यूपी में योगी सरकार गौवंश के लिए करने जा रही है बड़ी पहल, गायों के लिए शुरू होंगी एंबुलेंस सेवा

यूपी में योगी आदित्यनाथ की सरकार अब गौवंशों के लिए एंबुलेंस सेवा शुरू करने जा रही है। योगी सरकार का यह फैसला यूपी विधानसभा चुनाव से भी जोड़कर देखा जा रहा है।

cow ambulence, up election
यूपी में जल्द शुरू होगी गायों के लिए एंबुलेंस सेवा (एक्सप्रेस फाइल फोटो)

यूपी में चुनाव से पहले योगी सरकार गायों के लिए एंबुलेंस सेवा शुरू करने जा रही है। राज्य सरकार ने इसके लिए सारी तैयारियां भी कर ली है। एक पशु चिकित्सक और दो सहायकों के साथ एम्बुलेंस सेवा, कॉल करने के 15 से 20 मिनट के भीतर पहुंच जाएगी।

उत्तरप्रदेश राज्य डेयरी विकास, पशुपालन और मत्स्य पालन मंत्री लक्ष्मी नारायण चौधरी ने रविवार को कहा कि योगी सरकार गंभीर बीमारियों से पीड़ित गायों के लिए एम्बुलेंस सेवा शुरू करने के लिए पूरी तरह तैयार है। उन्होंने कहा कि देश में इस तरह की ये पहली योजना है। इस योजना के तहत 515 एम्बुलेंस सेवा के लिए तैयार है। यह 24 घंटे काम करेगा।

चौधरी ने मथुरा में संवाददाताओं से कहा- “नई सेवा गंभीर रूप से बीमार गायों के उपचार का मार्ग प्रशस्त करेगी। दिसंबर से शुरू होने वाली योजना के तहत शिकायत प्राप्त करने के लिए लखनऊ में एक कॉल सेंटर स्थापित किया जाएगा, जहां मौजूद कर्मचारी सूचना मिलते हीं आगे की कार्रवाई में जुट जाएंगे और 15-20 मिनट के अंदर एंबुलेंस पहुंच जाएगी। एंबुलेंस में एक डॉक्टर और दो असिस्टेंट भी मौजूद रहेंगे। जिससे बीमार गौवंश का तुरंत इलाज मिल सकेगा।”

उन्होंने बताया कि यह योजना पायलट प्रोजेक्ट के तौर पर मथुरा समेत राज्य के आठ जिलों में पहले शुरू होगी। जिसके बाद अन्य जिलों में शुरू किया जाएगा। इस योजना का उद्देश्य यह है कि बीमार गायों को जल्द से जल्द इलाज मिल जाए और जरूरत पड़ने पर उन्हें अस्पताल तक पहुंचाने में दिक्कत ना हो। मंत्री ने कहा कि राज्य के इतिहास में पहली बार योगी आदित्यनाथ सरकार ने आवारा पशुओं को रखने के लिए गौशालाओं को फंड दिया है। राज्य की पिछली किसी सरकार ने ऐसा कदम नहीं उठाया था।

पशुपालन मंत्री मे आगे कहा कि मुफ्त उच्च गुणवत्ता वाले वीर्य और भ्रूण प्रत्यारोपण तकनीक से राज्य के नस्ल सुधार कार्यक्रम को बढ़ावा मिलेगा। इससे आवारा पशुओं की समस्या का भी समाधान हो जाएगा, क्योंकि गौपालक प्रतिदिन कम से कम 20 लीटर दूध देने वाले पशुओं को छोड़ने से परहेज करेंगे।

पढें राज्य समाचार (Rajya News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

Next Story
शी का रणनीतिक संबंधों को आगे बढ़ाने का आह्वान, मोदी ने उठाया घुसपैठ का मुद्दा