ताज़ा खबर
 

बंद होंगे बिहार के सारे क्वारंटीन सेंटर, स्टेशनों पर थर्मल स्क्रीनिंग भी नहीं- नीतीश सरकार का फैसला

Covid-19: राज्य सरकार ने ये फैसला ऐसे समय में लिया है जब बिहार लौटने वाले कई प्रवासियों को कोविड-19 की पुष्टि हुई है। सोमवार तक प्रदेश में कोरोना संक्रमितों की संख्या बढ़कर 3945 हो चुकी है।

Author Translated By Ikram पटना | Updated: June 2, 2020 12:43 PM
covid-19बिहार में कोरोना वायरस संक्रमण के कारण अब तक 23 लोगों की मौत हो चुकी है।

Covid-19: बिहार सरकार ने फैसला लिया है कि मंगलवार (2 जून, 2020) से प्रदेश लौटने वाले प्रवासियों का पंजीकरण या उन्हें क्वारंटीन नहीं किया जाएगा। सोमवार तक जो लोग राज्य में वापस लौट आए उनका पंजीकरण किया गया और 5000 से अधिक सेंटरों में उन्हें क्वारंटीन किया गया है, जिनमें लगभग 13 लाख प्रवासी हैं। ये सभी क्वारंटीन सेंटर 15 जून के बाद बंद कर दिए जाएंगे और तब तक इनमें मौजूद सभी प्रवासियों के 14 दिन की क्वारंटीन अवधि पूरी हो जाएगी। इसके अलावा रेलवे स्टेशनों पर थर्मल स्क्रीनिंग को भी बंद करने की तैयारी है, लेकिन हर स्टेशन पर मेडिकल सुविधा होगी ताकि लोगों को इलाज में आसानी हो सके।

राज्य सरकार ने ये फैसला ऐसे समय में लिया है जब बिहार लौटने वाले कई प्रवासियों को कोविड-19 की पुष्टि हुई है। सोमवार तक प्रदेश में कोरोना संक्रमितों की संख्या बढ़कर 3945 हो चुकी है। इसमें 2743 प्रवासी है जो तीन मई के बाद बिहार लौटे हैं। इनमें महाराष्ट्र से लौटने वाले प्रवासियों में 677 को कोरोना की पुष्टि हुई है। इसके अलावा अन्य राज्यों से लौटे जिन प्रवासियों को कोरोना की पुष्टि हुई है उनमें दिल्ली के 628, गुजरात के 405 और हरियाणा के 237 लोग शामिल हैं। यूपी, राजस्थान, पश्चिम बंगाल, तेलंगाना और अन्य राज्यों से लौटने वाले प्रवासियों को भी कोरोना की पुष्टि हुई है।

Weather Forecast Today, Cyclone Nisarga LIVE Updates

बिहार आपदा प्रबंधन प्राधिकरण के प्रमुख सचिव प्रत्यय अमृत ने कहा कि हमने 30 लाख से अधिक प्रवासियों को वापस लाकर सबसे बड़ी कवायद की है। हम सोमवार शाम से पंजीकरण बंद कर रहे हैं। किसी भी मामले में अधिकतम लोग वापस आ गए हैं। उन्होंने कहा कि डोर-टू-डोर स्वास्थ्य निगरानी जारी रहेगी और चिकित्सा सुविधाएं प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों से लेवल I और लेवल II अस्पतालों तक समान रहेंगी।

इधर प्रदेश के उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने कहा कि विदेशी विशेषज्ञों ने निष्कर्ष निकाला है कि होम क्वारंटीन सबसे अच्छा क्वारंटीन है। फिर भी हमने प्रवासियों को हर तरह की सुविधाएं दी हैं, जिसमें ट्रेन और बस किराए की भरपाई और 1,000 रुपए मूल्य की आवश्यक वस्तुएं शामिल हैं।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 उत्तर प्रदेश में कोरोना वायरस 141 नए मामले, संक्रमित लोगों की संख्या 8,870 पहुंची