ताज़ा खबर
 

Gujarat: पेड़ से बांधकर दलित छात्र की दो लोगों ने की पिटाई, ऊंची जाति की लड़की से था अफेयर !

गुजरात में एक दलित छात्र की पेड़ से बांधकर पिटाई करने का मामला सामने आया है। पीड़ित के मुताबिक पिटाई करते वक्त उससे कहा गया कि उस पढ़ाई नहीं मजदूरी करनी चाहिए। वहीं इस मामले में ऊंची जाति की लड़की के साथ अफेयर की बात भी सामने आ रही है।

प्रतीकात्मक फोटो, फोटो सोर्स- इंडियन एक्सप्रेस

गुजरात के पाटन में 17 वर्षीय दलित छात्र के साथ पेड़ से बांधकर पिटाई करने का मामला सामने आया है। बता दें कि छात्र अपनी परीक्षा के लिए सेंटर के बाहर इंतजार कर रहा था तभी एक शख्स उसे किसी काम के बहाने से सेंटर से दूर लेकर गया। इसके बाद आरोपी पीड़ित छात्र को अपनी साथी के साथ बाइक पर बैठाकर ले गया और पेड़ से बांधकर उसकी पिटाई की। फिलहाल छात्र मेहसाना के अस्पताल में भर्ती है और उसका इलाज जारी है।


कहां का है पूरा मामला:
दरअसल पूरा मामला पाटन जिले में चाणस्मा तालुका के गोराड गांव का है। जहां 18 मार्च को दलित छात्र मितकुमार नरेशभाई चावड़ा अपने इंग्लिश के बोर्ड एग्जाम के लिए सेंटर के बाहर खड़ा था। पीड़ित ने बताया- मैं सार्वजनिक विद्या मंदिर हाई स्कूल में स्टेट ट्रांसपोर्ट बस से करीब एक बजे पहुंच गया था। मैं वहां इंतजार कर रहा था तभी वहां रमेश पटेल (स्टेट ट्रांसपोर्ट बस का कंडक्टर) आया और बोला कि उसे मुझसे कुछ काम है। यह बात बोलकर वो मुझे सेंटर से थोड़ी दूर लेकर गया जहां बाइक पर उसका एक साथी इंतजार कर रहा था। इसके बाद दोनों मुझे गोराड गांव के एक फार्म पर लेकर गए।

पढ़ें दिन भर के लाइव अपडेट्स

एग्जाम छूट जाएगा: दलित छात्र की मां तरुना ने इंडियन एक्सप्रेस को बताया कि रास्ते में उसके बेटे ने कहा कि उसका एग्जाम छूट जाएगा उसे जाने दें। लेकिन दोनों आरोपियों ने कहा कि वो चिंता न करे वो एग्जाम शुरू होने से पहले उसे सेंटर छोड़ देंगे। इसके बाद उन्होंने खेत में उसे एक पेड़ से बांध दिया और लकड़ी से उसकी पिटाई करना शुरू कर दी। जब पीड़ित दलित छात्र ने इसकी वजह पूछी तो उन्होंने कहा कि उसे पढ़ाई नहीं बल्कि मजदूरी करनी चाहिए। बता दें कि पीड़ित छात्र की मां एक प्लाईवुड फैक्ट्री में काम करती है। इस वजह से वो सभी मेहसाना में शिफ्ट हुए थे। वहीं उसके पिता का हाल ही में एक्सीडेंट हो गया था जिसके बाद डॉक्टर्स ने उन्हें आराम करने के लिए कहा है।

डर की वजह से किसी को कुछ नहीं बताया: इस घटना के बाद पीड़ित दलित छात्र टैक्सी कर अपने घर आ गया और उसने एग्जाम भी नहीं दिया। इसके साथ ही मितकुमार ने डर की वजह से इस घटना के बारे में किसी को कुछ नहीं बताया। लेकिन बुधवार (20 मार्च) को जब मितकुमार की मां ने उसके जख्म देखे तो सारा मामला सामने आया।

पुलिस ने दर्ज किया मामला: जैसे ही मितकुमार की मां को पूरी बात पता लगी वैसी ही वो उसको लेकर अस्पताल गईं और इलाज के बाद पुलिस स्टेशन में एफआईआर करवाई। पुलिस ने आईपीसी की धारा 323, 341, 504, 506 (2) और 114 के तहत मामला दर्ज कर लिया है। वहीं डिप्टी एसपी आरपी जाला का कहना है कि चूंकि बस कंडक्टर का हमारे पास पूरा नाम नहीं है और पीड़ित उसे सिर्फ चेहरे से पहचानता है इसलिए कार्रवाई में थोड़ी देरी हो रही है। लेकिन जांच जारी है। जल्द ही आरोपी पुलिस गिरफ्त में होंगे।

 

ऊंची जाति की लड़की से था अफेयर: वहीं इस मामले में यह भी सुनने को मिला की पीड़ित दलित छात्र का ऊंची जाति की लड़की के साथ अफेयर था जिसके चलते यह घटना हुई है। वहीं पीड़ित की मां का कहना है कि उसके बेटे को बदनाम करने के लिए यह अफवाह फैलाई जा रही है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App। जनसत्‍ता टेलीग्राम पर भी है, जुड़ने के ल‍िए क्‍ल‍िक करें।

Next Stories
1 Holi Updates: दिल्ली पुलिस ने काटे 13 हजार से अधिक चालान, यूपी में भाजपा नेता पर चली गोली
2 National Hindi News Today: अलगाववादी नेता यासीन मलिक के संगठन JKLF पर केंद्र सरकार ने लगाया बैन
3 8905 रुपये की एंबैसेडर कार और 63.87 करोड़ की संपत्ति के मालिक हैं ओडिशा के सीएम, लेकिन कैश सिर्फ 25 हजार रुपये