ताज़ा खबर
 

आठ महीने झांका भी नहीं, खुद को हुआ कोरोना तो अस्पताल में बेड पर रहने के बजाय दौरे पर निकल गए स्वास्थ्य मंत्री

संक्रमित होने के बावजूद वे अस्पताल में बेड पर रहने के बजाय दौरे पर निकल गए। डॉ. रघु शर्मा डॉक्टरों-कर्मचारियों के साथ कोरोना प्रोटोकॉल की धज्जियां उड़ते हुए दौरे पर निकल पड़े।

Author Edited By सिद्धार्थ राय नई दिल्ली | Updated: November 25, 2020 10:04 AM
rajasthan, covid19, health ministerस्वास्थ्य मंत्री डॉ. रघु शर्मा संक्रमित होने के बावजूद कोरोना प्रोटोकॉल की धज्जियां उड़ते दिखे। (file)

देश में कोरोना का प्रकोप थमने का नाम नहीं ले रहा है। यहां रोजाना हजारों की संख्या में लोग पॉज़िटिव पाये जा रहे हैं। दिल्ली और मुंबई के बाद अब राजस्थान में कोराना का कहर बेकाबू होता दिखाई दे रहा है। मंगलवार को प्रदेश में अब तक के सर्वाधिक 3314 संक्रमित मिले और 19 मौतें हुईं। इस दौरान राज्य के स्वास्थ्य मंत्री डॉ. रघु शर्मा संक्रमित होने के बावजूद कोरोना प्रोटोकॉल की धज्जियां उड़ते दिखे।

राजस्थान के चिकित्सा मंत्री डॉ. रघु शर्मा कोरोना से संक्रमित हैं और राजस्थान स्वास्थ्य विज्ञान विश्वविद्यालय (RUHS) में भर्ती हैं। पिछले आठ महीनों में आरयूएचएस के कामकाज और लापरवाही की ढेरों शिकायतों के बाद भी स्वास्थ्य मंत्री ने एक बार भी इस अस्पताल का दौरान नहीं किया। लेकिन मंगलवार को संक्रमित होने के बावजूद वे अस्पताल में बेड पर रहने के बजाय दौरे पर निकल गए। डॉ. रघु शर्मा डॉक्टरों-कर्मचारियों के साथ कोरोना प्रोटोकॉल की धज्जियां उड़ते हुए दौरे पर निकल पड़े।

दौरे के दौरान रघु शर्मा ने कहा “आरयूएचएस में पहले से सब पॉजिटिव हैं और मैं भी। सवाल उठता है कि मुझसे कैसे कोरोना फैलेगा? मैं डॉक्टरों की सलाह के बाद इंतजामों का सच देखने गया था।” आरयूएचएस में उन्होंने अन्य कोरोना मरीजों से बातचीत की और स्वास्थ्य सुविधाओं का निरीक्षण किया। डॉ. शर्मा ने कहा कि अब वे स्वयं पॉजिटिव है इसलिए यहाँ आने वाले मरीजों से उनकी परेशानियों और मानसिक स्थिति के बारे में आसानी से बात कर सकते हैं। उन्होंने आरयूएचएस में कोरोना उपचार की व्यवस्थाओ का निरीक्षण करने के बाद कहा कि आरयूएचएस में उच्च स्तरीय स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध है।

चिकित्सा मंत्री ने आमजन से हैल्थ प्रोटोकॉल व कोरोना गाइडलाइन का पालन करने की अपील की है । उन्होंने कहा कि कोरोना से बचने के लिए सोशल डिस्टेनसिंग और हाथ धोने के साथ ही नियमित रूप से मास्क का उपयोग आवश्यक है। उन्होंने कहा कि अभी मास्क ही वैक्सीन है इसलिए इसका अनिवार्य रूप से उपयोग करें। उनकी इस हरकत को लेकर पूर्व स्वास्थ्य मंत्री राजेंद्र राठौड़ ने निशाना साधा है और उनपर महामारी एक्ट लगाने की बात कही है। राठौड़ ने कहा “हैल्थ मिनिस्टर ने पहले चुनावों में कोरोना प्रोटोकॉल तोड़ा, अब ऐसे दौरे कर दूसरों की जान जोखिम में डाल रहे हैं। महामारी एक्ट में कार्रवाई होनी चाहिए।”

बता दें मंगलवार को राजस्थान में रिकॉर्ड 3314 नये पॉजिटिव केस सामने आये हैं। वहीं 19 लोगों की इससे मौत हो गई है। राजधानी जयपुर में एक ही दिन में अब तक के सर्वाधिक 656 कोरोना पॉजिटिव केस सामने आये हैं। इसी के साथ प्रदेश में कोरोना पॉजिटिव मरीजों का आंकड़ा अब 2,50,482 हो गया है। वहीं अबतक 2200 लोगों की मौत हो चुकी है। मंगलवार को अजमेर में 4, जयपुर व जोधुपर में 3-3, अलवर व कोटा में 2-2, भरतपुर, पाली, जालोर, सीकर और उदयपुर में 1-1 कोरोना पीड़ित की मौत हो गई।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 रिपब्लिक टीवी के अर्नब गोस्वामी की मुश्किल बढ़ाने वाले शिवसेना विधायक के यहां ED का छापा
2 अडानी ग्रुप के एयरपोर्ट लीज के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट पहुंची केरल सरकार, हाईकोर्ट खारिज कर चुका है याचिका; जानें पूरा मामला
3 बंगाल की जनता कोरोना से ज्यादा TMC से पीड़ित है, शाहनवाज बोले- वैक्सीन पर राजनीति ना करें ममता बनर्जी
ये पढ़ा क्या?
X