ताज़ा खबर
 

Sex Scandal में फंसे AAP से बर्खास्त संदीप कुमार को 14 दिन की न्यायिक हिरासत

आम आदमी पार्टी (आप) सरकार के बर्खास्त मंत्री संदीप कुमार को दिल्ली की एक अदालत ने 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया है।

Author नई दिल्ली | September 10, 2016 12:41 AM
आम आदमी पार्टी (आप) सरकार के बर्खास्त मंत्री संदीप कुमार

आम आदमी पार्टी (आप) सरकार के बर्खास्त मंत्री संदीप कुमार को दिल्ली की एक अदालत ने 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया है। एक महिला की शिकायत पर उन्हें बलात्कार के आरोप में गिरफ्तार किया गया था। विशेष न्यायाधीश पूनम चौधरी ने 36 साल के कुमार को 23 सितंबर तक के लिए न्यायिक हिरासत में भेज दिया।

इससे पहले दिल्ली पुलिस ने कहा कि उनसे हिरासत में पूछताछ करने की अब जरूरत नहीं रह गई है। पुलिस ने विधायक को न्यायिक रासत में भेजने की अपील की थी। संदीप को एक दिन की पुलिस रिमांड की अवधि पूरी होने पर शुक्रवार को अदालत में पेश किया गया था। पुलिस ने कहा कि निष्पक्ष जांच और सबूतों से छेड़छाड़ से रोकने के लिए आरोपी को न्यायिक हिरासत में भेजा जाना चाहिए।

पुलिस ने गुरुवार को कुमार की पुलिस हिरासत एक दिन बढ़ाने की मांग करते हुए कहा था कि वह कथित आपत्तिजनक वीडियो को बनाने में इस्तेमाल किए गए वास्तविक उपकरण की बरामदगी चाहती है। हालांकि पुलिस ने यह भी कहा कि उसे बरामद नहीं किया जा सका। इस बीच, कुमार की ओर से पेश हुए वकील प्रदीप राणा ने दावा किया कि जेल में विधायक की जान को खतरा है और न्यायिक हिरासत के दौरान उन्हें विशेष सशस्त्र पहरेदार और विशेष सेल दिया जाना चाहिए।

इस पर अदालत ने इस अर्जी को जेल अधीक्षक के पास यह कहकर भेज दिया कि वे जेल नियमों के आधार पर इस पर विचार करें। सुनवाई के दौरान पुलिस ने बचाव पक्ष के वकील के उस आरोप का भी जवाब दिया जिसमें कहा गया कि संदीप को कथित रूप से गलत तरीके से गिरफ्तार किया गया और जांच एजंसी के पास ऐसा करने का कोई अधिकार नहीं है। पुलिस ने कहा कि संदीप को पुख्ता सबूतों के आधार पर गिरफ्तार किया गया।

इससे पहले अभियोजन पक्ष ने कहा था कि संदीप जांच में सहयोग नहीं कर रहे हैं। संदीप को तीन सितंबर को तब गिरफ्तार किया गया था, जब एक महिला ने उत्तरी दिल्ली के सुलतानपुरी थाने में समाज कल्याण तथा महिला व बाल विकास विभाग के मंत्री के खिलाफ यौन उत्पीड़न का मामला दर्ज कराया था। यह महिला कुमार के साथ एक आपत्तिजनक वीडियो में दिखाई दी थी।

सीडी के सामने आने के बाद मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने संदीप को सरकार से बर्खास्त कर दिया था। आप नेता के खिलाफ भारतीय दंड सहिता की धारा 376 (बलात्कार), 328 (अपराध करने के मकसद से नुकसान पहुंचाने) और आइटी कानून व भ्रष्टाचार निरोधक कानून की विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया। महिला ने अपनी शिकायत में आरोप लगाया था कि 11 महीने पहले संदीप ने उसके साथ तब बलात्कार किया, जब वह सुलतानपुरी स्थित उनके कार्यालय में राशन कार्ड बनवाने के लिए मदद मांगने गई थी।

इसके बाद सुलतानपुर माजरा से विधायक कुमार ने पुलिस उपायुक्त (बाहरी) के पीतमपुरा स्थित कार्यालय में पेश होकर अपना बयान दर्ज करवाया था। विवाद सामने आने के बाद विधायक ने अपना बचाव करते हुए कहा था कि उन्हें निशाना बनाया जा रहा है। संदीप की पत्नी भी अपने पति के बचाव में सामने आई थी और दावा किया था कि उन्हें इस मामले में गलत तरीके से फंसाया गया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App