ताज़ा खबर
 

दिल्‍ली में आप को झटका, बवाना विधायक वेद प्रकाश बीजेपी में शामिल, बोले- मोदी को बदनाम करने का काम करते हैं केजरीवाल

दिल्‍ली में 2015 में हुए विधानसभा चुनावों में वेद प्रकाश ने 51 हजार मतों से जीत दर्ज की थी।

बवाना से विधायक वेद प्रकाश भाजपा में शामिल हो गए हैं।

दिल्‍ली में नगर निकायों के चुनावों से ठीक पहले आम आदमी पार्टी को झटका लगा है। बवाना से विधायक वेद प्रकाश भाजपा में शामिल हो गए हैं। भाजपा में आने के बाद उन्‍होंने आप और दिल्‍ली के मुख्‍यमंत्री अरविंद केजरीवाल को निशाने पर लिया। वेद प्रकाश ने कहा कि वे नाकाम और बड़बोलों के बीच फंस गए थे। दिल्‍ली में हर जगह रिश्‍वत चल रही है। वे दिल्‍ली भाजपा अध्‍यक्ष मनोज तिवारी की मौजूदगी में भाजपा में शामिल हुए। उन्‍होंने कहा कि वे विधानसभा से इस्‍तीफा देने जा रहे हैं और भाजपा में कोर्इ पद नहीं लेंगे। प्रधानमंत्री मोदी की तारीफ करते हुए वे बोले, ”मैं मोदीजी की नीतियों को देखकर भाजपा में आया हूं। पीएम की नीति से जुड़कर काम करूंगा।”

वेद प्रकाश ने पत्रकारों से बातचीत में कहा कि आप के लगभग 30-35 विधायक नाराज चल रहे हैं। उन्‍होंने आप पर आरोप लगाया कि वहां पर विधायकों की आवाज दबाया जाता है। वहां उम्‍मीद के गया था लेकिन कोई बदलाव नहीं हुआ। दिल्‍ली के मुख्‍यमंत्री पर हमला बोलते हुए उन्‍होंने कहा कि अरविंद केजरीवाल का एक ही काम है कि कैसे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उपराज्‍यपाल को बदनाम किया जाए। वे काम को पूरा किए बिना भेज देते हैं और फिर आरोप केंद्र सरकार पर मढ़ देते हैं। केजरीवाल को कूछ लोगों ने घेर रखा है और वे उनके कान भरते रहते हैं।

बता दें कि दिल्‍ली में 2015 में हुए विधानसभा चुनावों में वेद प्रकाश ने 51 हजार मतों से जीत दर्ज की थी। उनके इस्‍तीफे के बाद अब बवाना सीट के लिए दोबारा चुनाव होंगे। बता दें कि यहां पर राजौर गार्डन सीट पर भी जल्‍द ही चुनाव होने जा रहे हैं। यह सीट आप विधायक जरनैल सिंह के इस्‍तीफे के चलते खाली हुई थी। जरनैल सिंह ने पंजाब विधानसभा का चुनाव लड़ने के लिए इस्‍तीफा दिया था।

राजौरी गार्डन में अगले महीने एमसीडी चुनावों के साथ ही मतदान होना है। आप के लिए हाल ही में पंजाब और गोवा में हुए विधानसभा चुनावों के नतीजे भी मनमुताबिक नहीं आए। पंजाब में वह जीत के दावे कर रही थी लेकिन वह दूसरे नंबर पर रही। वहीं गोवा में तो उसे एक भी सीट नहीं मिली और उसके लगभग सभी उम्‍मीदवारों की जमानत जब्‍त हो गई थी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App