ताज़ा खबर
 

2019 Lok Sabha Election : केजरीवाल ने कहा- किसी भी दल से गठबंधन के लिए तैयार, लेकिन यह होगी मेरी शर्त

आगामी लोकसभा चुनाव को लेकर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने भी गठबंधन करने का ऐलान कर दिया है। केजरीवाल ने कहा कि हम किसी भी दल से गठबंधन करने के लिए तैयार हैं, लेकिन उसे हमारी यह मांग हर हाल में पूरी करनी होगी।

Author February 13, 2019 9:54 AM
रैली को संबोधित करते अरविंद केजरीवाल। (Photo: ANI)

आगामी लोकसभा चुनाव को लेकर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने भी गठबंधन करने का ऐलान कर दिया है। हालांकि, उन्होंने इसके लिए कुछ शर्तें भी रखी हैं। केजरीवाल ने कहा कि हम किसी भी दल से गठबंधन करने के लिए तैयार हैं, लेकिन उसे हमारी यह मांग हर हाल में पूरी करनी होगी। केजरीवाल ने यह बात दिल्ली के रोहताश नगर विधानसभा क्षेत्र में कही। उस वक्त वे तीन कच्ची कॉलोनियों में विकास कार्यों का शिलान्यास करने गए थे।

यह कहा केजरीवाल ने : आम आदमी पार्टी के संयोजक और दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा, ‘‘जो भी राजनीतिक पार्टी दिल्ली को पूर्ण राज्य का दर्जा दिलाने का वादा करेगी, लोकसभा चुनाव में आम आदमी पार्टी उसका समर्थन करेगी। 56 इंच के सीने वाले को सिर्फ हम ही हरा सकते हैं। दिल्ली के लोग सीलिंग से परेशान हैं, लेकिन बीजेपी सांसद मनोज तिवारी ने यह मुद्दा संसद में नहीं उठाया। उन्हें डर है कि अगर वे सीलिंग का मुद्दा संसद में उठाएंगे तो उनके वरिष्ठ नेता नाराज हो जाएंगे।’’

सरकार हमारी, लेकिन बीजेपी करती है मनमानी : केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली में इस वक्त हमारे 67 विधायक हैं और बीजेपी के 3, इसके बावजूद बीजेपी की ही मनमानी चलती है। दिल्ली सरकार जगह-जगह सीसीटीवी लगवाना चाहती है, मुहल्ला क्लीनिक, स्कूल व सड़कें बनवाना चाहती है, लेकिन बीजेपी सरकार और उपराज्यपाल फाइलें अपने पास रखे रहते हैं। रोहताश नगर की तीन कच्ची कॉलोनियों में 149 गलियों को एक साथ बनवाने के लिए भी हमें काफी लड़ाई लड़नी पड़ी।

गाय-गोबर से साधा बीजेपी पर निशाना : दिल्ली के सीएम ने बीजेपी पर निशाना साधते हुए कहा कि 2014 में लोकसभा चुनाव जीतने वाली बीजेपी सरकार ने नोटबंदी की। इसके बावजूद बीजेपी का कोई भी नेता नोटबंदी के नाम पर वोट नहीं मांग रहा। दिल्ली सरकार गाय और गोबर की राजनीति नहीं करती है।

कब तक धरना देकर पास कराऊं फाइलें : केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली सरकार के मंत्रियों को लड़ना पड़ता है, तब जाकर विकास कार्य करा पाते हैं। एक मुख्यमंत्री कब तक धरना देकर फाइलें पास कराता रहेगा। जनता को चाहिए कि वह आम आदमी पार्टी के सातों प्रत्याशियों को दिल्ली की सातों सीटों पर जीत दिलाएं, जिससे दिल्ली का उपराज्यपाल भी जनता की पसंद का चुना जा सके।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App