ताज़ा खबर
 

RTI में खुलासा: दिल्‍ली मेट्रो ने 2 साल में 8 नए रूट खोले, लेकिन किराया बढ़ाकर रोजाना गंवा दिए 3 लाख यात्री

दिल्ली मेट्रो में साल में दो बार किराया बढ़ाने पर दैनिक यात्री की संख्या भारी कमी आई है। एक आरटीआई आवेदन के अनुसार तीन लाख दैनिक यात्री की कमी की बात सामने आई है।

दिल्ली मेट्रो रेल (फोटो सोर्स : इंडियन एक्सप्रेस)

दिल्ली मेट्रो रेल कॉरपोरेशन (DMRC) ने राजधानी के लोगों की सहूलियत के लिए पिछले दो साल में 8 नए रूट खोले हैं, लेकिन किराया बढ़ने के कारण इसका फायदा नहीं हो रहा है। दिल्ली मेट्रो रोजाना 3 लाख यात्री गंवा रही है। यह खुलासा एक आरटीआई में हुआ, जो इंडियन एक्सप्रेस की ओर से लगाई गई थी। बता दें कि डीएमआरसी ने 2017 के दौरान एक ही साल में 2 बार किराया बढ़ाया था, जिसका खमियाजा उसे अब तक उठाना पड़ रहा है।

किराया बढ़ने पर दैनिक यात्री पर असरः इंडियन एक्सप्रेस की आरटीआई के मुताबिक, दिल्ली मेट्रो में दैनिक यात्रियों की संख्या पर काफी कमी की बात सामने आई है। हालांकि, डीएमआरसी ने इसकी भरपाई करने के लिए कई अहम कदम भी उठाए। आरटीआई के मुताबिक, डीएमआरसी ने 8 साल बाद मई 2017 में पहली बार किराया बढ़ाया था। उस वक्त दैनिक यात्री की कुल संख्या 26.50 लाख थी। इसके बाद डीएमआरसी ने अक्टूबर 2017 में दोबारा किराया बढ़ा दिया। इससे मुसाफिरों की संख्या में काफी कमी आ गई। सिर्फ 2019 के शुरुआती दो महीनों में दैनिक यात्रियों की संख्या देखें तो यह 23 लाख बताई गई है। अक्टूबर 2017 में दोबारा किराया बढ़ने के बाद दैनिक यात्रियों की संख्या 24 लाख तक भी नही पहुंची है।

फेज तीन में दैनिक यात्री बढ़ने का अनुमानः दिल्ली मेट्रो के दो नए रूट पिंक (58 किमी) और मजेंटा (38 किमी) शुरू होने के बाद दैनिक यात्री की संख्या 26 लाख हो गई थी। वहीं, फेज-3 के मेट्रो रूट शुरू होने के बाद मुसाफिरों की संख्या 40 लाख प्रतिदिन पहुंचने की उम्मीद है। आरटीआई में यह बात भी सामने आई है कि ब्लू, यलो, ग्रीन, रेड और वॉयलेट लाइन पर मई 2017 के बाद सिर्फ तीन बार ही जुलाई, अगस्त और सितंबर 2017 में दैनिक यात्रियों की संख्या 26 लाख पहुंची थी। बता दें कि इस वक्त दिल्ली मेट्रो में 2 किमी का किराया 10 रुपए है। वहीं, 2 से 5 किमी तक की 20 रुपए, 5 से 12 किमी तक का 30 रुपए, 12 से 21 किमी तक 40 रुपए, 21 से 32 किमी तक 50 रुपए है। वहीं, 32 किमी से ज्यादा सफर करने पर 60 रुपए देने होते हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App