ताज़ा खबर
 

VIDEO: बच्चों को बंधक बनाया, केजरीवाल की प्रिसिंपल को वॉर्निंग- ऐसी हरकत नहीं करेंगे बर्दाश्त

फीस जमा न होने पर बच्चियों को तलघर में कैद करने के मामले में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने स्कूल की प्रिंसिपल नहीद उस्मानी को चेतावनी देते वक्त समझाते हुए भी नजर आए।

स्कूल प्रिंसिपल से बात करते हुए सीएम अरविंद केजरीवाल। (एएनआई के वीडियो से लिए गया स्क्रीनशॉट)

फीस जमा न होने पर बच्चियों को तलघर में कैद करने के मामले में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल गुरुवार (12 जुलाई) को स्कूल की प्रिंसिपल नहीद उस्मानी को चेतावनी देते वक्त समझाते हुए भी नजर आए। मीडिया के कैमरों के सामने अरविंद केजरीवाल ने स्कूल की प्रिंसिपल से कहा, ”आप एहसास कर रही हैं कि आपने कानून के अंदर कितनी सारी गड़बड़ियां करी हैं। अगर कोई कोर्ट में चला जाए तो क्या होगा, ये ठीक नहीं है, बच्चों को इस तरह से ट्रीट करना ठीक नहीं है, हमारी सरकार के लिए शिक्षा सबसे अहम चीज है, ठीक है.. तो इस तरह से फीस को लेने के लिए बच्चों को गलत तरीके से इस्तेमाल करना.. ये जायज नहीं है, तो हम आपसे निवदेन करते हैं जो भी इसपे कार्रवाई होगी कानूनी.. वो तो हम लोग करेंगे.. ठीक है.. पुलिस अपनी कार्रवाई कर रही है, दिल्ली सरकार अपनी कार्रवाई करेगी लेकिन फ्यूचर में इस किस्म की हरकत बिल्कुल बर्दाश्त नहीं की जाएगी।”

बता दें कि पुरानी दिल्ली के हौजकाजी स्थित राबिया गर्ल्स पब्लिक स्कूल ने जून महीने की फीस नहीं मिलने पर कथित तौर पर केजी और नर्सरी की 4-5 वर्ष की 59 बच्चियों को करीब पांच घंटों तक भूखा-प्यासा स्कूल के बेसमेंट में बंद रखा था। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक अभिभावक सुबह सात बजे बच्चियों को स्कूल छोड़ आए थे लेकिन जब छुट्टी के वक्त उन्हें वापस लेने पहुंचे को बच्चियां कक्षा में नहीं मिलीं। स्टाफ में से किसी ने जानकारी दी कि बच्चियां बेसमेंट में हैं। अभिभावक उस तरफ दौड़े तो देखा कि बाहर से कुंडी लगी थी। दरवाजा खोलते ही बच्चियां चीखते हुए रो पड़ीं।

स्कूल के इस कथित बर्ताव को देखते हुए अभिभावकों ने कथित तौर पर स्कूल के बाहर प्रदर्शन किया। मामले की आंच दिल्ली सरकार तक पहुंची। केजरीवाल ने दिल्ली के शिक्षा निदेशक और शिक्षा सचिव को तलब कर लिया। मनीष सिसोदिया ने ट्वीट कर इसकी जानकारी दी। उन्होंने घटना को अमानवीय करार दिया। गुरुवार को स्कूल की प्रिंसिपल को केजरीवाल ने चेतावनी दी। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक स्कूल के खिलाफ कार्रवाई की जा रही है लेकिन सोशल मीडिया पर लोगों की मिली-जुली प्रतिक्रियाएं आ रही है। कोई प्रिंसिपल से केजरीवाल के बात करने के तरीके को सराह रहा है तो कोई कह रहा है कि स्कूल विशेष समुदाय का है इसलिए समझाकर काम चला रहे हैं।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App