ताज़ा खबर
 

राहुल गांधी के गोत्र पर गरमाई राजनीति, बीजेपी नेता बोले- हमें मालूम है कि वह फिरोज गांधी के पोते हैं

एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में पूछे गए सवाल के जवाब में भाजपा प्रवक्ता ने कहा कि चुनाव आते ही राहुल गांधी को गोत्र की याद आ जाती है। मजहब की याद आ जाती है। जबकि लोग हिंदू आतंकवाद और भगवा आतंकवाद जैसे शब्दों का इस्तेमाल कर माहौल बिगाड़ रहे हैं।

Author November 27, 2018 10:53 AM
कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी। (Source: INC/ Twitter)

भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता शाहनवाज हुसैन ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी द्वारा खुद को कश्मीरी पंडित बताने पर चुटकी ली है। उन्होंने तंज भरे अंदाज में कहा, ‘राहुल गांधी का जो भी गोत्र बताया जा रहा हो, मगर हम तो यह जानते हैं कि वो मरहूम फिरोज गांधी के पोते हैं और फिरोज कश्मीर पंडित नहीं थे।’ एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में पूछे गए सवाल के जवाब में भाजपा प्रवक्ता ने कहा कि चुनाव आते ही राहुल गांधी को गोत्र की याद आ जाती है। मजहब की याद आ जाती है। जबकि लोग हिंदू आतंकवाद और भगवा आतंकवाद जैसे शब्दों का इस्तेमाल कर माहौल बिगाड़ रहे हैं। बता दें कि राहुल का खुद का गोत्र बताने पर भाजपा के अन्य नेतआों ने भी तीखा वार किया है।

राजस्थान में एक रैली को संबोधित करते हुए उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ ने कहा, ‘आज यहां पर कांग्रेस के अध्यक्ष आए होंगे और मुझे आश्चर्य हो रहा था जब वो सुबह अजमेर शरीफ गए थे तो वहां उन्होंने इस बात को कहा कि मेरा गोत्र हैं।’ राजस्थान के पोखरन में कांग्रेस अध्यक्ष पर तंज कसते हुए योगी ने आगे कहा, ‘राहुल गांधी के परनाना कहते थे कि मैं एक्सीडेंटली हिंदू हूं और उनकी चौथी पीढ़ी में आने वाला व्यक्ति कहता है कि मेरा गोत्र फलाना है। मित्रों ये हमारी राजनीति की केवल वैचारिक विजय ही नहीं, हिंदू शाश्वत है और सत्य है। जो इस बात को प्रदर्शित करता है।’

यूपी सीएम के अलावा केंद्रीय मंत्री साध्वी ज्योति ने भी राहुल गांधी द्वारा अजमेर दरगाह और पुष्कर के ब्रह्मा मंदिर में माथा टेकने, अपना गोत्र बताने पर निशाना साधा है। केंद्रीय मंत्री ने कहा कि ‘राहुल को अपना गोत्र बताने की अब क्या जरुरत पड़ गई। वह 50 साल के होने जा रहे हैं। अब उन्हें अपना गोत्र बताना पड़े, ये बहुत शर्म की बात है। यह सब उनकी नौटंकी है। राजनीति के लिए ऐसा कर रहे हैं। इसमें मंदिर और मस्जिद दोनों का अपमान है।’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App