ताज़ा खबर
 

कोरोना टेस्ट: ईरान, सउदी अरब भी भारत से आगे; दस लाख में मात्र 17,795 लोगों की जांच, गुजरात, बिहार, यूपी, एमपी जैसे बड़े राज्य भी पीछे

भारत के विभिन्न राज्यों में कोरोना टेस्टिंग को लेकर व्यापक रूप से अंतर है। उदाहरण के लिए गोवा में प्रति दस लाख की आबादी में 96,000 लोगों की टेस्टिंग की गई जबकि बिहार में ये आंकड़ा 8,424 रहा।

coronaviurs worldometersभारत में कोरोना मरीजों की संख्या तेजी से बढ़ रही है। (रॉयटर्स)

भारत में पिछले कुछ सप्ताह में कोरोना टेस्टिंग की रफ्तार में काफी तेजी आई है, मगर वैश्विक स्तर पर नई दिल्ली टेस्टिंग के मामले में काफी पीछे है। विश्व में कोरोना प्रभावित टॉप 20 देशों में टेस्टिंग की संख्या के मामले में सिर्फ पाकिस्तान, मेक्सिको और बांग्लादेश भारत से पीछे है। ताजा आंकड़ों के मुताबिक भारत में दस लाख की आबादी पर कोरोना टेस्टिंग की दर 17,795 है जो यूके से के पंद्रहवें हिस्से के बराबर है।

यूनाइटेड किंगडम ने प्रति दस लाख की आबादी में 2.7 लाख लोगों की टेस्टिंग की है। इसी तरह अमेकिरा और रूस ने अपने प्रत्येक पांच में से एक नागरिक की कोरोना टेस्टिंग कर ली है। अमेरिका में प्रति दस लाख की आबादी में 1,99,803 लोगों की टेस्टिंग हो चुकी है और रूस में ये आंकड़ा 2,11,043 है। कोरोना टेस्टिंग के मामले में ईरान, सऊदी अरब, कोलंबिया और तुर्की भी भारत से कहीं आगे हैं।

टेस्टिंग के मामले में कोरोना प्रभावित चोटी के बीस देशों का संयुक्त औसत 62,000 से अधिक है जो भारतीय दर से साढ़े तीन गुना ज्यादा है। भारत में प्रति दस लाख की आबादी में कोरोना संक्रमितों की दर 1600 के करीब है जिसकी वजह टेस्टिंग की कम दर को माना गया है। रिपोर्ट के मुताबिक अगर चोटी के बीस देशों में टेस्टिंग की दर बढ़ाई गई और संक्रमण पुष्टि की दर एक ही रहे तो भारत में प्रति दस लाख की आबादी में संक्रमितों की संख्या करीब 5,600 होगी।

Coronavirus Vaccine Live Updates

इसके अलावा भारत के विभिन्न राज्यों में कोरोना टेस्टिंग को लेकर व्यापक रूप से अंतर है। उदाहरण के लिए गोवा में प्रति दस लाख की आबादी में 96,000 लोगों की टेस्टिंग की गई जबकि बिहार में ये आंकड़ा 8,424 रहा। टेस्टिंग दर के संदर्भ में चोटी और निचले राज्यों के बीच 1:11 से अधिक का अनुपात दिखाई देता है। दूसरी तरफ आंध्र प्रदेश, तमिलनाडु और असम अपेक्षाकृत अधिक टेस्टिंग औसत वाले राज्य रहे।

अन्य राज्यों में राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में प्रति दस लाख की आबादी पर सबसे अधिक 59,000 हजार लोगों की टेस्टिंग हुई, इसके अलावा जम्मू-कश्मीर (यूटी) बड़ा राज्य रहा जहां टेस्टिंग दर पचास हजार रही। सबसे अधिक आबादी वाले राज्य जैसे बिहार, मध्य प्रदेश, पश्चिम बंगाल, उत्तर प्रदेश में टेस्टिंग दर राष्ट्रीय औसत से भी कम रही। महाराष्ट्र, कर्नाटक, राजस्थान और पंजाब में राष्ट्रीय औसत की तुलना में अधिक टेस्टिंग की गई मगर वैश्विक दर से काफी नीचे है।

दूसरी तरफ रविवार को कोरोना के मामले में भारत की वैश्विक हिस्सेदारी तब रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच गई जब कुल नए मामलों में भारत में 29 फीसदी केस दर्ज किए गए। रविवार को दुनियाभर कोरोना से हुई कुल मौतों में भारत का 21 फीसदी हिस्सा रहा। रविवार को भारत में सबसे अधिक कोरोना मरीजों की पुष्टि हुई। आंकड़ों के मुताबिक इस महीने में भारत में सबसे अधिक नए केस दर्ज किए गए हैं। रिपोर्ट बताती हैं कि अगस्त के शुरुआती 9 दिनों में भारत में 5,19,351 नए केस मिले। अमेरिका में ये संख्या 4,93,376 रही जबकि ब्राजील में 3,69,284 रही।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 PM फसल बीमा योजना में हो रहा हर साल 15 से 20 हजार करोड़ रुपए का घोटाला, गुजरात कांग्रेस ने लगाए आरोप; हाईकोर्ट समिति से जांच की मांग
2 राहुल, प्रियंका गांधी से मुलाकात के बाद आखिरकार मान ही गए सचिन पायलट, रखी ये शर्तें
3 मणिपुरः BJP सरकार जीती विश्वास मत, सदन में कांग्रेस का हंगामा; विरोध में फेंकी कुर्सियां
IPL 2020 LIVE:
X