ताज़ा खबर
 

जनार्दन द्विवेदी पर कांग्रेस आलाकमान सख़्त, द्विवेदी बोले – नहीं की मोदी का तारीफ

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता जनार्दन द्विवेदी द्वारा की गई प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की प्रशंसा को गंभीरता से लेते हुए पार्टी ने आज संकेत दिया कि वरिष्ठतम महासचिव के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई की जा सकती है। द्विवेदी ने हालांकि कहा कि उन्होंने मोदी की प्रशंसा नहीं की थी और उन्हें गलत ढंग से उद्धृत किया गया […]

Author Updated: January 22, 2015 6:28 PM

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता जनार्दन द्विवेदी द्वारा की गई प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की प्रशंसा को गंभीरता से लेते हुए पार्टी ने आज संकेत दिया कि वरिष्ठतम महासचिव के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई की जा सकती है। द्विवेदी ने हालांकि कहा कि उन्होंने मोदी की प्रशंसा नहीं की थी और उन्हें गलत ढंग से उद्धृत किया गया है।

पार्टी महासचिव अजय माकन ने यहां एक संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘‘द्विवेदी ने जो कहा है वह कांग्रेस के भारतीयता के विचार से पूरी तरह विपरीत है, मोदी की जीत किसी कोने से भारतीयता की जीत नहीं हो सकती।’’

द्विवेदी की आलोचना करते हुए पार्टी के मीडिया विभाग के प्रमुख माकन ने कहा कि पार्टी कड़े से कड़े शब्दों में उनकी टिप्पणी की निंदा करती है। द्विवेदी कुछ समय पहले तक पार्टी के मीडिया विभाग के प्रमुख हुआ करते थे।

माकन ने कहा, अगर कोई प्रधानमंत्री के रूप में मोदी के सात महीने के शासन को देखे और 2002 के गुजरात दंगों को देखे जब मोदी वहां के मुख्यमंत्री थे, ‘‘मोदी कभी भारतीयता के प्रतीक नहीं बन सकते।’’

उन्होंने कहा कि दिल्ली में पिछले सात महीने के राष्ट्रपति शासन में हिंसक अनेक घटनायें देखी गईं जिनमें त्रिलोकपुरी और बवाना की घटनायें शामिल है। उन्होंने कहा, ‘‘कोई कैसे भारतीयता के प्रतीक की बात कर सकता है जिनके नेतृत्व में राष्ट्रीय राजधानी में इस तरह की घटनायें देखी गईं और जिनके मंत्री आपत्तिजनक भाषा बोलते हैं।’’

संवाददाताओं के सवालों का जवाब देते हुए माकन ने यह स्पष्ट किया कि पार्टी का शीर्ष नेतृत्व जनार्दन द्विवेदी के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई पर जल्द निर्णय करेगा। बाद में 69 वर्षीय द्विवेदी ने हालांकि कहा कि उन्होंने कभी मोदी की प्रशंसा नहीं की। उन्होंने कहा, ‘‘मैंने कभी नहीं कहा मोदी भारतीयता के प्रतीक हैं।

यह पूछे जाने पर कि क्या द्विवेदी की टिप्पणी पार्टी के नेतृत्व के साथ टकराव का संकेत है, माकन ने कहा कि टिप्पणी किसी व्यक्ति के खिलाफ नहीं बल्कि कांग्रेस की विचारधारा के खिलाफ है। उन्होंने कहा, ‘‘यह कांग्रेस की विचारधारा और सोच के बिल्कुल विपरीत है।

माकन ने उन सवालों के जवाब को टाल दिया कि क्या द्विवेदी की टिप्पणी की निंदा करने और उनके खिलाफ कार्रवाई किये जाने का संकेत देने से पहले उनसे स्पष्टीकरण मांगा गया है।

यह संकेत देते हुए कि शीर्ष नेतृत्व से हरी झंडी मिलने के बाद ही वह मीडिया से बात कर रहे हैं, माकन ने कहा, ‘‘जो कुछ भी मैं कह रहा हूं वह पार्टी के महासचिव और कम्युनिकेशन विभाग के प्रभारी की हैसियत से कह रहा हूं।’’

माकन के संवाददाता सम्मेलन के बाद द्विवेदी ने मीडिया से अलग से बातचीत करते हुए कहा कि उन्होंने जो कुछ कहा था, उसके पीछे उनकी मंशा क्या थी, इसे ठीक से समझा नहीं गया।

द्विवेदी इस सवाल को टाल गये कि क्या आपके खिलाफ जो कुछ लिखा गया है उसके पीछे आप कोई षडयंत्र देखते हैं और क्या आपने पार्टी नेतृत्व को कोई सफाई दी है । उन्होंने कहा, ‘‘आप जानते हैं, मैं पार्टी के आंतरिक मामलों के बारे में कभी चर्चा नहीं करता।’’

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता का कहना था कि उन्हें बहुत ही गलत ढंग से उद्धृत किया गया है। उन्होंने इस सवाल को भी टाल दिया कि पार्टी द्वारा उनकी टिप्पणी की निंदा किये जाने के मद्देनजर क्या वह अपने पद पर बने रहेंगे।

द्विवेदी ने कहा कि उन्होंने जो कुछ कहा था वह एक वस्तुपरक विश्लेषण था कि 2014 का चुनाव परिणाम मोदी या भाजपा की जीत नहीं है बल्कि यह कांग्रेस की हार है।

एक न्यूज पोर्टल में आये द्विवेदी के इंटरव्यू ने जब उनके भविष्य की कार्य योजना को लेकर अटकलबाजियों को जन्म दे दिया तो द्विवेदी ने यह स्पष्ट किया कि उनके जैसे लोग अपने विचार और निष्ठा नहीं बदलते। ‘‘अगर ऐसा समय आया तो मैं दलगत राजनीति से अलग हो जाऊंगा।’’

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 मोदी सरकार के धार्मिक जनगणना से पता चला: मुसलमानों की आबादी 24% बढ़ी
2 किसके लिए 23 और 26 जनवरी को दिल्ली होगी बदली-बदली?
3 किरण बेदी को मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार बनाना भाजपा का ‘मास्टरस्ट्रोक’: शांति भूषण
ये पढ़ा क्या?
X