ताज़ा खबर
 

चार साल की बच्ची के साथ बलात्कार करने वाले दोषी टीचर के खिलाफ डेथ वॉरंट जारी, जानें कब होगी फांसी

मध्यप्रदेश के सतना जिले की एक अदालत ने चार वर्षीय बच्ची के साथ बलात्कार करने के मामले में 28 वर्षीय सरकारी अतिथि शिक्षक महेंद्र सिंह गोंड को फांसी का वॉरंट जारी कर दिया है।

Author Updated: February 4, 2019 5:56 PM
crime, crime news, crime news jansattaप्रतीकात्मक फोटो, फोटो सोर्स- इंडियन एक्सप्रेस

मध्यप्रदेश के सतना जिले की एक अदालत ने चार वर्षीय बच्ची के साथ बलात्कार करने के मामले में 28 वर्षीय सरकारी अतिथि शिक्षक महेंद्र सिंह गोंड को फांसी का वॉरंट जारी कर दिया है। यह वारंट जबलपुर केन्द्रीय जेल को भेजा गया है और 2 मार्च को इस शिक्षक को फांसी पर लटकाने की तारीख तय की गई है। हालांकि, उसके लिए अपनी फांसी को रूकवाने के वास्ते उच्चतम न्यायालय में जाने के साथ-साथ राष्ट्रपति के समक्ष दया याचिका पेश करने के विकल्प अब भी खुले हुए हैं।

क्या है पूरा मामला: जबलपुर केन्द्रीय जेल के विधि अधिकारी अशोक सिंह ने ‘पीटीआई-भाषा’ को बताया, ‘बलात्कार के दोषी पाये गये महेन्द्र सिंह गोंड को फांसी पर लटकाने का वारंट सुनवाई अदालत से ई-मेल के जरिए जबलपुर केन्द्रीय जेल को मिला है। वारंट के मुताबिक 2 मार्च 2019 की तारीख उसे फांसी पर लटकाने के लिए तय की गई है।’ इसके साथ ही अशोख सिंह ने कहा, ‘गोंड खुद को सुनाई गई फांसी की सजा को उच्चतम न्यायालय में चुनौती देने जा रहे हैं, जिसकी प्रक्रिया भी जारी है।’ सिंह ने कहा, ‘फांसी रूकवाने के लिए उच्चतम न्यायालय में जाने के साथ-साथ गोंड के पास राष्ट्रपति के समक्ष दया याचिका पेश करने का विकल्प अब भी खुला है।’ उन्होंने स्पष्ट किया कि उसे फांसी तभी दी जाएगी, जब फांसी को रूकवाने के लिए उसके सारे उपलब्ध विकल्प खत्म हो जाएंगे।

19 सितंबर को सुनाई गई थी सजा: बता दें कि सतना जिले की नागौद अदालत के प्रथम अपर सत्र न्यायाधीश दिनेश कुमार शर्मा ने चार वर्षीय बच्ची का अपहरण कर बलात्कार करने के मामले में महेंद्र सिंह गोंड को दोषी करार देते हुए 19 सितंबर को मृत्युदंड की सजा सुनाई थी, जिसे मध्य प्रदेश उच्च न्यायालय ने 25 जनवरी को बरकरार रखा। शर्मा की अदालत ने शिक्षक के इस अपराध को दुर्लभ से दुर्लभतम की श्रेणी वाला माना था और उसे भादंवि की धारा 376 (क, ख) तथा पॉक्सो अधिनियम की धारा 5/6 के तहत मृत्युदंड की सजा सुनाई थी । धारा 376 (क ख) में 12 वर्ष से कम उम्र की बच्ची के साथ मृत्युदंड का प्रावधान हाल ही में किया गया है। इसके अलावा, अदालत ने महेंद्र को भादंवि की धारा 363 के तहत 7 साल सश्रम कारावास और 5,000 रूपये के अर्थदंड की सजा भी सुनाई थी।

कहां हुई थी घटना: जबलपुर केन्द्रीय जेल के विधि अधिकारी अशोक सिंह ने बताया कि बलात्कार की यह घटना सतना जिला मुख्यालय से करीब 30 किलोमीटर दूर उचेहरा थाना क्षेत्र के पन्ना गांव में पिछले साल यानी एक जुलाई 2018 की रात को हुई थी। अपने घर के बाहर सो रही बच्ची को महेंद्र अगवा कर ले गया था और दुष्कर्म करने के बाद उसे सुनसान इलाके में फेंक दिया था। दो जुलाई को तड़के बच्ची गंभीर हालत गांव के पास ही सुनसान इलाके में झाड़ियों में मिली थी और उसी दिन महेंद्र गोंड को गिरफ्तार कर लिया गया था।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 राम मंदिर: आचार्य ने दी नतीजे भुगतने की धमकी, बोले- रामभक्तों की उम्मीदों पर खरी नहीं उतरी मोदी सरकार
2 देवबंद में अवैध रूप से रह रहे 5 बांग्लादेशी गिरफ्तार, जांच में जुटी पुलिस
3 कांग्रेस नेता का बड़ा हमला, कहा- लोकसभा चुनाव में वोट पाने के लिए दंगे भी करा सकती है BJP