ताज़ा खबर
 

बेड के लिए किया घंटों इंतजार, अस्पताल के बाहर कोरोना संक्रमित 41 वर्षीय महिला ने तोड़ा दम

महिला की हालत गंभीर होने के बावजूद हैदराबाद में उसे अस्पताल के बाहर घंटों इंतजार कराया गया, इसी देरी की वजह से उसकी जान नहीं बचाई जा सकी।

Author Edited By कीर्तिवर्धन मिश्र हैदराबाद | Updated: July 12, 2020 8:31 PM
प्रतीकात्मक फोटो।

देशभर में कोरोना संक्रमितों की संख्या में तेजी से इजाफा हो रहा है। कई राज्यों में अब मरीजों की बढ़ती संख्या के चलते इलाज के लिए बेड्स की संख्या भी कम पड़ रही है। हालांकि, कुछ अन्य राज्यों में प्रशासन की लापरवाही के चलते भी लोगों की जान जा रही है। ताजा मामला आंध्र प्रदेश का है, जहां एक 41 वर्षीय महिला की अस्पताल में बेड न मिलने से जान चली गई। आरोप है कि हैदराबाद के दो अस्पतालों- कोटी ईएनटी और ओस्मानिया जनरल हॉस्पिटल में महिला को बेड के लिए घंटों इंतजार कराया गया। आखिरकार समय पर इलाज न मिलने के कारण महिला की मौत हो गई।

महिला का पति हैदराबाद ओल्ड सिटी में होमगार्ड है। उसकी कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। शक जताया गया है कि उसी से उसकी पत्नी को भी संक्रमण हुआ। होमगार्ड ने बताया कि 4 जुलाई को जब उसकी पत्नी की हालत काफी बिगड़ गई तो वह उसे चारमिनार अस्पताल ले कर गया, जहां उसके सैंपल लिए गए। हालांकि, अगले दिन महिला की तबियत और बिगड़ गई। तब उसे जल्दी-जल्दी में कोटी ईएनटी अस्पताल ले जाया गया, जहां अस्पताल ने कहा कि बेड्स मौजूद नहीं हैं। इसके बाद उन्हें ओस्मानिया अस्पताल भेज दिया गया, जहां बेड मिलने में काफी समय लग गया और भर्ती होने के बाद महिला की मौत हो गई।

चौंकाने वाली बात यह है कि हैदराबाद के मेडिकल बुलेटिन में 3041 ऑक्सीजन बेड्स खाली दिखाए गए हैं। हालांकि, पीड़ित महिला के परिवार को समय पर बेड नहीं मिल सका। बताया गया है कि ओस्मानिया अस्पताल में भी टेस्ट होने में 5 घंटे लग गए। परिवार ने उसे बचाने के लिए प्राइवेट सिलेंडर लेने की भी कोशिश की। लेकिन वे इसमें असफल रहे।

आखिरकार जब महिला को ओस्मानिया में डॉक्टरों ने देखा, तब उसके सैंपल्स फिर लिए गए, क्योंकि चारमिनार अस्पताल से उसके नतीजे नहीं मिले थे। महिला की मौत के बाद जो केस शीट सामने आई है, उससे साफ है कि वह कोरोना संक्रमित थी। ओस्मानिया अस्पताल में भी आखिरकार डॉक्टरों ने महिला को पीपीई किट पहनाकर गांधी अस्पताल में शिफ्ट करने की बात कही। लेकिन 7 घंटे बीत जाने के बाद भी एंबुलेंस नहीं आई और महिला की जान चली गई।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 विकास दुबे एनकाउंटर के एक दिन बाद ही ‘खतरे से बाहर’ हो गए 6 पुलिसकर्मी, एक खुद मोटरसाइकिल चलाकर गया घर
2 मास्क नहीं पहनने पर जताया ऐतराज तो पिता को पीटने लगे, बचाने गई बेटी को किया घायल; अस्पताल में तोड़ दिया दम
3 बिहार चुनावः राजद को कमजोर छात्र बोले सुशील मोदी, तेजस्वी का जवाब- RJD के डर से ही 24 साल से नीतीश के पिछलग्गू बने हो
ये पढ़ा क्या?
X