ताज़ा खबर
 

14 जून को होगी खड़से के खिलाफ हैकर की याचिका पर सुनवाई

बंबई हाई कोर्ट गुजरात के एक व्यक्ति की उस याचिका पर 14 जून को सुनवाई करेगा।
Author मुंबई | June 7, 2016 01:59 am
महाराष्ट्र के राजस्व मंत्री एकनाथ खडसे। (FILE PHOTO)

बंबई हाई कोर्ट गुजरात के एक व्यक्ति की उस याचिका पर 14 जून को सुनवाई करेगा। इसमें माफिया सरगना दाउद इब्राहिम और महाराष्ट्र के पूर्व मंत्री एकनाथ खडसे के बीच कथित फोन कॉल को लेकर खडसे के खिलाफ सीबीआइ जांच की मांग की गई है। याचिकाकर्ता मनोज भंगेल की ओर से पेश वकील अपर्णा वाटकर ने न्यायमूर्ति एनएच पाटील और न्यायमूर्ति पीडी नाइक की पीठ के समक्ष याचिका पेश की। इस पर पीठ ने सोमवार को इसे सुनवाई के लिए 14 जून को सूचीबद्ध किया। भंगेल ने दावा किया है कि उन्होंने इसी साल अपै्रल में पाकिस्तान टेलीकम्युनिकेशन कंपनी लिमिटेड की प्रमाणीकरण प्रक्रिया को हैक कर लिया। इससे उन्हें भगोड़े माफिया सरगना दाउद इब्राहिम का टेलीफोन ब्योरा मिला।

उनकी याचिका के अनुसार ब्योरे में कथित रूप से दाउद और खडसे के बीच फोन काल का रिकार्ड भी शामिल है। याचिका के मुताबिक उसके बाद भंगेल ने प्रधानमंत्री कार्यालय और राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार कार्यालय से संपर्क करने का प्रयास किया लेकिन वह सफल नहीं हो सके। याचिका में कहा गया है कि मीडिया में खबरों का खुलासा होने के बाद मुंबई पुलिस की अपराध शाखा ने उनसे संपर्क किया और उनसे सभी जानकारी ले ली। लेकिन आज की तारीख तक कोई मामला दर्ज नहीं किया गया और न ही कोई कार्रवाई की गई।

याचिका में आरोप लगाया गया है कि भंगेल को आशंका है कि पुलिस को दी गई सूचना में छेड़छाड़ की जा सकती है। याचिका में दावा किया गया है कि बयान दर्ज किए जाने और सबूतों पर गौर करने के बदले राज्य सरकार और पुलिस ने मंत्री को क्लीन चिट देने में जल्दबाजी दिखाई। इसमें कहा गया है कि दाउद के टेलीफोन बिलों से याचिकाकर्ता द्वारा जुटाए गए टेलीफोन नंबरों के वैश्विक आंकड़ों के जरिए फिल्मों से लेकर क्रिकेट सट्टेबाजी तक उसके वित्तीय कारोबार का पता चल सकता है।

भंगेल ने मामले की जांच के लिए सीबीआइ की विशेष टीम गठित करने और तय समय पर इसकी रिपोर्ट अदालत को सौंपने के संबंध में हाई कोर्ट से अनुरोध किया है। उन्होंने अपने लिए सुरक्षा की भी मांग की है क्योंकि उन्हें अपनी जान को लेकर खतरा है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.