ताज़ा खबर
 

सूरत की स्थिति हुई बद से बदतर- कोरोना पर रूपाणी सरकार, सूरत प्रशासन की खिंचाई कर बोला गुजरात HC

हाई कोर्ट ने कहा कि राज्य और शहर का प्रशासन सूरत की मौजूदा हालात के लिए जिम्मेदार है, जहां हालात बद से बदतर हो गए हैं। कोर्ट ने कहा कि राज्य सरकार का स्वास्थ्य विभाग जानता था कि सूरत में कुछ ही समय में कोरोना विस्फोट होगा।

Author Translated By Ikram अहमदाबाद | Updated: August 5, 2020 8:14 AM
Coronavirus casesकोरोना वायरस पर खराब होते हालात पर गुजरात हाई कोर्ट ने नाराजगी जताई है।

गुजरात हाई कोर्ट ने कोरोना वायरस महामारी से निपटने में ‘देरी से प्रतिक्रिया’ पर सीएम विजय रूपाणी सरकार और सूरत प्रशासन की खिंचाई की है। हाई कोर्ट ने ये टिप्पणी तब की जब चीफ जस्टिस (HC) विक्रम नाथ और जस्टिस जेबी पादरीवाल की खंडपीठ राज्य में कोविड-19 की स्थिति से संबंधित जनहित याचिकाओं (पीआईएल) पर सुनवाई कर रही थी। सूरत में पिछले एक महीने से कोरोना के अधिक से अधिक मामले दर्ज किए जा रहे हैं।

हाई कोर्ट ने कहा कि राज्य और शहर का प्रशासन सूरत की मौजूदा हालात के लिए जिम्मेदार है, जहां हालात बद से बदतर हो गए हैं। कोर्ट ने कहा कि राज्य सरकार का स्वास्थ्य विभाग जानता था कि सूरत में कुछ ही समय में कोरोना विस्फोट होगा। हमें सूचित किया गया है कि टेस्टिंग की संख्या भी नहीं बढ़ाई गई। जैसे-जैसे सूरत में स्थिति खराब होती चली गई और उसी का असर पूरे दक्षिणी गुजरात में देखने को मिल रहा है। खासकर ग्रामीण इलाके सबसे अधिक प्रभावित हैं। सूरत में मृत्युदर भी काफी अधिक है।

कोर्ट ने अब राज्य सरकार से आठ मामलों में जल्द से जल्द एक रिपोर्ट मांगी है। जिसमें कोरोना रोकथाम के लिए सूरत स्वास्थ्य विभाग द्वारा उठाए गए कदम, कोरोना का इलाज करने वाले हॉस्पिटल, आइसोलेशन बेड की डिटेल और अन्य महत्वपूर्ण देखभाल सुविधाएं, गरीब मरीजों के लिए प्राइस रेगुलेशन और बेड की उपलब्धता, हॉस्पिटलों में कोरोना के एक्टिव मरीजों की संख्या, कोविड केयर सेंटर्स, होम आइसोलेशन सुविधा और कोरोना से होने वाली मौतों को रोकने के लिए किए गए उपाय।

Coronavirus India LIVE Updates

हाई कोर्ट ने गुजरात में कहीं और संक्रमण के प्रसार को नियंत्रित करने के लिए की गई कार्रवाई की भी जानकारी मांगी। इसके अलावा सूरत के हीरा और कपड़ा उद्योगों के कर्मचारियों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए उठाए गए कदमों की जानकारी मांगी। पीठ ने आगे कहा कि सूरत राज्य में महामारी का केंद्र बन गया है जहां गुजरात के हर पांच मामलों में से औसतन एक मामला दर्ज किया जा रहा है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 भूमि पूजन के लिए अयोध्या तैयार
2 Non Chinese Smartphone: Lava Z66 बजट फोन भारत में लॉन्च, कीमत 8 हजार से कम, जानें फीचर्स
3 राम के रंग में रंगे कमलनाथ: भूमिपूजन से पहले टि्वटर पर भगवावस्त्र में लगाया फोटो, अयोध्या भेज रहे 11 चांदी की ईंटें
ये पढ़ा क्या?
X