ताज़ा खबर
 

शाहीन बाग पर दिल्ली सरकार का आदेश बेअसर? धरने पर बैठी महिलाएं बोलीं- Coronavirus से नहीं, बल्कि CAA, NRC, NPR से लगता है डर

जब मुख्यमंत्री से कोरोनावायरस को लेकर सरकार की घोषणा के शाहीन बाग में भी लागू होने से सवाल पूछा गया तो उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस से सभी को खतरा है। मुख्यमंत्री ने यह भी संकेत दिया कि सभाओं पर रोक शाहीन बाग और जामिया मिल्लिया इस्लामिया के बाहर प्रदर्शन पर भी लागू होगी।

arvind kejriwal, CM kejriwal, shaheen bagh, anti caa protest, coronavirus, coronavirus latest news, coronavirus news, coronavirus in delhi, coronavirus in delhi news, coronavirus live update, coronavirus news update, coronavirus prevention, coronavirus infection, coronavirus in india, coronavirus in india news, coronavirus death toll, coronavirus death toll news, coronavirus death toll in india, coronavirus death toll in india, coronavirus in india latest newsकोरोनावायरस के खतरे को देखते हुए प्रदर्शनस्थल पर लोगों की भीड़ अब कम दिखाई दे रही है। (फोटोः इंडियन एक्सप्रेस)

देशभर में कोरोनावायरस को लेकर तमाम उपायों के बीच शाहीन बाग में सीएए के खिलाफ हो रहे प्रदर्शन पर पर इसका कोई असर नहीं दिख रहा है। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने सोमवार को घोषणा की कि कोरोना वायरस के बढ़ते प्रकोप के मद्देनजर राष्ट्रीय राजधानी में 31 मार्च तक 50 से अधिक लोगों की मौजूदगी वाले धार्मिक, पारिवारिक, सामाजिक, राजनीतिक या सांस्कृतिक कार्यक्रमों को अनुमति नहीं होगी।

दूसरी तरफ, जबकि शाहीन बाग में धरने पर बैठी महिलाओं का कहना है कि उन्हें कोरोनावायरस से नहीं बल्कि सीएए, एनआरसी और एनपीआर से डर लगता है। प्रदर्शन कर रही एक महिला ने कहा कि हमें मरना होगा तो हम घर में बैठने पर भी मर जाएंगे। हमें यहां बैठने का शौक नहीं है, सरकार सीएए वापस ले लेगी तो हम धरने से उठ जाएंगे।

प्रदर्शनकारी महिलाओं ने कहा कि वह कोरोना से मरना पसंद करेंगी पर ‘काले कानून’ से नहीं। इससे पहले जब मुख्यमंत्री से कोरोनावायरस को लेकर सरकार की घोषणा के शाहीन बाग में भी लागू होने से सवाल पूछा गया तो उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस से सभी को खतरा है।

मुख्यमंत्री ने यह भी संकेत दिया कि सभाओं पर रोक शाहीन बाग और जामिया मिल्लिया इस्लामिया के बाहर प्रदर्शन पर भी लागू होगी। इन स्थानों पर संशोधित नागरिकता कानून (सीएए), राष्ट्रीय नागरिक पंजी और राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर को लेकर पिछले करीब 90 दिनों से कुछ लोग धरने पर बैठे हैं।

मुख्यमंत्री केजरीवाल ने कहा कि राष्ट्रीय राजधानी में कोविड-19 से संक्रमित सात में से चार लोगों का इलाज जारी है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘जरूरत पड़ने पर पर्याप्त बिस्तरों का बंदोबस्त है। तीन होटलों लेमन ट्री, रेड फॉक्स और आईबीआईएस में लोगों को पृथक रखे जाने की व्यवस्था की गई है। ’’ दिल्ली सरकार ने शहर में सिनेमाघरों, स्कूलों, विश्वविद्यालयों और सभी स्विमिंग पूल 31 मार्च तक बंद रखने का पिछले सप्ताह आदेश दिया था। केजरीवाल ने कहा कि सरकार केंद्र के दिशानिर्देश लागू कर रही है और उसके साथ समन्वय में काम कर रही है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 कोरोना वायरस से बचने के उपाय बता रहे थे सीएम केजरीवाल, प्रेस कॉन्फ्रेंस में आते ही खांसने लगे
2 बीजेपी नेता ने टोका तो एक मिनट में ही विधानसभा से चले गए राज्यपाल, अभिभाषण बीच में ही छोड़ा
3 MP: फ्लोर टेस्ट टलने पर यूजर्स ले रहे मजे, लिखा- कोरोना ने भारत में पहला मरीज बचाया…
यह पढ़ा क्या?
X