ताज़ा खबर
 

बिहार में कोरोना के बीच दवाओं की भारी किल्लत, तिगुने दाम पर बिक रहे ऑक्सीमीटर, बाजार से जिंक और विटामिन सी की दवा गायब

कोरोना संकट के बीच ऑक्सीमीटर की डिमांड भी तेजी से बढ़ी है। कोरोना के मामले बढ़ने पर इस डिवाइस की भी बिक्री खूब बढ़ी है और बाजार में इसकी कमी हो गई है।

bihar medicine shortage coronavirus covid19बिहार के कुछ हिस्सों में कोरोना से लड़ाई में अहम दवाओं की किल्लत हो गई है। (इमेज सोर्स- freeimage)

बिहार में कोरोना संक्रमण काल के बीच में दवाईयों की किल्लत का मामला सामने आया है। दरअसल उत्तर बिहार के बाजारों में अचानक से विटामिन और जिंक की दवाएं उपलब्ध होनी बंद हो गई हैं। बता दें कि लोगों की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में ये दवाएं खासी कारगर होती हैं। ऐसे में माना जा रहा है कि दवाओं की खपत बढ़ने के बाद बाजार में इनकी कमी हो गई है। दुकानदारों का कहना है कि ऊपर से ही दवाओं की सप्लाई नहीं हो रही है।

हिन्दुस्तान की रिपोर्ट के अनुसार, उत्तर बिहार की अधिकांश दवा दुकानों पर ये दवाईयां उपलब्ध नहीं हैं। दुकानदारों का कहना है कि किसी भी कंपोजिशन में ये दवाएं उपलब्ध नहीं हो पा रही हैं। इतना ही नहीं कब तक इन दवाओं की सप्लाई सुचारू रुप से चालू हो सकेगी, इसकी भी कोई समय सीमा तय नहीं है। वहीं प्रशासन के अधिकारियों ने दवाओं की कमी की जानकारी होने से ही इंकार किया है।

ऑक्सीमीटर की कीमत बढ़कर तीन गुना हुईः कोरोना संकट के बीच ऑक्सीमीटर की डिमांड भी तेजी से बढ़ी है। दरअसल यह डिवाइस व्यक्ति के शरीर में ऑक्सीजन के स्तर को मापने के काम आती है। कोरोना के मामले बढ़ने पर इस डिवाइस की भी बिक्री खूब बढ़ी है और बाजार में इसकी कमी हो गई है। जहां यह डिवाइस उपलब्ध है, वहां यह तीन गुनी कीमत पर बिक रही है।

पप्पू यादव बोले- चिकित्सा व्यवस्था बदहालः वहीं जन अधिकार पार्टी के अध्यक्ष पप्पू यादव ने सरकार पर कोरोना मामले में लापरवाही का गंभीर आरोप लगाया है। पप्पू यादव ने आरोप लगाया कि बेतिया के राजकीय चिकित्सा महाविद्यालय में कोविड19 वार्ड में चिकित्सा व्यवस्था बदतर है। सुविधा के अभाव में लोग यहां मर रहे हैं। पप्पू यादव ने इस मामले की जांच कराने की भी बात कही और दोषियों के खिलाफ कार्रवाई होने तक पीछे नहीं हटने की भी बात दोहरायी।

वहीं कोरोना और बाढ़ के मुद्दे पर आलोचकों के निशाने पर आए सीएम नीतीश कुमार शनिवार को कैबिनेट बैठक के दौरान राज्य के स्वास्थ्य सचिव पर नाराज दिखे और उन्होंने स्वास्थ्य सचिव उदय सिंह कुमावत को हटाने की चेतावनी दे डाली। सीएम ने राज्य में कोरोना की टेस्टिंग 20 हजार करने के निर्देश दिए।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 जेएनयू छात्र ने सेना पर की टिप्पणी, दिल्ली पुलिस ने दर्ज की FIR, RSS की बेइज्जती से जोड़ दिया मामला
2 ‘रोज पांच बार पढ़ें हनुमान चालीसा, दूर होगा कोरोना’, बीजेपी सांसद प्रज्ञा ठाकुर की अपील
3 ‘हमलोग कीड़े मकोड़े हैं क्या’? कोरोना से कराह रहे भागलपुर के लोग बोले- मोदी-नीतीश दोनों रहे फेल, पर ये वक्त चुनाव का नहीं
राशिफल
X