मैक्स अस्पताल की शर्मनाक लापरवाही, जिंदा नवजात को मृत घोषित कर सौंपा - Delhi hospital declares twins dead, family finds one alive on way to last rites - Jansatta
ताज़ा खबर
 

मैक्स अस्पताल की शर्मनाक लापरवाही, जिंदा नवजात को मृत घोषित कर सौंपा

डॉक्टरों की इस गंभीर लापरवाही के कारण दम घुटने से नवजात की मौत भी हो सकती थी।

Author नई दिल्ली | December 1, 2017 4:53 PM
तस्वीर का इस्तेमाल केवल प्रतीकात्मक रूप से किया गया है। (फाइल फोटो)

दिल्ली के एक अस्पताल की शर्मसार करने वाली लापरवाही सामने आई है। शालीमार बाग स्थित मैक्स अस्पताल के डॉक्टरों ने जुड़वां बच्चों को मृत घोषित कर उन्हें शव रखने वाले बैग में सील कर अभिभावकों के हवाले कर दिया। दो में से एक नवजात में हरकत होने पर परिजनों ने आनन-फानन में बैग खोला। शिशु और उसके मां को अस्पताल में भर्ती कराया गया है। डॉक्टरों की इस गंभीर लापरवाही के कारण दम घुटने से नवजात की मौत भी हो सकती थी। अस्पतालों में आए दिन लापरवाही के मामले सामने आते रहते हैं। लेकिन, मैक्स हॉस्पिटल की यह घटना बेहद शर्मनाक और चौंकाने वाली है। इससे नवजात की जान भी जा सकती थी।

मां और नवजात को दूसरे अस्पताल में भर्ती कराया गया है। दिल्ली पुलिस ने इस गंभीर मामले की जांच शुरू कर दी है। पुलिस प्रवक्ता दीपेंद्र पाठक ने इसकी पुष्टि की है। उन्होंने ट्वीट किया, ‘यह घटना चौंकाने वाली है। यह लापरवाही की हद है। दिल्ली पुलिस ने मामले की जांच शुरू कर दी है। इसके अलावा कानूनी विशेषज्ञ और दिल्ली मेडिकल काउंसिल से राय ली जा रही है। परिस्थितियों का ब्योरा भी हासिल किया जा रहा है। सभी तथ्यों का विश्लेषण करने के बाद कार्रवाई की जाएगी।’

मैक्स अस्पताल में चौंकाने वाली घटना सामने आने के बाद स्वास्थ्य मंत्रालय भी सक्रिय हो गया है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री जेपी नड्डा ने स्वास्थ्य सचिव से इस मसले पर बात कर जानकारी हासिल की है। मैक्स हॉस्पिटल की लापरवाही पर लोगों का गुस्सा फूट पड़ा है। प्रशांत भूषण ने सख्त कार्रवाई की मांग करते हुए ट्वीट किया, ‘इन अस्पताल वालों की इंसानियत जिंदा है या मर गई है। दो नवजात को मरा हुआ बताकर मां-बाप को दे दिया गया। बाद में एक बच्चा जिंदा निकला। इस अस्पताल के खिलाफ कानूनी कार्रवाई होनी चाहिए।’

देखें वीडियो ः

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App