ताज़ा खबर
 

ज्योतिष के भरोसे दिल्ली पुलिस के इंस्पेक्टर, गुमशुदा एयर इंडिया अफसर पर ‘महादोष’ बताकर टाली जांच

देश की राजधानी दिल्ली में कुंडली में 'महादोष' होने के चलते पुलिस ने लापता महिला के मामले की जांच करने से इनकार कर दिया। दिल्ली क्राइम ब्रांच को पिछले साल जांच की जिम्मेदारी सौंपी गई थी।

प्रतीकात्नक फोटो सोर्स- इंडियन एक्सप्रेस

देश की राजधानी दिल्ली में पुलिस द्वारा ज्योतिष विद्या की मदद लेने का एक अनोखा मामला सामने आया है। दरअसल एयर इंडिया की एक अधिकारी सुलक्षणा नरूला के लापता होने की रिपोर्ट पिछले साल पुलिस में दर्ज करवाई गई थी। सुलक्षणा सितंबर 2018 से गायब हैं। दिल्ली क्राइम ब्रांच को पिछले साल जांच की जिम्मेदारी सौंपी गई थी लेकिन पुलिस अधिकारी विजय सामरिया के मुताबिक ज्योतिष दृष्टि से ‘महादोष’ के चलते यह जांच पूरी नहीं हो सकी।

‘महादोष’ खत्म होने तक किया जांच से इनकारः दिल्ली के क्राइम ब्रांच अधिकारी विजय सामरिया के निजी ज्योतिषी का कहना है कि उन पर 19 अप्रैल को ‘महादोष’ खत्म हो जाएगा। तब तक सामरिया ने मामले की जांच करने से इनकार कर दिया। जो बात इस मामले को पेचीदा बनाती है वह यह है कि सामरिया ने नरूला के परिवार को बताया कि सुलक्षणा का ‘बुरा समय’ भी 19 अप्रैल को खत्म हो रहा है।

National Hindi News, 19 April 2019 LIVE Updates: दिनभर की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

महिला की कुंडली में बताया ‘महादोष’: सामरिया ने कथित तौर पर सुलक्षणा के बेटे अनुभव से सुलक्षणा की कुंडली मंगवाकर अपनी कुंडली के साथ महिला की कुंडली भी ज्योतिषी को दिखाई थी। कुंडली देखने पर ज्योतिषी ने महिला की कुंडली में ‘महादोष’ बताया। पुलिस अफसर ने बताया कि उन्हें पूरा भरोसा है कि 20 अप्रैल के बाद वह लापता महिला को ढूंढने में सफल हो पाएंगे। हालांकि लापता महिला के परिजनों ने पुलिस पर आरोप लगाते हुए कहा कि जिस तरह से मामले को देखा गया है उससे वे काफी परेशान हैं। यही नहीं महिला के बेटे अनुभव को छतरपुर मंदिर जाकर देवी बगलामुखी के दर्शन करने करके उपाय करने का भी सुझाव दिया गया। परिजनों ने पुलिस पर आरोप लगाते हुए कहा कि 58 वर्षीय सुलक्षणा के लापता होने के तीन दिन बाद एफआईआर दर्ज करवाई गई थी लेकिन इसके बावजूद कुछ नहीं हुआ।

क्या कहा एसीपी नेः एसीपी जसबीर सिंह ने बताया कि सुलक्षणा के परिजनों ने उनके ज्योतिषी से सलाह ली। जिन्होंने उन्हें विश्वास दिलाया कि वह हरिद्वार, वृंदावन या मथुरा में मिलेंगी। एसीपी ने बताया कि जांच अधिकारी विजय सामरिया दो बार बताई गई जगहों का दौरा करके आए लेकिन उन्हें कोई सफलता हाथ नहीं लगी। उन्होंने कहा, ‘हम वैज्ञानिक तरीके की जांच में विश्वास रखते हैं लेकिन यदि कोई इंस्पेक्टर निजी तौर पर किसी के परिजनों को मदद करता है तो इससे जांच प्रभावित होती है। मैं किसी ज्योतिषी और ‘बुरे समय’ जैसी बातों में भरोसा नहीं करता।

Next Stories
1 दिव्यांग प्रोफेसर ने पास की सिविल सर्विस की परीक्षा, गलत इंजेक्शन ने छीन ली थी आंखों की रोशनी
2 Happy Hanuman Jayanti 2019: संन्यास लेना चाहते थे स्टीव जॉब्स, हनुमान जी के मंदिर आने के बाद खड़ी की Apple
ये पढ़ा क्या?
X