ताज़ा खबर
 

कोरोना के बीच प्रदूषण घोल रहा हवा में जहर, दिल्ली में फिर लागू हो सकता है ऑड-ईवन फॉर्म्युला! पर्यावरण मंत्री ने दिए संकेत

इधर मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने वायु प्रदूषण के मुद्दे पर कहा कि सभी सरकारों को इस पर एक साथ आना चाहिए और वायु प्रदूषण के खिलाफ मिलकर लड़ना चाहिए।

odd/even sheme delhi governmentदिल्ली के पर्यावरण मंत्री गोपाल राय। (ANI)

कोरोना वायरस महामारी के बीच दिल्ली में प्रदूषण का स्तर लगातार बढ़ने के बीच पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने राष्ट्रीय राजधानी में एक बार फिर ऑड-ईवन फॉर्म्युला लागू करने के संकेत दिए हैं। उन्होंने सोमवार (19 अक्टूबर, 2020) को कहा कि हमने दिल्ली में ऑड-ईवन योजना कई बार लागू की है। उन्होंने कहा कि यह हमारा आखिरी उपाय होगा। अगर वायु प्रदूषण पर अंकुश लगाने के सारे तरीके विफल हो जाते हैं तो हम इसके कार्यान्वयन के बारे में सोचेंगे।

इधर मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने वायु प्रदूषण के मुद्दे पर कहा कि सभी सरकारों को इस पर एक साथ आना चाहिए और वायु प्रदूषण के खिलाफ मिलकर लड़ना चाहिए। उन्होंने कहा कि अगर सभी राज्यों की सरकारें और सभी राजनीतिक दल राजनीति छोड़कर एक साथ आते हैं तो हम चार साल से भी कम समय में प्रदूषण को नियंत्रित कर सकते हैं। केजरीवाल ने केंद्रीय पर्यावरण मंत्री से अनुरोध किया कि वो हर महीने दिल्ली, उत्तर प्रदेश, हरियाणा और पंजाब के मुख्यमंत्रियों के साथ बैठकें करें।

Bihar Election 2020 LIVE News Updates

बता दें कि राष्ट्रीय राजधानी में वायु गुणवत्ता सोमवार सुबह ‘खराब’ श्रेणी में दर्ज की गई, हालांकि हवा की अनुकूल गति के कारण प्रदूषण के स्तर में मामूली कमी आई है। पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय की दिल्ली के लिए वायु गुणवत्ता पूर्व चेतावनी प्रणाली ने शहर के प्रदूषण में पराली जलने की हिस्सेदारी बढ़ने का अनुमान जताया है। केन्द्र सरकार की एजेंसी ने बताया कि रविवार को पराली जलाने की 1,230 घटनाएं हुईं जो इस मौसम में एक दिन में पराली जलाने की अब तक कि सबसे ज्यादा घटनाएं हैं।

दिल्ली में पीएम 2.5 प्रदूषक कणों में पराली जलाने की हिस्सेदारी रविवार को 17 फीसदी थी। शनिवार को यह 19 फीसदी थी, शुक्रवार को 18 फीसदी, बुधवार को करीब एक फीसदी और मंगलवार, सोमवार और रविवार को करीब तीन फीसदी थी। दिल्ली में सोमवार सुबह पौने नौ बजे वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआई) 232 दर्ज किया गया।

रविवार को 24 घंटे के दौरान औसत गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआई) 254 दर्ज किया गया। शनिवार को यह 287 दर्ज किया गया था। शुक्रवार को यह 239, बृहस्पतिवार को 315 दर्ज किया गया था, जो इस वर्ष 12 फरवरी के बाद से सबसे ज्यादा खराब है। उस दिन एक्यूआई 320 था। वायु गुणवत्ता शून्य से 50 के बीच ‘अच्छी’, 51 से 100 तक ‘संतोषजनक’, 101 से 200 तक ‘मध्यम’, 201 से 300 तक ‘खराब’, 301 से 400 तक ‘बेहद खराब’ और 401 से 500 के बीच ‘गंभीर’ मानी जाती है।

इससे पहले, रविवार को केन्द्रीय पर्यावरण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा था कि प्रदूषण की समस्या का एक दिन में समाधान नहीं किया जा सकता है और हर कारक से निपटने के लिए लगातार प्रयास की जरूरत है। फेसबुक लाइव कार्यक्रम में लोगों से बात करते हुए उन्होंने कहा कि देश में वायु प्रदूषण के बड़े कारक यातायात, उद्योग, कचरा, धूल, पराली आदि हैं। केन्द्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) ने कहा था कि दिल्ली में पिछले साल की तुलना में इस साल सितम्बर के बाद से प्रदूषकों के व्यापक स्तर पर छितराव के लिये मौसमी दशाएं ‘अत्यधिक प्रतिकूल’ रही हैं। (एजेंसी इनपुट)

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 Bihar Elections 2020: चिराग ने बिहारियों के लिए क्या किया? HAM चीफ का हमला; RLSP प्रमुख बोले- प्यार दिखाते रहें, पर…
2 Bihar Elections 2020: इस तरह घूमने से काम नहीं चलेगा…नीतीश के मंत्री के काफिले को रोक भड़क उठे ग्रामीण, आईना दिखा दबे पांव वापस लौटने को कर दिया मजबूर
3 Bihar Elections 2020: दिल में मोदी को बसाए चिराग बता रहे खुद को ‘हनुमान’, केंद्रीय मंत्री बोले- मुंह में राम, पर करते हैं रावण का जाप
ये पढ़ा क्या?
X