ताज़ा खबर
 

एलजी नजीब जंग ने कहा- जेएनयू छात्र नजीब को दरभंगा में देखा गया, दरगाहों में खोज रहे हैं

नजीब अहमद 25 दिन से गायब हैं। इसको लेकर जेएनयू छात्र प्रदर्शन भी कर रहे हैं।

दिल्‍ली के उपराज्‍यपाल नजीब जंग। (फाइल फोटो)

जवाहर लाल नेहरु यूनिवर्सिटी(जेएनयू) से गायब हुए छात्र नजीब अहमद को लेकर दिल्‍ली के उपराज्‍यपाल नजीब जंग का कहना है कि उसे बिहार के दरभंगा में देखे जाने की खबर है। एक न्‍यूज चैनल के अनुसार जंग ने बताया कि स्‍पेशल इंवेस्‍टीगेशन टीम(एसआईटी) को दरभंगा भेजा गया है। पुलिस उसे ढूंढ़ने के लिए प्रयास कर रही है। पुलिस की लगभग 200 टीमें पूरे देश में भेजी गई हैं। जंग ने कहा कि नजीब को ढूंढ़ने के लिए दरगाहों पर भी खोजबीन की जा रही है। गौरतलब है नजीब अहमद 25 दिन से गायब हैं। इसको लेकर जेएनयू छात्र प्रदर्शन भी कर रहे हैं। इसके अलावा नजीब की मां भी दिल्‍ली आई हुई हैं। दो दिन पहले नजीब की गुमशुदगी पर कार्रवाई ना होने के विरोध प्रदर्शन किया गया था। इसमें दिल्‍ली पुलिस ने नजीब की मां के साथ बदसलूकी की थी। पुलिसकर्मियों नेकी मां को घसीटते हुए प्रदर्शन स्‍थल से हटाकर बस में बैठाया था। इस कार्रवाई पर पुलिस की काफी आलोचना हुई थी।

HOT DEALS
  • Apple iPhone 7 Plus 128 GB Rose Gold
    ₹ 61000 MRP ₹ 76200 -20%
    ₹6500 Cashback
  • Sony Xperia L2 32 GB (Gold)
    ₹ 14845 MRP ₹ 20990 -29%
    ₹0 Cashback

 जेएनयू छात्र नजीब अहमद की मां और रिश्‍तेदार हिरासत में, देखें वीडियो:

नजीब की मां ने मंगलवार (8 नवंबर) को गृहमंत्री राजनाथ सिंह से भी मुलाकात की। इस दौरान राजनाथ ने मदद का आश्‍वासन दिया। सरकारी सूत्रों ने बताया कि गृहमंत्री ने तसल्ली से नजीब की मां और परिवार के अन्य सदस्यों की बात सुनी। सिंह ने उन्हें बताया कि दिल्ली पुलिस ने मामले में विशेष टीम का गठन किया है और वह खुद निजी तौर पर जांच में प्रगति का जायजा ले रहे हैं। सूत्रों ने बताया कि गृहमंत्री ने सभी तरह की सहायता का आश्वासन दिया।

वहीं नजीब की बहन ने इन आरोपों को खारिज किया कि वह मानसिक रूप से अस्थिर है और कहा कि उसका पता लगाने के बजाय उसे बदनाम करने के प्रयास किए जा रहे हैं। उन्होंने कहा ‘‘वह विश्वविद्यालय की परीक्षाओं में पास हुआ है। वह एक अध्ययनशील छात्र है। आप क्या सोचते हैं जो व्यक्ति ऐसे प्रतिष्ठित संस्थान में पढ़ रहा है वह मानसिक रूप से अस्थिर हो सकता है? मैं गुजारिश करती हूं कि कृपया उसे बदनाम नहीं करें। उसे सोने में दिक्कत है। पढ़ने वाले बच्चों में अक्सर दबाव की वजह से यह होती है। उसे कोई अन्य समस्या नहीं है।’

इससे पहले दिल्‍ली पुलिस की ओर से कहा गया कि नजीब डिप्रेशन में था। उसके कमरे से एंटी डिप्रेशन की दवाएं बरामद की गई हैं। नजीब जेएनयू के एक हॉस्टल में एबीवीपी समर्थकों के एक समूह के साथ झगड़ा होने के बाद एक हफ्ते से लापता है। वामपंथी संगठन ने एबीवीपी पर तो एबीवीपी ने वामपंथी संगठनों पर नजीब अहमद की गुमशुदगी का कारण थोपा है। इस मामले में नजीब के परिवारवालों ने एफआईआर दर्ज करा रखी है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App