ताज़ा खबर
 

कांग्रेस ने कहा- मेक इन इंडिया का मतलब विपक्ष के खिलाफ कहानी गढ़ना

कांग्रेस ने आरोप लगाया कि सरकार नागरिक स्वतंत्रता के खात्मे, छात्रों पर हमले, किसान विरोधी, दलित विरोधी और खराब आर्थिक नीति के खिलाफ विरोध को कुचलना चाहती है।

Author नई दिल्ली | Published on: June 2, 2016 2:03 AM
कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी। (पीटीआई फाइल फोटो)

कांग्रेस ने बुधवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर हमला बोलते हुए कहा कि उनके लिए ‘मेक इन इंडिया’ का मतलब विपक्ष के खिलाफ कहानी गढ़ना और कांग्रेस पर आधारहीन आरोप लगाना है ताकि अपनी आर्थिक विफलताओं से लोगों का ध्यान भटकाया जा सके। पार्टी ने कहा कि नेशनल हेरल्ड से अगस्ता वेस्टलैंड और इशरत जहां फर्जी मुठभेड़ तक भाजपा ने खुद को आधारहीन आरोप लगाने में सक्षम साबित किया है। लेकिन वह अपने दावों को सही ठहराने में अक्षम रही है।

कांग्रेस ने बुधवार को अपनी वेबसाइट पर कड़े शब्दों में कहा- अगर गलत कामों का वास्तव में कोई सबूत है तो क्या मोदी सरकार इतनी अक्षम है कि वह दोषियों पर अभियोजन नहीं चलवा सकती। एक मजबूत प्रधानमंत्री, जिसका काम बोलता है और ऐसा प्रधानमंत्री जो बात करने में इतना व्यस्त है कि काम भूल जाता है, के बीच फर्क है।

कांग्रेस और भाजपा के बीच लंदन में रॉबर्ट वाड्रा के बेनामी संपत्ति खरीदने को लेकर जारी आरोप-प्रत्यारोप के बीच कांग्रेस की तरफ से यह हमला हुआ है। वाड्रा की सास व कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने दावा किया कि देश को कांग्रेस मुक्त बनाने के लिए मोदी सरकार एक षड्यंत्र के तहत हर दिन गलत आरोप लगाती है। वाड्रा की कानूनी फर्म ने उनके खिलाफ आरोपों से इनकार किया है।

कांग्रेस ने आरोप लगाया कि सरकार नागरिक स्वतंत्रता के खात्मे, छात्रों पर हमले, किसान विरोधी, दलित विरोधी और खराब आर्थिक नीति के खिलाफ विरोध को कुचलना चाहती है। यह सरकार भारत को अनिश्चितता और अंधकार के युग में ले जा रही है। पार्टी ने कहा- अगस्ता वेस्टलैंड मामले में पाया गया कि संचालन बदलाव अटल बिहारी वाजपेयी के प्रधानमंत्री रहने के दौरान हुआ था। यहां तक कि रक्षा मंत्री मनोहर पर्रीकर को इस मुद्दे पर कदम वापस खींचने पड़े थे। उनके पास कांग्रेस के खिलाफ कोई साक्ष्य नहीं है।

पार्टी ने प्रधानमंत्री मोदी के लिए ‘मेक इन इंडिया का मतलब विपक्ष के खिलाफ कहानी गढ़ना है’ विषय से लेख लिखा है। मोदी सरकार के किसी भी आरोप के सही साबित होने पर सवाल खड़े करते हुए इसने कहा कि नेशनल हेरल्ड का मामला हो या अगस्ता वेस्टलैंड का, सभी मामलों में सरकार ने चुपचाप अपना रुख बदल लिया। सरकार के आरोपों में थोड़ा भी दम होता तो क्या वह कांग्रेस नेताओं पर कार्रवाई नहीं करती। लेकिन उन्होंने ऐसा नहीं किया क्योंकि आरोप निराधार हैं। वे आरोप गढ़ रहे हैं। प्रधानमंत्री मोदी निकट भविष्य में भी आरोप गढ़ते रहेंगे। इसका एकमात्र मकसद आर्थिक विफलताओं से लोगों का ध्यान भटकाना है। मई 2014 में मोदी को भारत को नई ऊंचाइयों पर ले जाने का बड़ा अवसर मिला। लेकिन उन्होंने इस मौके को काम के बजाय अत्यधिक प्रचार और विरोधियों के स्वर को दबाने में गंवा दिया।

पार्टी ने कहा- मोदी की रणनीति है कि कांग्रेस के प्रति मीडिया में मनगढ़ंत कहानियां बनाकर नकारात्मक प्रचार किया जाए और सरकारी कामों का सकारात्मक प्रचार किया जाए, जो कभी हुए ही नहीं। भाजपा मीडिया में मनगढ़ंत कहानियां बनाकर भद्दे तरीके से सोनिया गांधी पर हमला कर रही है। हाल का मामला इशरत फर्जी मुठभेड़ का है, जहां केंद्रीय मंत्रियों ने सार्वजनिक बयान देकर कहा कि गुजरात के तत्कालीन मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी को गलत तरीके से निशाना बनाने में सोनिया की संलिप्तता के संकेत मिलते हैं। लेकिन उन्होंने इस बात पर गौर नहीं किया कि दो अदालतों ने पाया है कि इशरत जहां को जिस मुठभेड़ में मारा गया, वह फर्जी थी। मजिस्ट्रेट की जांच में पाया गया कि इशरत निर्दोष थी और इसलिए मारी गई क्योंकि वह मुसलिम थी व आतंकी होने के गुजरात पुलिस के विचार के माकूल थी।

अब गृह मंत्रालय ने भी आरटीआइ के जवाब में पाया कि इस तरह के सबूत नहीं हैं कि सोनिया ने गृह मंत्रालय में हस्तक्षेप किया। कांग्रेस ने आरोप लगाया कि भाजपा ऐसी पार्टी है जो नए आरोप गढ़ती है। इसे वह कुछ हफ्ते तक जारी रखती है और फिर आगे बढ़ जाती है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
ये पढ़ा क्या?
X