ताज़ा खबर
 

Covid 19: बिहार के दो और मेडिकल कालेज अस्पताल कोरोना विशेष घोषित

स्वास्थ्य महकमा के अपर सचिव के दस्तखत से जारी अधिसूचना संख्या 54 दिनांक 5 अप्रैल 2020 के मुताबिक जवाहरलाल नेहरू भागलपुर मेडिकल कालेज अस्पताल और अनुग्रह नारायण गया मेडिकल कालेज अस्पताल में अब केवल कोरोना संक्रमित मरीजों का ही इलाज होगा।

प्रतीकात्मक तस्वीर।

गिरधारी लाल जोशी

कोरोना संक्रमण के तेजी से फैलने के खतरे की शंका की वजह से बिहार के दो और मेडिकल कालेज अस्पताल को कोरोना विशेष घोषित किया गया है। इस सिलसिले में स्वास्थ्य महकमा की अधिसूचना इतवार को देर शाम जारी हुई है। साथ ही दूसरी सूचना जारी कर राज्य के स्वास्थ्य महकमा से जुड़े निदेशक प्रमुख से लेकर डाक्टरों, व तमाम कर्मचारियों की छुट्टी 30 अप्रैल तक रद्द कर दी है। यह छुट्टी पहले 31 मार्च तक रद्द की गई थी। इधर एक अच्छी खबर अस्पताल के अधीक्षक डा.रामचरित्र मंडल ने दी है कि भागलपुर में भर्ती छह पोजेटिव मरीजों की रिपोर्ट अब निगेटिव आई है। इनमें चार मुंगेर और दो सहरसा के है। एक 65 साल के नौगछिया के पोजेटिव रिपोर्ट वाला संक्रमित मरीज का इलाज चल रहा है। उसे इतवार को ही भर्ती किया गया है।

स्वास्थ्य महकमा के अपर सचिव के दस्तखत से जारी अधिसूचना संख्या 54 दिनांक 5 अप्रैल 2020 के मुताबिक जवाहरलाल नेहरू भागलपुर मेडिकल कालेज अस्पताल और अनुग्रह नारायण गया मेडिकल कालेज अस्पताल में अब केवल कोरोना संक्रमित मरीजों का ही इलाज होगा। इसके लिए अपनी तैयारी के वास्ते सरकार ने अस्पताल प्रशासन को दो दिनों का समय दिया है। पटना का नालंदा मेडिकल कालेज अस्पताल पहले ही कोरोना मरीजों के इलाज के वास्ते समर्पित कर दिया गया था।

जारी अधिसूचना में भागलपुर मेडिकल कालेज अस्पताल के दूसरे विभागों के वार्ड में पहले से भर्ती रोगियों को बर्द्धमान आयुर्विज्ञान संस्थान पावापुरी नालंदा और गया मेडिकल कालेज अस्पताल के मरीजों को पटना मेडिकल कालेज अस्पताल स्थानांतरित करने का आदेश है। बताते है कि भागलपुर में दो सौ से ज्यादा मरीज भर्ती है। यही हाल गया का है। नतीजतन इन मरीजों की सामत है। दरअसल ये सभी मरीज भागलपुर और गया के आसपास इलाके के है। इन्हें दूसरी जगह शिफ्ट करने से रोगियों और इनके घर वालों को भारी परेशानी झेलनी पड़ेगी।

जारी अधिसूचना में साफ तौर पर लिखा गया है कि वर्तमान में वायरस से संक्रमित मरीजों की संख्या में संभावित तेजी से फैलाव को देखते हुए अपने संस्थान को पूरी तौर पर कोरोना मरीजों के इलाज के लिए समर्पित करें। यह निर्देश भागलपुर और गया मेडिकल कालेज अस्पताल के प्राचार्य और अधीक्षक को भेजा गया है। जिसकी प्रतिलिपि प्रमंडलीय आयुक्त को भेजी है।

इसके अलावे अधिसूचना के मुताबिक कोरोना संक्रमित मरीजों के इलाज के लिए तीनों मेडिकल कालेजों का इलाका भी तय किया है। मसलन नालंदा मेडिकल कालेज अस्पताल अब तिरहुत, सारण, दरभंगा, मुंगेर और पटना प्रमंडल के सभी ज़िलों (कैमूर व रोहतास छोड़कर) के संक्रमित मरीजों का इलाज करेगी। इसी तरह गया मेडिकल कालेज अस्पताल में कैमूर, रोहतास ज़िलों और पूरे मगध प्रमंडल के कोरोना रोगियों का उपचार होगा। वहीं भागलपुर मेडिकल अस्पताल में कोशी, पूर्णिया और भागलपुर प्रमंडल के सभी ज़िलों के संक्रमित मरीजों का इलाज किया जाएगा।

अलबत्ता बिहार के इन तीन मेडिकल कालेज अस्पताल में अब कोरोना संक्रमित छोड़कर दूसरे मरीजों का उपचार नहीं होगा। ऐसा जारी अधिसूचना से साफ है। साथ ही इस बात का भी खुलासा होता है कि आने वाले दिनों में कोरोना के मरीजों में बेतहाशा इजाफे की आशंका है। तभी राज्य सरकार व्यापक पैमाने पर अपनी तैयारी को लेकर सतर्क है। भागलपुर मेडिकल कालेज में फिलहाल एक सौ दस विस्तर वाला कोरोना वार्ड कार्यरत है।**

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App। जनसत्‍ता टेलीग्राम पर भी है, जुड़ने के ल‍िए क्‍ल‍िक करें।

Next Stories