कोरोना के केस घटे, सिर्फ सौ सील क्षेत्र बचे, दक्षिणी दिल्ली में सबसे अधिक 29 इलाकों में पाबंदी जारी

अब तक आई कोरोना की लहर से आम जनता को बचाने के लिए दिल्ली में कुल 87453 इलाकों को निषेध क्षेत्र बनाने की आवश्यकता पड़ी है। इनमें से कुल 87453 को इस श्रेणी से बाहर लाया जा चुका है।

Covid-19, corona cases in delhi
दिल्ली में कोरोना सील एरिया में बंद दुकानें। (PTI Photo)

कोरोना की तीसरी लहर की चेतावनियों के बीच दिल्ली वालों के लिए राहत की बात यह है कि अब दिल्ली के इलाकों में बने छोटे- छोटे निषेध क्षेत्र (सील क्षेत्र) से आजादी मिल रही है। मामलों में कमी आने के बाद अब दिल्ली में ऐसे सील क्षेत्रों की संख्या घटकर केवल 100 रह गई है। हालांकि आठ सितंबर तक की सरकारी रिपोर्ट में यह आंकड़ा गिरकर 99 क्षेत्रों तक आ गया था। दक्षिणी दिल्ली में सबसे अधिक प्रतिबंधित क्षेत्र हैं।

दिल्ली में सरकार ने संक्रमण को नियंत्रित करने के लिए यह निषेध क्षेत्र बनाए थे। इन क्षेत्रों में लोगों की चहल-पहल की मनाही थी ताकि इस संक्रमण के प्रसार को रोका जा सके। आठ सितंबर 2021 तक की सरकारी रिपोर्ट बताती है कि इस समय दिल्ली में उत्तर पूर्व व मध्य जिला ऐसे क्षेत्र हैं, जहां पर एक भी निषेध क्षेत्र नहीं बचा है, जबकि सबसे अधिक निषेध क्षेत्र वाले इलाकों में दक्षिणी दिल्ली शामिल हैं। यहां पर सील क्षेत्र की संख्या 29 है। इस रिपोर्ट में दूसरे नंबर पर पश्चिम व शाहदरा जोन क्षेत्र हैं। जहां पर अभी 14-14 सील क्षेत्र हैं। इसी प्रकार उत्तर में 9, नई दिल्ली में 12, उत्तर पश्चिम में 13, दक्षिण पश्चिम 3, दक्षिण पूर्व में 2 और पूर्व में ऐसे 3 तीन क्षेत्र हैं।

अब तक आई कोरोना की लहर से आम जनता को बचाने के लिए दिल्ली में कुल 87453 इलाकों को निषेध क्षेत्र बनाने की आवश्यकता पड़ी है। इनमें से कुल 87453 को इस श्रेणी से बाहर लाया जा चुका है।

चौबीस घंटे में 36 मामले, कोई मौत नहीं
दिल्ली में कोरोना के 36 नए मामले दर्ज किए गए। राहत भरी खबर यह है कि किसी व्यक्ति की जान नहीं गई। वहीं, 52 लोगों को ठीक होने के बाद अस्पताल से घर भेज दिया गया। दिल्ली सरकार से की ओर से जारी स्वास्थ्य बुलेटिन के मुताबिक दिल्ली में शुक्रवार को 76,883 लोगों की जांच की गई जिनमें से संक्रमण दर 0.05 फीसद रहा। वहीं दिल्ली के विभिन्न अस्पतालों में 251 लोग अभी भी भर्ती हैं। घरों में इस बीमारी के कारण 105 लोग एकांतवास में रह रहे हैं।

मॉरिशस के पूर्व प्रधानमंत्री को कोरोना के इलाज के लिए भारत लाया गया
मॉरिशस के पूर्व प्रधामंत्री नवीन रामगुलाम को इलाज के लिए भारत लाया गया है। उन्हें अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) के ट्रॉमा सेंटर में भर्ती किया गया है। उन्हें कोरोना संक्रमण है। उनके साथ उनकी पत्नी व बच्चे भी हैं। सूत्रों के मुताबिक उनकी हालत स्थिर है। एम्स निदेशक डॉ रणदीप गुलेरिया की अगुआई में डॉ अंजन त्रिखा, डा नीरज निश्चल, डा नवीत विग का दल उनके इलाज व देखभाल का काम कर रहा है। रामगुलाम को गुरुवार को हवाई एंबुलेंस से दिल्ली लाया गया। सूत्रों ने बताया कि उनके आने से पहले उन्हें यहां भर्ती किए जाने की बावत सभी तरह के जरूरी तालमेल किए गए।

पढें राज्य समाचार (Rajya News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट