में भी निगम चुनाव होंगे जिसमें बीजेपी के मजबूत होने की स्थिति नजर आ रही है और इसकी एक खास वजह है। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक, पार्टी ने एमसीडी चुनाव के मद्देनजर किसी भी वर्तमान पार्षद या उसके रिश्तेदार-परिवार के किसी सदस्य को टिकट नहीं देने का फैसला लिया है। पार्टी का दावा है कि उसने यह कदम परिवारवाद की राजनीति खत्म करने के लिए उठाया है। जानकारी के मुताबिक पार्टी ने इस फैसले पर बीते रविवार (12 मार्च) को दिल्ली में हुई एक बैठक विचार किया। बैठक में दिल्ली बीजेपी के शीर्ष नेताओं के साथ-साथ अमित शाह भी मौजूद थे। पार्टी की ऐसी कोशिश उसे चुनाव जीतने में कामयाबी दिला सकती है।

वहीं दिल्ली सरकार की आम आदमी पार्टी भी बीजेपी पर एमसीडी से जुड़ी कई समस्याओं का समाधान नहीं होने को लेकर आरोप-प्रत्यारोप लगाती रहती है। कई बीजेपी नेताओं का मानना है कि आम आदमी पार्टी, एमसीडी चुनाव में उसे कड़ी टक्कर दे सकती है इसलिए पार्टी चुनाव जीतने के लिए हर संभव कोशिश करेगी।गौरतलब है बीजेपी ने मनोज तिवारी को राज्य में पार्टी का प्रेसिडेंट बनाया था। पार्टी का यह फैसला दिल्ली के पूर्वांचल वोटरों को साधने के लिए खासा ध्यान में रखकर लिया गया फैसला माना जाता है। दूसरी तरफ पार्टी कार्यकर्ता बेसब्री से इंतजार कर रहे हैं कि पार्टी नेतृत्व जल्द ही चुनाव लड़ने के क्राइटेरिया की घोषणा करे।

पार्टी इस बार युवा कार्यकर्ताओं को टिकट दे सकती है। दूसरी तरफ बीजेपी के एक वरिष्ठ नेता ने बताया कि पार्टी चुनाव जीतने के लिए अपनी पूरी ताकत लगाएगी। उन्होंने कहा- ” पार्टी चुनाव प्रचार के लिए दिग्गज नेताओं को मैदान में उतारेगी। पार्टी के कई वरिष्ठ सांसद और नेता जनसभाओं को संबोधित करेंगे ताकि पार्टी की राज्य में मजबूत पकड़ बनाई जा सके”। बता दें कि बीजेपी एमसीडी के तीनों ही कॉर्पोरेशन्स में बीते 10 सालों से सत्ता में है।

देखें वीडियो

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App