ताज़ा खबर
 

कोरोना मरीजों की मदद के लिए बेच दी बीवी की जूलरी, ऑटो को बना दिया ऐंबुलेंस

भोपाल के एक ऑटो ड्राइवर भी अपने काम से दूसरों के लिए मानवता की सेवा की मिसाल पेश कर रहा है। अपने ऑटो को चलते-फिरते एंबुलेंस में तब्दील कर जावेद खान नाम का यह शख्स अब तक 8-10 लोगों की जान बचा चुका है।

जावेद खान का मिना एंबुलेंस, कोरोना मरीजों का मददगार ऑटो ड्राइवर, ऑटो ड्राइवर जावेद खान, MP news, madhya pradesh samachar, javed khan helping corona patients, javed khan auto ambulance, Bhopal news, auto driver javed khan, bhopal News, bhopal News in Hindi, Latest bhopal News, bhopal Headlines

पूरे देश में कोरोना के चलते हाहाकार मचा हुआ है। रोजाना लाखों की संख्या में लोग पॉज़िटिव हो रहे हैं और शमशान के बाहर लाशों की लाइन लगी हुई है। देश के ज़्यादातर अस्पतालों में बिस्तर की कमी है। ऑक्सिजन और दवा की कमी के चलये लोग एक अस्पताल से दूसरे अस्पताल भटक रहे हैं। इसी बीच मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में रहने वाले एक शख्स ने अपनी बीवी की जूलरी बेच अपने ऑटो को ऐंबुलेंस में तब्दील कर लिया है।

भोपाल के एक ऑटो ड्राइवर भी अपने काम से दूसरों के लिए मानवता की सेवा की मिसाल पेश कर रहा है। अपने ऑटो को चलते-फिरते एंबुलेंस में तब्दील कर जावेद खान नाम का यह शख्स अब तक 8-10 लोगों की जान बचा चुका है। जावेद ने मीडिया को बताया कि इस काम के लिए उन्होने अपनी पत्नी के गहने बेच दिये हैं। जावेद के ऑटो में ऑक्सीजन सिलिंडर, पीपीई किट, सैनिटाइजर और ऑक्सीमीटर समेत तमाम आवश्यक चीजें मौजूद हैं।

जावेद ने कहा “मेरा कंटैक्ट नंबर सोशल मीडिया पर है। एंबुलेंस न मिलने पर लोग मुझसे संपर्क कर सकते हैं। 15-20 दिनों से मैं ये काम कर रहा हूं और अब तक 9 मरीजों को अस्पताल पहुंचाया जिनकी हालत काफी खराब थी।”

जावेद खान का परिवार अब तक कोरोना संक्रमण से बचा हुआ है, लेकिन अपने आसपास के माहौल को देखकर उन्होंने दूसरों की मदद के लिए कुछ करने का फैसला किया। जावेद ने एएनआइ को बताया कि तमाम न्यूज चैनलों और व्हाट्सएप समेत सोशल मीडिया पर मची लोगों की चीख पुकार को देख उन्होंने इसकी शुरुआत की।

जावेद ने कहा कि ऐसे लोग देखे जो एंबुलेंस की सुविधा न मिलने के कारण अपने परिजनों को कंधे पर ले अस्पताल जा रहे थे। उन्होंने आगे बताया ,’पत्नी के गहनों को बेच 5000 रुपये में ऑक्सीजन सिलिंडर खरीदा और ऑटो में लगवाया। ऑटो में ईंधन अपने पैसों से भरवाता हूं।’

 

 

Next Stories
1 टीवी पत्रकार रोहित सरदाना का हार्ट अटैक से निधन, नोएडा के अस्पताल में चल रहा था कोरोना का इलाज
2 कोरोना ने मारा या सिस्टम ने? काग़ज़ी कार्रवाई में घंटों उलझाया, मेदांता की पार्किंग में कार में ही पूर्व राजनयिक की मौत
3 COVID-19 के अधिक केस वाले जिलों में स्थानीय निरुद्ध क्षेत्र जैसे उपाय करें- सूबों से बोला MHA
ये पढ़ा क्या?
X