ताज़ा खबर
 

नाम में सिंह लगाना दलित युवक को पड़ा भारी! ऊंची जाति वालों ने कर दी पिटाई

मंदिर में शादी की रस्मों के दौरान अचानक बाहर से पत्थरबाजी शुरू हो गई। मंदिर के बाहर खड़ी भीड़ ने दुल्हे पर पत्थरों की बरसात कर दी। इस हमले में पत्थर लगने की वजह से दूल्हा गंभीर रुप से घायल हो गया। इस हमले में दलित परिवार के कई लोग जख्मी हो गए हैं।

प्रतीकात्मक तस्वीर

इधर गुजरात के बनासकांठा जिले में कथित रुप से उच्च जाति के लोगों द्वारा दलित परिवार के साथ मारपीट करने का मामला सामने आया है। मिली जानकारी के मुताबिक बनासकाठा गांव में एक दलित परिवार के सदस्य की शादी गोलागाम स्थित एक मंदिर में हो रही थी। इस दौरान वहां कुछ लोगों ने पत्थरबाजी शुरू कर दी। कहा जा रहा है कि दलित परिवार ने शादी के कार्ड में ‘सिंह’ सरनेम लिखा था। इस बात से उच्च जाति के कुछ लोग यहां काफी नाराज थे। कुछ दिनों पहले इस संबंध में दलित परिवार को धमकियां भी मिली थीं, जिसके बाद पुलिस सुरक्षा में यह शादी करवाई जा रही थी।

मंदिर में शादी की रस्मों के दौरान अचानक बाहर से पत्थरबाजी शुरू हो गई। मंदिर के बाहर खड़ी भीड़ ने दुल्हे पर पत्थरों की बरसात कर दी। इस हमले में पत्थर लगने की वजह से दूल्हा गंभीर रुप से घायल हो गया। इस हमले में दलित परिवार के कई लोग जख्मी हो गए हैं। दलित परिवार के लोगों का कहना है कि पत्थरबाजी के दौरान उनलोगों ने मंदिर के बाहर रखा पानी पीने का घड़ा भी तोड़ दिया। इस मामले में थाने में एफआईआर दर्ज करा दी गई है और पुलिस ने कार्रवाई करते हुए दो आरोपियों को गिरफ्तार भी किया है।

इस मामले में पीड़ित परिवार का कहना है कि शादी के निमंत्रण कार्ड में घर के दो बच्चों के नाम के आगे सिंह लगा हुआ था। दरबार समुदाय के लोगों ने इसपर आपत्ति दर्ज कराई थी। दलित परिवार के मुखिया कांजी भद्रू खुद भी पुलिस में हैं और उन्हें कई सारे धमकी भरे कॉल मिले थे। धमकी भरे कॉल मिलने के बाद कांजी भडरू ने पुलिस में जो शिकायत दर्ज करवाई थी उसमें कहा था कि दरबार समुदाय ने सिंह सरनेम लगाने पर आपत्ति जताई है। उनका कहना है कि यह सरनेम सिर्फ दरबार और राजपूतों द्वारा इस्तेमाल किया जाता है। फिलहाल पुलिस ने एहतियात के तौर पर इस पूरे परिवार को अब सुरक्षा मुहैया करा दी है। पुलिस का कहना है कि पत्थरबाजी में शामिल लोगों के पहचान के लिए कोशिशें की जा रही है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App