ताज़ा खबर
 

अब केरल में बॉर्डर पर अमानवीयता! मजदूरों पर पुलिस ने मारा स्प्रे; वायरल वीडियो पर DGP की सफाई- साबुन के पानी से हुआ छिड़काव

इस वीडियो की तुलना उत्तर प्रदेश के उस वायरल वीडियो से की जा रही है जिसमें मजदूरों को सड़क पर बैठकर सैनिटाइजर से नहलाया जा रहा है। वीडियो वायरल होने के बाद अग्निशमन और बचाव सेवा के डीजीपी ने सफाई दी है।

केरला का ये वीडियो तेजी से सोशल मीडिया में वायरल हो रही है(Video screenshot)

उत्तर प्रदेश के बाद केरला का भी एक वीडियो तेजी से सोशल मीडिया में वायरल हो रही है जिसमें अधिकारी कुछ लोगों पर स्प्रे मार रहे हैं। इस वीडियो में कुछ अधिकारी अन्य राज्यों से यात्रा कर आए लोगों पर स्प्रे की मदद से कुछ डाल रहे हैं। इस वीडियो की तुलना उत्तर प्रदेश के उस वायरल वीडियो से की जा रही है जिसमें मजदूरों को सड़क पर बैठकर सैनिटाइजर से नहलाया जा रहा है। वीडियो वायरल होने के बाद अग्निशमन और बचाव सेवा के डीजीपी ने सफाई दी है।

अग्निशमन और बचाव सेवा के पुलिस महानिदेशक, हेमाचंद्रन ने द हिन्दू को बताया कि लोगों पर साबुन का पानी स्प्रे किया गया था। उन्होंने कहा “एक हफ्ते पहले जब COVID-19 की आशंका बढ़ रही थी, तब केरल-कर्नाटक सीमा पर कुछ वन और पुलिस कर्मियों ने स्थानीय अग्निशमन और बचाव सेवा के कर्मियों से इस क्षेत्र को सेनिटाइज करने के लिए मदद मांगी। चूंकि साबुन को वायरस के खिलाफ एक अच्छा बचाव माना जाता था, इसलिए इसे कुछ लोगों पर इसका छिड़का किया। लेकिन फिर हमने तुरंत सभी इकाइयों को निर्देश दिया कि वे लोगों को स्वयं साबुन या सैनिटाइज़र का उपयोग करने और स्वच्छता बनाए रखने के लिए कहें।”

Coronavirus in India LIVE Updates: यहां पढ़ें कोरोना वायरस से जुड़ी सभी लाइव अपडेट 

बता दें सोमवार को उत्तरप्रदेश के बरेली में दूसरे राज्यों से आए मजदूरों पर सैनिटाइजर का स्प्रे मारा गया था। उन्हें सड़क पर एकसाथ बैठकर सैनिटाइजर से नहलाया गया था। इस घटना का वीडियो वायरल होने के बाद विपक्षी दलों ने सरकार की इस हरकत पर सवाल खड़े किए थे। वहीं, जिला प्रशासन ने भी इस घटना को लेकर नाराजगी जताते हुए संबंधित लोगों पर कार्रवाई की जाने की बात कही है।

इस घटना को लेकर बरेली के जिलाधिकारी ने ट्वीट भी किया है, जिसमें उन्होंने लिखा कि सीएमओ के निर्देश पर प्रभावित लोगों का उपचार किया जा रहा था। हालांकि, उन्होंने इसके बारे में नहीं बताया कि जिस सैनिटाइजर स्प्रे से मजदूरों को नहलाया गया था, उसमें कौन सा कैमिकल मिला हुआ था। सवाल उठाने के साथ ही डीएम ने ट्वीटर के माध्यम से इस घटना का बचाव भी किया है। उन्होंने लिखा, ‘मास सैनिटाइजेशन का ये तरीका दुनिया के कई देशों में भी अपनाया जा चुका है।’

Coronavirus से जुड़ी जानकारी के लिए यहां क्लिक करें: कोरोना वायरस से बचना है तो इन 5 फूड्स से तुरंत कर लें तौबा | जानिये- किसे मास्क लगाने की जरूरत नहीं और किसे लगाना ही चाहिए |इन तरीकों से संक्रमण से बचाएं क्या गर्मी बढ़ते ही खत्म हो जाएगा कोरोना वायरस?

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 UP: म‍िश्र‍िख क्‍वारंटाइन कैंप में खराब खाने-पीने की व्‍यवस्‍था के कारण 14 मजदूर भागे
2 लॉकडाउन के बाद बिहार पहुंचने वाले 1000 बेबस मजदूरों को स्कूल में किया बंद, फिर बस-ट्रकों में ठूस किया रवाना
3 केरलः 93 साल के मरीज ने जीती कोरोना से ‘जंग’, पर डॉक्टर्स को न था यकीन, बोले- 6 मौकों पर लगा था कि उन्हें खो दिया
यह पढ़ा क्या?
X