ताज़ा खबर
 

न मुझे कोरोना है, न ईश्वर मुझे संक्रमित करेगा- गौमूत्र को लेकर BJP सांसद का दावा; कांग्रेस ने कसा तंज- सरकार को बनानी चाहिए ‘गोमूत्र पीठ’

सरकार को ऐसी बयानबाजी पर रोक लगाने के लिए वैज्ञानिक शोध पीठ का गठन करने की सलाह देते हुए कांग्रेस नेता ने कहा, ‘‘पीठ की स्थापना से ना केवल बयानबाजी पर रोक लगेगी बल्कि केंद्र और राज्य सरकारों को अपने दिशा-निर्देशों का पालन करवाने में कोई दिक्कत नहीं आएगी।’’

भोपाल | Updated: May 18, 2021 8:43 AM
भोपाल लोकसभा क्षेत्र से भाजपा सांसद प्रज्ञा सिंह ठाकुर। (एक्सप्रेस आर्काइव फोटो)

भोपाल लोकसभा क्षेत्र से भाजपा सांसद प्रज्ञा सिंह ठाकुर ने सोमवार को दावा किया कि गोमूत्र अर्क का सेवन करने से कोविड-19 नहीं होगा, क्योंकि इससे फेफड़ों का संक्रमण दूर होता है।

उन्होंने कहा, ‘‘मैं प्रतिदिन गोमूत्र अर्क का सेवन करती हूं, इसलिए मैं कोरोना वायरस से संक्रमित नहीं हुई और ना हाउंगी।’’ सांसद के बयान पर मध्य प्रदेश कांग्रेस ने तंज कसते हुए कहा कि गोमूत्र से कोरोना के सफल प्रज्ञा के दावे को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को गंभीरता से लेना चाहिए और सरकार को गोमूत्र चिकित्सा पर मेडीकल कॉलेज में ‘गोमूत्र पीठ’ स्थापित करनी चाहिए। भोपाल के बैरागढ़ इलाके में रविवार शाम ऑक्सीजन सांद्रक जनता को समर्पित करने के बाद एक कार्यक्रम में प्रज्ञा ठाकुर ने कहा, ‘‘देसी गाय के गोमूत्र का अर्क हम अगर लेते हैं तो उससे हमारे फेफड़ों का संक्रमण दूर होता है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘मैं बहुत तकलीफ में हूं, लेकिन प्रतिदिन गोमूत्र अर्क लेती हूं और इस कारण मुझे कोरोना के लिए कोई और औषधि नहीं लेनी पड़ रही है। ना ही मैं कोरोनाग्रस्त हूं, ना ही ईश्वर मुझे (संक्रमित) करेगा क्योंकि मैं उस औषधि (गोमूत्र अर्क) का उपयोग कर रही हूं।’’

प्रज्ञा के इस बयान पर मध्य प्रदेश कांग्रेस के मीडिया उपाध्यक्ष भूपेंद्र गुप्ता ने तंज कसा, ‘‘समय-समय पर भाजपा की वैज्ञानिक बुद्धि संपन्न नेत्रियां देश को वैकल्पिक तरीकों से कोरोना का इलाज सुझाती रहती हैं। इस संदर्भ में भोपाल से सांसद प्रज्ञा सिंह ठाकुर का सुझाव सरकार को गंभीरता से लेना चाहिए और प्रदेश के किसी मेडिकल कॉलेज में ‘गोमूत्र पीठ’ की स्थापना करना चाहिए।’’

उन्होंने कहा कि चूंकि प्रज्ञा भोपाल की सांसद हैं इसलिए भोपाल मेडिकल कॉलेज को यह दायित्व वहन करते हुए एक गोमूत्र वार्ड भी बनाना चाहिए जिसमें संघ और भाजपा के कोरोना वायरस संक्रमित कार्यकर्ता आगे बढ़कर इस चिकित्सा पद्धति से उपचार करवाने आ सकते हैं। उन्होंने कटाक्ष किया, ‘‘वैज्ञानिक तरीके से इसके आंकड़े एकत्र कर उसे दुनिया की प्रतिष्ठित मेडिकल पत्रिकाओं में छपवाया जाए, ताकि दुनिया की चिकित्सा पद्धतियों को भी हमारे सांसदों का मार्गदर्शन प्राप्त हो।’’

गुप्ता ने कहा, ‘‘भाजपा नेता रोज देश में भ्रम का वातावरण पैदा करने में लगे हुए हैं। कोई गोबर से, तो कोई गोमूत्र से, तो कोई यज्ञ से कोरोना को ठीक करने का दावा कर देश की जनता को केंद्र सरकार के गाइडलाइन से चल रही चिकित्सा से भ्रमित कर देता है।’’

सरकार को ऐसी बयानबाजी पर रोक लगाने के लिए वैज्ञानिक शोध पीठ का गठन करने की सलाह देते हुए कांग्रेस नेता ने कहा, ‘‘पीठ की स्थापना से ना केवल बयानबाजी पर रोक लगेगी बल्कि केंद्र और राज्य सरकारों को अपने दिशा-निर्देशों का पालन करवाने में कोई दिक्कत नहीं आएगी।’’ उन्होंने कहा, ‘‘अगर यह चिकित्सा वैज्ञानिक रूप से सही पाई जाती है तो सरकार इसे भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (आइसीएमआर) और विश्व स्वास्थ्य संगठन के माध्यम से आगे बढ़ाये। अन्यथा इस तरह के बयानों को अफवाहों की श्रेणी में रखकर उनके खिलाफ वैधानिक कार्यवाही करे।’’

प्रदेश कांग्रेस के मीडिया समन्वयक नरेन्द्र सलूजा ने ट्वीट किया, ‘‘देश-प्रदेश में कोरोना नियंत्रण के लिये भाजपा को मध्य प्रदेश की मंत्री उषा ठाकुर व सांसद साध्वी प्रज्ञा ठाकुर को महती जवाबदारी देकर कोरोना पर नियंत्रण का काम तत्काल सौंप देना चाहिये। कोरोना पर नियंत्रण के इनके तरीके, तर्क, सलाह शायद इस देश-प्रदेश से कोरोना को श्राप की तरह एक झटके में समाप्त कर देंगे।’’

Next Stories
1 सबसे अधिक जनसंख्या वाला यूपी कोरोना टीकाकरण में पीछे, महाराष्ट्र और राजस्थान जैसे राज्यों ने लगाए ज्यादा टीके
2 आठ मंजिला अस्पताल में सिर्फ ओपीडी और टीकाकरण, निगम और दिल्ली सरकार की अनदेखी की भेंट चढ़ा पूर्णिमा सेठी अस्पताल
3 सेंट्रल विस्टा पर सुनवाई के दौरान हाईकोर्ट में तीखी बहस, प्रोजेक्ट को बताया गया “मौत का किला”
ये पढ़ा क्या?
X