ताज़ा खबर
 

दिल्ली-हरियाणा सीमा पर डटे हैं कोरोना योद्धा नवीन मोर

कोरोना विषाणु संक्रमण के बाद कुश्ती के आयोजन में क्या-क्या दिक्कतें आएंगी? उन्होंने कहा, ‘दोबारा जब दंगल या अंतरराष्ट्रीय कुश्ती प्रतियोगिताओं का आयोजन होगा तब काफी कुछ बदला नजर आएगा। जिस तरह से इस बीमारी का प्रसार होता है, उसमें खिलाड़ी और दर्शक दोनों स्टेडियम में पहुंचने से पहले कई बार सोचेंगे।

Author Published on: May 1, 2020 2:54 AM
नवीन ने ड्यूटी और अभ्यास के बीच तालमेल की बात करते हुए कहा कि फिलहाल लोगों की सुरक्षा ज्यादा अहमियत रखती है।

संदीप भूषण

हरियाणा पुलिस में निरीक्षक के तौर पर तैनात भारतीय पहलवान नवीन मोर कोरोना विषाणु संक्रमण के प्रसार को रोकने के इन दिनों मुस्तैदी के साथ काम कर रहे हैं। उनका मानना है कि यह समय पूरी दुनिया के लिए चुनौती भरा है। कई राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय मुकाबलों में पदक जीत चुके मोर ने कहा कि कोविड-19 के कारण उत्पन्न स्थिति काफी गंभीर है। हम सभी इससे लड़ने के लिए डटे हुए हैं।

नवीन ने ड्यूटी और अभ्यास के बीच तालमेल की बात करते हुए कहा कि फिलहाल लोगों की सुरक्षा ज्यादा अहमियत रखती है। इसके लिए वह और उनकी पूरी टीम मुस्तैदी से काम कर रहे हैं। अपने अभ्यास को वे सीमित समय में अंजाम दे रहे हैं। वह एक ही समय अभ्यास कर पा रहे हैं। उनकी ड्यूटी 12 घंटे की होती है और यह तय नहीं होता कि उन्हें रात में काम करना है या दिन में। इस हालत में वह देसी अभ्यास से ही काम चला रहे हैं। उन्होंने कहा कि पूरी दुनिया अभी इस संकट से गुजर रही है। किसी को नहीं पता कि आगे क्या होने वाला है। शारीरिक दूरी का खयाल रखते हुए मैं खेतों में दौड़ लगाने के साथ कुछ जरूरी व्यायाम करता हूं। अभी इस संकट के समय से निकलना ज्यादा अहम है।

कोरोना योद्धा के तौर पर काम कर रहे नवीन बताते हैं कि ड्यूटी के दौरान उनके सामने कई चुनौतियां भी आती हैं। उनकी तैनाती दिल्ली-हरियाणा सीमा के बहादुरपुर सिटी पुलिस थाने में है। नवीन ने हंसते हुए बताया कि यहां काफी लोग उन्हें जानते हैं। ज्यादातर लोग उनसे पहचान का हवाला देते हुए सीमा पार कराने की गुजारिश भी करते हैं लेकिन उनका कर्तव्य उन्हें इसकी इजाजत नहीं देता। उन्होंने लोगों से अपील की कि जब तक बहुत जरूरी न हो किसी को भी घर से नहीं निकलना चाहिए और सरकार द्वारा जारी दिशानिर्देशों का पालन करना चाहिए।

काफी कुछ बदला नजर आएगा

कोरोना विषाणु संक्रमण के बाद कुश्ती के आयोजन में क्या-क्या दिक्कतें आएंगी? उन्होंने कहा, ‘दोबारा जब दंगल या अंतरराष्ट्रीय कुश्ती प्रतियोगिताओं का आयोजन होगा तब काफी कुछ बदला नजर आएगा। जिस तरह से इस बीमारी का प्रसार होता है, उसमें खिलाड़ी और दर्शक दोनों स्टेडियम में पहुंचने से पहले कई बार सोचेंगे। मुझे तो लगता है कि सुरक्षा के लिहाज से अगले छह महीने या एक साल तक किसी भी प्रतियोगिता का आयोजन नहीं हो सकेगा।’

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 रैन बसेरों का हालः हाथ धोने तक की व्यवस्था नहीं, खाने की गुणवत्ता खराब
2 एंबुलेंस नहीं मिलने से हलकान हुए मरीज, ठेले और रिक्शे से ले जाना पड़ रहा अस्पताल
3 नीतीश सरकार ‘बे’बस’, MHA ने गाइडलाइंस बदल दी इजाजत फिर भी प्रवासी नहीं आ पाएंगे बिहार