ताज़ा खबर
 

‘मुख्यमंत्री तक की सुरक्षा नहीं कर सकती केंद्र सरकार’

मुख्यमंत्री ने दिल्ली पुलिस से अपने सम्मान की खुद रक्षा की अपील करते हुए यह भी कहा कि और कोई साथ हो न हो, दिल्ली पुलिस को कभी भी कोई जरूरत होगी तो केजरीवाल हमेशा उनके साथ खड़ा रहेगा। मुख्यमंत्री, दिल्ली पुलिस पर चयनित सरकार के नियंत्रण संबंधित सरकारी प्रस्ताव पर चर्चा का जवाब दे रहे थे।

Author November 27, 2018 7:57 AM
दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (फोटो सोर्स- एक्सप्रेस आर्काइव फोटो)

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने सोमवार को कहा कि केंद्र सरकार दिल्ली के मुख्यमंत्री की सुरक्षा नहीं कर सकती तो इस्तीफा दे दे। उन्होंने हाल ही में खुद पर हुए हमले को जनता पर हमला करार देते हुए कहा कि दोष दिल्ली पुलिस का नहीं, भाजपा की गंदी राजनीति का है। मुख्यमंत्री ने दिल्ली पुलिस से अपने सम्मान की खुद रक्षा की अपील करते हुए यह भी कहा कि और कोई साथ हो न हो, दिल्ली पुलिस को कभी भी कोई जरूरत होगी तो केजरीवाल हमेशा उनके साथ खड़ा रहेगा। मुख्यमंत्री, दिल्ली पुलिस पर चयनित सरकार के नियंत्रण संबंधित सरकारी प्रस्ताव पर चर्चा का जवाब दे रहे थे। मुख्यमंत्री ने कहा कि उन पर हो रहे हमले उनपर नहीं जनता पर हमले हैं। उन्होंने कहा, ‘भ्रष्टाचार में लिप्त भाजपा सरकार के पास जनता के सवालों का कोई जवाब नहीं है तो इनके पास एक ही चारा रह जाता है कि केजरीवाल को मरवा दो’। मुख्यमंत्री ने कहा कि बिना संसाधनों के वे अपनी सुरक्षा कैसे करें, सरकार कैसे चलाएं।

गृह मंत्री सत्येंद्र जैन द्वारा लाए गए सरकारी प्रस्ताव में मांग की गई कि संविधान में जरूरी संशोधन कर दिल्ली पुलिस को चयनित सरकार के तहत लाया जाए और अन्य राज्यों की तरह उसे दिल्ली विधानसभा के प्रति जवाबदेह बनाया जाए। जैन के प्रस्ताव का समर्थन करते हुए अरविंद केजरीवाल ने कहा कि जब तक संविधान संशोधन न हो जाए तब तक कोई ऐसा व्यावहारिक प्रावधान हो कि दिल्ली पुलिस सीमित दायरे में चयनित सरकार के प्रति जवाबदेह हो।

पुरानी पेंशन व्यवस्था के लिए लड़ेंगे केजरीवाल 
मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने सोमवार को रामलीला मैदान में एलान किया कि केंद्र सरकार के साथ अब पुरानी पेंशन व्यवस्था लागू करने की लड़ाई शुरू होगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि दिल्ली विधानसभा से यह प्रस्ताव पारित किया जाएगा और केंद्र की मंजूरी के लिए भेजा जाएगा। इसके अलावा देश के अन्य राज्यों को भी इस व्यवस्था को लागू करने के लिए मनाया जाएगा। केजरीवाल सोमवार को रामलीला मैदान में पेंशन कर्मचारियों की सभा को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने केंद्र को चेतावनी देते हुए कहा कि तीन महीने में यह मांग नहीं मानी गई तो लोकसभा चुनाव में कयामत आने वाली है।

उन्होंने कहा कि दिल्ली विधानसभा का विशेष सत्र बुलाया गया है, जहां पुरानी पेंशन व्यवस्था लागू करने का प्रस्ताव पारित कर केंद्र को भेजा जाएगा। जब तक यह व्यवस्था लागू नहीं हो जाती तब तक इस आंदोलन को ‘आप’ सरकार का समर्थन जारी रहेगा। अरविंद केजरीवाल ने कहा कि आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से निवेदन करना चाहता हूं कि अगर आप राष्टÑ सुधारना चाहते हं तो कर्मचारियों को दुखी करके कभी देश का काम नहीं कर सकते है और देश को आगे नहीं बढ़ा सकते। जो भी देश व समाज का एजेंडा है उसे सरकारी कर्मचारियों को लागू करना है। यदि इन कर्मचारियों के घर में ही खुशी नहीं होगी तो कोई सरकार काम नहीं कर सकती।

मीडिया पर भी बरसे
मुख्यमंत्री ने कहा कि आपकी एकता आपकी बड़ी ताकत है। उन्होंने कहा कि यहां पर मीडिया से कोई नहीं आया। ये साजिश है। जब हमने आम आदमी पार्टी बनाई थी तब एक साल तक मीडिया ने हमारा बहिष्कार किया था और कुछ नहीं दिखाया था। इसके बाद दिल्ली सरकार के काम मीडिया की मजबूरी बन गए। सभी लोग ठान लें तो सरकार बदलने की ताकत आपके पास है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App