ताज़ा खबर
 

दिल्ली: सामने आया परिवार के 11 लोगों की खुदकुशी से ठीक पहले का फुटेज, 11 डायरियों का ब्यौरा

पुलिस का कहना है कि बुराड़ी के संग नगर स्थित दुकान से वे स्टूल खरीदे गए थे, जिन पर चढ़ कर परिवार के 11 लोगों ने चढ़ कर फांसी लगा ली थी। जांच-पड़ताल के दौरान पुलिस ने इन स्टूलों को जाल पर लटकी लाशों के नजदीक के बरामद किया था।

11 लोगों के आत्महत्या करने से ठीक पहले दो महिलाएं बाजार से ये स्टूल लेकर आई थीं। (फोटोः फेसबुक)

दिल्ली के बुराड़ी कांड में नई सीसीटीवी फुटेज सामने आया है। यह वीडियो 11 लोगों के खुदकुशी से ठीक पहले का है। मामले की खोजबीन के बीच घटना वाली रात का यह फुटेज पुलिस के हाथ लगा है, जिसमें परिवार की एक महिला बाजार से स्टूल लेकर आती दिखीं। टीवी रिपोर्ट्स के अनुसार, इस क्लिप में घर की महिला सविता पड़ोसन के साथ स्टूल लेने बाजार गई थी। वे दोनों जब लौटकर आईं, तो घर के बाहर लगे सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गईं।

पुलिस को इसके अलावा घर से 11 डायरियां भी मिली हैं, जिनमें साल 2007-2018 के बीच का ब्यौरा है। रिपोर्ट्स की मानें, तो 11 सालों तक डायरी में 11 लोगों ने नोट्स लिखे थे। डायरी में नोट्स का शीर्षक ‘भगवान का रास्ता’ था। लिखा था, “एक शख्स सभी को बांधेगा। पांच स्टूल लाए जाएंगे। घर की छोटी बच्ची को लाल रंग के स्टूल पर खड़ी किया जाएगा। घटना में डॉक्टर की पट्टी का इस्तेमाल (हाथ-पैर बांधने में) होगा।

वहीं, पुलिस का कहना है कि बुराड़ी के संग नगर स्थित दुकान से वे स्टूल खरीदे गए थे, जिन पर चढ़ कर परिवार के 11 लोगों ने चढ़ कर फांसी लगा ली थी। जांच-पड़ताल के दौरान पुलिस ने इन स्टूलों को जाल पर लटकी लाशों के नजदीक के बरामद किया था। नाम न बताने की शर्त पर एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि भाटिया परिवार अंधविश्वास में डूबा हुआ था। यह बात पुलिस को भी बुधवार को मामले की तहकीकात के दौरान पता लगी। परिवार के लोग मानते थे कि क्रिया और अनुष्ठान करने के दौरान फांसी के फंदे पर लटकने से उन्हें कुछ भी नहीं होगा।

हैरानी की बात है कि फांसी के फंदे पर चढ़ने के लिए घर के लोग कई दिन पहले से तैयारियां कर रहे थे। चूंकि उनके यहां अधिक संख्या में स्टूल नहीं थे, लिहाजा वे लोग बाजार से उन्हें खरीद कर लाए थे। फांसी पर चढ़ने के लिए कुल छह स्टूल इस्तेमाल किए गए थे। फिलहाल पुलिस इस मामले की तहकीकात में जुटी है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App