ताज़ा खबर
 

प्रभाकर मणि तिवारी की रिपोर्ट : माकपा की अब आम लोगों से जुड़ने की चाह

बीते सप्ताह यहां प्रदेश समिति की बैठक में कांग्रेस के साथ तालमेल के सवाल पर हुई बहस में केरल लॉबी को मात देने के बाद प्रदेश माकपा नेतृत्व ने अब अपने तमाम कार्यकर्ताओं को घर-घर जाकर आम लोगों से संबंधों के टूटे तारों को जोड़ने का निर्देश दिया है।

Author कोलकाता | July 18, 2016 00:20 am
भारतीय कम्यूनिस्ट पार्टी। (फाइल फोटो)

बीते सप्ताह यहां प्रदेश समिति की बैठक में कांग्रेस के साथ तालमेल के सवाल पर हुई बहस में केरल लॉबी को मात देने के बाद प्रदेश माकपा नेतृत्व ने अब अपने तमाम कार्यकर्ताओं को घर-घर जाकर आम लोगों से संबंधों के टूटे तारों को जोड़ने का निर्देश दिया है। प्रदेश मुख्यालय से तमाम जिला और शाखा समितियों को भेजे गए निर्देश में पार्टी कॉडरों से आम लोगों से संबंध मजबूत करने और फासीवादी व सांप्रदायिक ताकतों के खिलाफ जनमत तैयार करने के लिए वे दुर्गम इलाकों में भी घर-घर पहुंचने को कहा गया है।

बंगाल में कांग्रेस के साथ तालमेल के सवाल पर प्रकाश कारत गुट के कड़े विरोध के बावजूद महासचिव सीताराम येचुरी ने प्रदेश समिति की दलीलों का समर्थन किया है। इससे बंगाल के नेताओं के हौसले बुलंद हैं। येचुरी ने तृणमूल कांग्रेस और भाजपा के खिलाफ मजबूत जनमत तैयार करने के लिए आंदोलन और उसकी रणनीति बनाने का जिम्मा प्रदेश नेतृत्व को सौंप दिया है। उसके बाद ही प्रदेश नेतृत्व ने तमाम शाखाओं को इस दिशा में जल्द ठोस पहल करने का निर्देश दिया है।

प्रदेश माकपा के एक नेता कहते हैं कि येचुरी ने तृणमूल कांग्रेस और भाजपा की दोहरी चुनौती से मुकाबले के लिए लोकतांत्रिक ताकतों को एकजुट रखने की प्रदेश समिति की मुहिम को मंजूरी दे दी है। माकपा कॉडरों को एक और जहां तृणमूल कांग्रेस कार्यकर्ताओं के अत्याचारों व हमलों का सामना करना पड़ रहा है वहीं वह भाजपा के बढ़ते असर से भी परेशान है। प्रदेश समिति की बैठक में पास एक प्रस्ताव में कहा गया है कि तृणमूल कांग्रेस की आतंक फैलाने की रणनीति, तानाशाही रवैए और पुलिस प्रशासन के दुरुपयोग के खिलाफ आवाज उठाने के लिए पहले जिलों में आम लोगों और पार्टी के बीच बनी खाई को पाटना सबसे जरूरी है।

पार्टी की राय में ऐसी ताकतों से निपटने के लिए पहले जनाधार को मजबूत करना जरूरी है। माकपा सूत्रों का कहना है कि पार्टी अपने इस अभियान के तहत उन इलाकों पर ज्यादा जोर देगी जहां वामपंथी दलों ने कांग्रेस के साथ मिल कर पिछला विधानसभा चुनाव लड़ा था। प्रदेश नेतृत्व ने जिला समितियों को संगठन को मजबूत बनाने पर ध्यान देने को कहा है। राज्य समिति के एक नेता कहते हैं कि पार्टी की राय में पश्चिम बंगाल में वामपंथी ताकतों के सफाए के लिए तृणमूल कांग्रेस और भाजपा मिल कर काम कर रही हैं। यही वजह है कि इन दोनों ताकतों से एक साथ निपटने के लिए पार्टी ने घर-घर जाकर जनसंपर्क बढ़ाने और इसके जरिए संगठन को मजबूत करने की कवायद शुरू की है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App