ताज़ा खबर
 

AAP विधायक पर दो लाख का जुर्माना, मारपीट के मामले में कोर्ट ने पाया दोषी

अदालत ने गुरुवार (6 सितंबर) को तुगलकाबाद से विधायक सहीराम पहलवान पर दो लाख रुपये का जुर्माना लगाया है। अदालत ने विधायक सहीराम पहलवान को साल 2016 के सितंबर में एक युवक के साथ मारपीट का दोषी पाया था।

दिल्ली के तुगलकाबाद से आम आदमी पार्टी के विधायक सहीराम पहलवान। फोटो- रवि कनौजिया (एक्‍सप्रेस आर्काइव)

दिल्‍ली की एक अदालत ने गुरुवार (6 सितंबर) को तुगलकाबाद से विधायक सहीराम पहलवान पर दो लाख रुपये का जुर्माना लगाया है। अदालत ने विधायक सहीराम पहलवान को साल 2016 के सितंबर में एक युवक के साथ मारपीट का दोषी पाया था। एडिशनल चीफ मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट समर विशाल ने आप विधायक को सुधरने का एक मौका देते हुए जेल की सजा नहीं दी। हालांकि पहलवान के अलावा सह आरोपी सुभाष और ललित को भी दो लाख रुपये अलग-अलग जुर्माना भरने के आदेश दिए हैं।

कोर्ट ने प्रथमदृष्टया ये पाया कि विधायक और उनके साथियों की मारपीट से पीड़ित योगेंद्र बिधूरी को हल्की चोटें ही आईं हैं। इसलिए इस मामले में कोर्ट ने दोषियों को सुधरने का एक मौका देने का फैसला किया। कोर्ट ने कहा कि वह अपराधियों के अपराध को कैद की सजा देने लायक नहीं मानती है। हालांकि तथ्य और मामले की परिस्थितियों को देखते हुए सभी तीन दोषियों को भादवि की धारा 324 के तहत प्रत्येक पर दो लाख रुपये का जुर्माना लगाया गया है। कोर्ट ने पीड़ित को भी 1.50 लाख रुपये हर्जाना देने की घोषणा की है।

कोर्ट ने बीते 1 अगस्त को बिधूरी के बयान के आधार पर पहलवान को दोषी करार दिया। कोर्ट ने सभी तीन आरोपियों को भादवि की धारा 324, 341 और 34 के तहत दोषी माना था। इस अपराध में अधिकतम तीन साल की सजा का प्रावधान है। आरोपियों ने हालांकि खुद पर लगे आरोपों से इंकार किया था। उनका कहना था कि उन्हें इस मामले मेें झूठा ही फंसाया गया है। उन्होंने दावा किया था कि उन्होंने शिकायतकर्ता योगेंद्र बिधूरी को नहीं पीटा है और वह कथित घटना के वक्त मौके पर उपस्थित ही नहीं थे।

शिकायतकर्ता ने अपनी शिकायत में दिल्ली पुलिस को बताया कि 18 और 19 सितंबर, 2016 की दरमियानी रात में तेखंड में उसके घर के बाहर की गली में सीमेंट युक्त रोड का निर्माण हो रहा था। शिकायतकर्ता का आरोप था कि विधायक और उनके साथियों ने सुपरवाइजर को धमकाकर निर्माण बंद करवाने की कोशिश की। बिधूरी ने दावा किया कि जब उसने विधायक और उनके साथियों से जानने की कोशिश की कि आखिर क्यों वह काम बंद करवा रहे हैं। इसके बाद विधायक ने उसे देख लेने की धमकी दी। इसके बाद जब ​बिधूरी अपने रिश्तेदार के साथ दवाई लेकर लौट रहे थे तब विधायक ने अपने साथियों के साथ उनसे मारपीट की थी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App