ताज़ा खबर
 

लॉकडाउन में घरों को लौट रहे थे बेबस मजदूर, एक हरियाणा तो दूजे को UP में रौंदकर निकल गई बेकाबू कारें; मौत

हरियाणा में बिहार के रहने वाले एक मजदूर को तेज रफ्तार कार ने टक्कर मार दी, जिससे उसकी मौत हो गई। वहीं पुलिस के मुताबिक एक अन्य मजदूर जो साइकल से अपने घर जा रहा था उसकी मौत यूपी के रायबरेली में हुई है।

Migrant Labour, News in HindiLockdown में फंसे मजदूर पैदल ही अपने घरों को निकल पड़े हैं। (फाइल फोटो)

लॉकडाउन के दौरान अपने राज्य वापस जा रहे प्रवासी मजदूरों की मौत का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहे हैं। हालही में औरंगाबाद रेल हादसे में 16 मजदूरों की और एमपी में आम से लदे एक ट्रक के पलटने से कुछ मजदूरों की मौत हो गई थी। अब हरियाणा और उत्तर प्रदेश में दो और मजदूरों के सड़क हादसों में मारे जाने की खबर है। एनडीटीवी की रिपोर्ट के मुताबिक हरियाणा में बिहार के रहने वाले एक मजदूर को तेज रफ्तार कार ने टक्कर मार दी, जिससे उसकी मौत हो गई। वहीं पुलिस के मुताबिक एक अन्य मजदूर जो साइकल से अपने घर जा रहा था उसकी मौत यूपी के रायबरेली में हुई है।

रिपोर्ट के मुताबिक आज सुबह दो प्रवासी मजदूर हरियाणा के अंबाला कैंट में सड़क किनारे चल रहे थे, जब वे एक एसयूवी की चपेट में आ गए। एक मजदूर की मौके पर ही मौत हो गई, जबकि दूसरा गंभीर रूप से घायल हो गया, जिसका अस्पताल में इलाज चल रहा है। पुलिस के मुताबिक, मजदूर बिहार की ओर जा रहे थे। अचानक से कार तेज गति से घुसी और नियंत्रण से बाहर हो गई। चालक लापता है लेकिन कार को जब्त कर लिया गया है।

Coronavirus Live update: यहां पढ़ें कोरोना वायरस से जुड़ी सभी लाइव अपडेट.

रायबरेली की एक अन्य घटना में साइकल से बुलंदशहर से बिहार जा रहे 25 साल के प्रवासी मजदूर शिव कुमार दास को कार ने टक्कर मार दी। रिपोर्ट्स के मुताबिक कार के ब्रेक फेल हो गए थे, इसके बाद ड्राइवर का कार पर नियंत्रण नहीं रहा। जिसके चलते दास की मौत हो गई और चालक भी बुरी तरह घायल हो गया है। हादसे में कार बुरी तरह से क्षतिग्रस्त हो गई है।

कोरोना वायरस लॉकडाउन के चलते लाखों प्रवासी मजदूर बेरोजगार हो गए हैं। उनके पास ना तो काम है ना ही खाने- पीने का समान खरीदने के लिए पैसे। ऐसे में शहर में रह रहे प्रवासी मजदूर अपने घर वापस जाने के लिए मजबूर हैं। ये मजदूर पैदल, या पटरी के रास्ते, या किसी बहन में छिपकर राज्यों की सीमा पार करने की कोशिश कर रहे हैं।

मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो अब तक देश में घर वापसी के लिए निकले 70 से अधिक मजदूरों की मौत हो चुकी है। हाल ही में औरंगाबाद में 16 मजदूरों को एक मालगाड़ी ने रौंद दिया था तो मध्य प्रदेश के नरसिंहपुर में पाठा गांव के पास ट्रक पलटने से 5 मजदूरों की मौत हो गई थी।

Coronavirus/COVID-19 और Lockdown से जुड़ी अन्य खबरें जानने के लिए इन लिंक्स पर क्लिक करें: शराब पर टैक्स राज्यों के लिए क्यों है अहम? जानें, क्या है इसका अर्थशास्त्र और यूपी से तमिलनाडु तक किसे कितनी कमाई । शराब से रोज 500 करोड़ की कमाई, केजरीवाल सरकार ने 70 फीसदी ‘स्पेशल कोरोना फीस’ लगाई । लॉकडाउन के बाद मेट्रो और बसों में सफर पर तैयार हुईं गाइडलाइंस, जानें- किन नियमों का करना होगा पालन । भारत में कोरोना मरीजों की संख्या 40 हजार के पार, वायरस से बचना है तो इन 5 बातों को बांध लीजिये गांठ…। कोरोना से जंग में आयुर्वेद का सहारा, आयुर्वेदिक दवा के ट्रायल को मिली मंजूरी ।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 IRCTC Special Trains Schedule, Route: आज से दौड़ेंगी 15 जोड़ी स्पेशल ट्रेन, रेलवे ने जारी किया टाइम टेबल और शहरों की लिस्ट
2 Coronavirus Lockdown in India: ‘हमें भेज दीजिए घर’, राजस्थान में पलायन पर अड़े प्रवासी मजदूरों का दर्द, प्रदर्शन किया तो पुलिस ने पीटा; कई जख्मी
3 निजता विवादः ‘Aarogya Setu ऐप का इस्तेमाल जरूरी बनाना अवैध’, बोले पूर्व SC जज, केंद्र का दावा- 180 दिन में डिलीट होगा डेटा
ये पढ़ा क्या?
X